गुमला में बन रहा है फर्जी आधार कार्ड

Share Button

gumla_eaadhar1झारखंड के गुमला जिले में फर्जी आधार कार्ड बना कर लोगों से धोखा हो रहा है। शहर के कई कंप्यूटर केंद्र में फरजी कार्ड बनाने का खेल चल रहा है। यहां तक कि बिना ऑनलाइन के आधार कार्ड में सुधार भी हो रहा है।

आधार कार्ड की जरूरत को देखते हुए लाभुक भी फरजी कार्ड बनवाने को बाध्य हैं। यह कारनामा कोई एक दिन का नहीं है। बल्कि महीनों से चल रहा है।

एक कार्ड बनाने में डेढ़ से दो सौ रुपये लिया जा रहा है। वहीं सुधरवाने में 50 से 100 रुपये लिये जा रहे हैं। शहर के पालकोट रोड स्थित कंप्यूटर केंद्र में जाली आधार कार्ड सबसे ज्यादा बनाये जा रहे हैं।

मामले का खुलासा तब हुआ, जब कुछ लाभुक बैंक में खाता खुलवाने गये थे। जांच में पता चला कि फरजी आधार कार्ड है। वहीं मनरेगा से आधार कार्ड को लिंकेज करने में भी मामला सामने आ रहा है।

ऐसे बन रहा फरजी कार्ड :gumla_eaadhar

कंप्यूटर संस्थान आधार कार्ड को फोटो शॉप में लेकर जाकर उससे छेड़छाड़ कर रहे हैं।  अगर किसी को नाम सुधरवाना है, तो दो मिनट में नाम चेंज किया जा रहा है।  फोटो भी मिनटों में बदल रहा है।

किसी दूसरे के आधार कार्ड पर अपना नाम व फोटो चढ़वाना है, तो वह खेला भी चल रहा है।

चार स्थानों पर बन रहा कार्ड :

गुमला में चार स्थानों पर ऑरिजनल व ऑनलान आधार कार्ड बन रहा है।  इनमें टोटो, कतरी, सिलाफारी व कसीरा पंचायत है।  जहां प्रज्ञा केंद्र के माध्यम से आधार कार्ड बनाया जा रहा है।

……. गुमला से शंभू नाथ सिंह की रिपोर्ट

Share Button

Relate Newss:

अब नहीं रहे आउटलुक के संस्थापक संपादक विनोद मेहता
ओझागुनियों से रोज थाने में लगवाएं हाजरी :रघुवर दास
टीवी चैनलें बढ़ा रही है बाबाओं का कारोबार
रिपोर्टर आरजू बख्स को इजलास नोटिश से नालंदा पुलिस का उभरा विकृत चेहरा
आजादी के हनन  को लेकर  नॉर्थ ईस्‍ट इंडिया के 6 प्रमुख अखबारों  के एडिटोरियल स्‍पेस ब्लैंक्स
चमरा लिंडा की गिरफ्तारी में झलकी तानाशाही मानसिकता
बिहार चुनाव हार के बाद मोदी सरकार का बड़ा फैसला, मीडिया में 26 कीजगह 49 फीसदी होगा विदेशी निवेश
जेल से छूटते ही बंजारा बोले, 'आ गए अच्छे दिन'
नीतिश के गृह क्षेत्र में नवनिर्वाचित महिला मुखिया की हत्या
अंततः वरिष्ठ पत्रकार आशुतोष को भी 'आप' न आई रास, दिया यूं इस्तीफा
सीएम नीतीश को अपने गाँव के लोगों ने पटना में दिखाया सुशासन का आयना
फर्जी शिक्षकों को पटना हाई कोर्ट का ऑफर, 7 दिन में पद छोड़े या अंजाम भुगतें !
देवी की दिव्य माहवारी, हमारे लिए बीमारी !
मौन है लखनऊ के दल्ले पत्रकारों की कलम !
मशहूर सिने-टीवी लेखक धनंजय कुमार की 'नीरज प्रताड़ना' पर दो टूकः आत्ममुग्ध नीतीश बाबू के सुशासन में प...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Loading...
loading...