गुमला की मीडिया में सड़ांध पैदा कर रखा है ईटीवी का रिपोर्टर!

Share Button

वेशक मीडिया में वह ताकत होती है कि किसी सरकार को पलट दे।  किसी को फर्श से अर्श तो किसी अर्श से फर्श पर पहुँचा दे।  लेकिन मिडिया अगर कागज के चंद टुकड़ों पर बिक जाये तो आप समझ सकते हैं, उसके नतीजे कितने भयावह ओर दूरगामी  हो सकते हैं।

जी हां, हम बात कर रहे हैं गुमला के कुछ गिनती के बिकाऊ उन पत्रकारों की, जो सुबह से शाम तक कैमरा टांगकर लोगों का भया दोहन करते फिरते हैं।

 ई  टीवी, बिहार झारखण्ड जैसे खबरिया न्यूज चैनल के रिपोर्टर शुशील  कुमार सिंह, जो पत्रकारिता कम अफसरों की द्लाली अधिक ‌करता फिरता है, पुरे जिले के इंजीनियर, बीडीओ यहाँ तक कि कई थाना क्षेत्रों की  पुलिस भी उसके रवैया से  खासे परेशान दिख रहे हैं।

media2आपको आश्चर्य होगा कि यह रिपोर्टर आज के डेट में करोड़पति है। | रांची के चुटिया में एक आलिशान फ्लैट खरीद रखा है।  इतना ही नहीं इसने पटना और रांची में करोड़ों की नामी बेनामी सम्पती अर्जित कर रखी  है। यह पैसा लेकर खुद तो समाचार नहीं भेजता है, दूसरे मीडिया कर्मिंयों  को भी समाचार भेजने से रोकता है।  ओर उन पत्रकारों के नाम पर भी सम्बंधित पक्ष से  धन की उगाही करता है।

 इनके गोरखधंधे की बानगी की एक झलक पाठकों के समक्ष प्रस्तुत है……पत्रकार एवं समाजसेवी  गुमला निवासी शम्भू नाथ सिंह ने  विगत 9 फरवरी,2015 को कुछ इंजीनियर एवं अफसरों पर सरकारी राशी के दुरुपयोग एवं गवन से सम्बंधित  मुक़दमा दायर किया गया।

कोर्ट ने सभी पर प्राथमिकी दर्ज करने का आदेश दिया है।  मीडिया की  गरिमा को  कलुषित (गंदा) करने वाले शुशील कुमार और अश्वनी कुमार ने  परिवादी शम्भू नाथ सिंह  से  केस से जुड़े सारे कागजात लेते हैं, उनका  बाईट लेते हैं और सम्बंधित एक अभियुक्त जिनकी पोस्टिंग चाईबासा में है, उसको फोन कर सौदा कर लेते हैं। मामला ४५ लाख का था सो डील ६० हजार में हुवा।  

गेटिंग सेटिंग के माहिर खिलाडी  शुशील कुमार सिंह ने अभियुक्तों की ओर से उनको  बचाने के लिए पुलिस को पटाने का जिमा ले लिया है।  यह  बिकाऊ ओर बेशर्म पत्रकार  हैं।  ऐसे मीडिया कर्मियों से आप  क्या भरोसा कर सकते हैं। इन्होंने ठान रखा है कि ये सुधरने वाले नहीं हैं।  इनकी   हरकत से  हर आम ओर ख़ास अजीज आ  चुका है।

(गुमला के एक समाजसेवी द्वारा राजनामा.कॉम को भेजी गई सूचना )

Share Button

Relate Newss:

खुदकुशी नहीं, मीडिया और राजनीति का भद्दा मजाक !
सामंतवादी दबंगों का अमानवीय कहर
जगन्नाथपुर सीटः 'पंचमंगल' के फेर में फंसी 'मधु' की 'गीता' !
इधर मौत पर मातम, उधर इन्साफ पर मातम !
यह रही मोदी सरकार की वेबसाइट विज्ञापन नीति
'गोरा katora' नहीं हुजूर, लोग कहते हैं 'घोड़ा कटोरा'
बगावत नहीं, धोखा है मांझी के कारनामें :नीतिश कुमार
अखबारों और चैनलों के सीले होठ और चूं-चूं का मुरब्बा बना झारखंड सीएम जनसंवाद केन्द्र
मना करने पर आठ फीट उंचे गेट यूं फांद अंदर घुसी रांची एसडीओ की पत्नी !
हरिबंश को मिली चाटुकारिता का ईनाम
फर्स्ट पोस्टिंग में ही रिश्वत लेते पकड़ा गया यह IAS
सूट-बूट में वेटर लगते हैं अरुण जेटलीः सुब्रमण्यम स्वामी
दैनिक हिंदुस्तान के जिलावार अवैध संस्करणों में सरकारी विज्ञापन पर रोक
'इंडियाज़ डॉटर' एक ग्लोबल समस्या के प्रति जागरूकता अभियानः बीबीसी
बिहार का 'डीएनए' ही ऐसा है कि विश्व नेता को जिला नेता भी न रहने दिया

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Loading...
loading...