छोटे और मंझोले अख़बारों को मार डालेगी मोदी सरकार की नई विज्ञापन नीति

Share Button
Read Time:3 Minute, 28 Second

नई दिल्ली। योगा वोगा के बीच मोदी सरकार ने विज्ञापन नीति बदल कर छोटे और मंझोले अख़बारों को ख़त्म करने की एक नयी कार्यवाही शुरू कर दी है। राहुल सांकृत्यायन ने वेबसाइट्स के विज्ञापन पर भी यही खबर दी।

इस नयी विज्ञापन नीति के तहत एक अंकीय गणित बनाया गया है जिसको पूरा करने पर ही उन्हें विज्ञापन मिलेगा। सबसे पहले तो 25 हजार प्रसार संख्या से अधिक वाले समाचार पत्रों के एबीसी और आरएनआई का प्रमाण पत्र अनिवार्य कर उसके लिए 25 अंक रखे गए हैं।

इसी तरह कर्मचारियों की पीएफ अंशदान पर 20 अंक, पृष्ठ संख्या पर 20 अंक, भाजपा-संघ समर्थक 3 एजेंसियों के लिए 15 अंक, खुद की प्रिंटिंग प्रेस होने पर 10 अंक और प्रेस काउंसिल ऑफ इंडिया की प्रसार संख्या के आधार पर फीस जमा करने पर 10 अंक दिए गए हैं ।

इस तरह 100 अंक का वर्गीकरण किया गया है, जो वर्तमान में 90 फीसदी लघु एवं मध्यम समाचार पत्र पूरा नहीं कर सकते हैं। पर समाचार पत्रों को चुप कराने की यह साजिश क्यों? क्योंकि बड़े अख़बारों को मैनेज कर भाजपा का मुख पत्र बना देना आसान है- हर शहर में एक अखबार हो तो भ्रष्टाचार से लेकर भुखमरी तक रोकने में असफलता कैसे छुपायेंगे? और हाँ- इन अख़बारों के बंद होने पर जो लाखों लोग बेरोजगार होंगे वो?

इसी प्रकरण पर अमर उजाला डॉट कॉम में छपी खबर इस प्रकार है….

“आरएसएस समर्थित समाचार एजेंसियों की सदस्यता लेने पर ही मिल सकेंगे सरकारी विज्ञापन ” 

सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय ने तीन समाचार एजेंसियों के नाम छांटे हैं, नियम के मुताबिक इन तीनों एजेंसियों की सदस्यता लेने पर समाचार पत्रों को अतरिक्त प्वाइंट मिलेंगे। इन अतिरिक्त प्वाइंट्स की मदद से ही समाचार पत्रों को सरकारी विज्ञापन मिल सकेंगे।

‘हिंदुस्तान समाचार’ एक ऐसी समाचार एजेंसी है जिसे बहुत कम लोग ही जानते हैं, इस समाचार एजेंसी को बीजीपी की विचारधारा समर्थित भी कहा जाता है। मंत्रालय ने अपनी सूची में इसे भी शामिल किया है। हालांकि एक लिस्ट आरएसएस ने भी बनाई है।

सरकार ने नया नंबर सिस्टम शुरू किया है जिसके अनुसार डीएवीपी (विज्ञापन और दृश्य प्रचार निदेशालय) के माध्यम से सरकारी विज्ञापन हासिल करने के लिए इन तीनों समाचार एजेंसियों की सदस्यता लेनी पड़ेगी, इनकी सदस्यता लेने पर समाचार पत्रों को प्रत्येक एजेंसी के हिसाब से 15 प्वाइंट मिलेंगे।

0 0
Happy
Happy
0 %
Sad
Sad
0 %
Excited
Excited
0 %
Sleppy
Sleppy
0 %
Angry
Angry
0 %
Surprise
Surprise
0 %
Share Button

Relate Newss:

मंदिर में कंडोम का प्रमोशन करने पर सनी लियोन पर हुई FIR
जादूगोड़ा चिटफंड घोटाले में दैनिक हिंदुस्तान का एक पत्रकार भी शामिल
दुःखी मनमोहन के लिए सड़क पर उतरी सोनिया
ब्रजेश ठाकुर के भाई एवं अखबार के पटना ब्यूरो चीफ झूलन के हाथ में कहां से आया इंसास रायफल
सड़क हादसे के बाद भड़की हिंसा में थाना प्रभारी समेत दो की मौत, दर्जनों घायल
लालू के दावत-ए-इफ्तार में रुबरु हुये नीतीश-मांझी
सन्मार्ग में वापसी के बाद बावरे हो रहे हैं बैजू बाबा
भयभीत मनोरंजन ने राजनामा से कहा, सीएम स्तर से दब रहा है मामला !
गुजरात हो या देश, मोदी राज में बढ़ा बीफ कारोबार
10 जनवरी 2017 तक बिहार में अधिकारियों के तबादले रोक
वर्ष 2006 में ही पकड़ाया था हिन्दुस्तान विज्ञापन घोटाला
बिहार में पत्रकार सम्मान पेंशन योजना की घोषणा, न्यूज पोर्टल भी शामिल
टीएन शेषण के निधन की उड़ी अफवाह, 2 केन्द्रीय मंत्री ने दे डाली श्रद्धांजलि  
ताला मरांडी को लेकर पार्टी-संघ गंभीर, मुन्ना मरांडी हुआ भूमिगत !
इंडियन जर्नलिस्ट एसोसियन द्वारा पत्रकार को झूठे मुकदमा में फंसाने की निंदा
रघु'राज में गरगा पुल से मिली जनजीवन को नई रफ्तार
HC से एम.जे. अकबर मामला में 'NDTV' को कड़ा झटका
मंगनीलाल मंडल पर कार्रवाई, रामविलास पर क्यों नही !
कलाम क्यों नहीं कर पाये 2002 के दंगों के बाद गुजरात दौरा !
आंखों देखी फांसीः एक रिपोर्टर के रोमांचक अनुभव का दस्तावेज
सीएम नीतिश के चहेते जदयू विधायक के गांव में अवैध शराब पर पुलिस का गंदा खेला !
बंद हो मीडिया में राजनीतिक दलों और कॉरपोरेट घरानों का प्रवेश: TRAI
संसद में चर्चा हुई तो पहले पन्ने पर छपा तबरेज, पहले होता था उल्टा !
वरिष्ठ पत्रकार रजनीश कुमार झा संग एक ‘गुंडा छाप’ ने की गाली-गलौज, दी सरेआम जान मारने की धमकी
बिहार के नतीजों पर वर्ल्ड मीडिया ने लिखा- अपनी क्षमता खो चुके हैं पीएम मोदी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Loading...