खबर ब्रेकिंग की होड़ में न्यूज चैनलों की मूर्खता देखिये, लालू को यूं बता दिया बरी

Share Button

रांची में चारा घोटाला मामले में लालू यादव के बरी हो जाने की गलत खबर जिस तरह से कई चैनलों पर चली वो हर कीमत पर खबर पहले ब्रेक करने की उसी होड़ का नतीजा है जो दिनों दिन इलेक्ट्रॉनिक मीडिया में बढ़ती ही जा रही है।

सीनियर आईपीएस अधिकारी नटराजन पर यौन शोषण के आरोप से जुड़े मामले पर भी आज ही फैसला आना था। नटराजन के वकील ने जैसे ही कोर्ट से बाहर आकर विक्ट्री साइन दिखाया और एक्विटल कहा कि कई रिपोर्टर्स ने उसे लालू का वकील समझकर लालू यादव के बरी होने की गलत खबर ब्रेक कर दी।

किसी ने आगे ये सुनने और समझने की जरूरत नहीं समझी कि वकील किसके एक्विटल की बात कह रहा है और वकील किसका है। खबर पहले ब्रेक करनी है सो रुकने और इंतजार कर पूरे मामले को समझने की फुर्सत किसके पास है।

हालांकि थोड़ी देर बाद ही खबर को सुधार लिया गया लेकिन भद तो पिट गयी न, क्या जरूरत थी कुछ सेकेंड के लिए गलत खबर ब्रेक कर अपने ऊपर बने भरोसे को कम करने की।

इन्हीं चैनलों की खबर को देखकर पटना में भी लालू यादव के घर के बाहर जश्न शुरू हो गया। इसी भ्रम में लालू के बड़े बेटे तेजप्रताप भी घर से बाहर आ गए और समर्थकों से शांति बनाए रखने को कहकर अंदर चले गए।

दरअसल ये भी सच है कि रिपोर्टर्स पर हेडऑफिस की तरफ से सबसे पहले खबर ब्रेक करने का काफी दबाव भी होता है और ऐसे ही दबाव की वजह से ऐसी गलतियां भी होती हैं।

संपादकों को भी सोचना होगा कि क्या खबर पहले ब्रेक करने का इतना अधिक दबाव रिपोर्टर्स पर बनाने की वाकई जरूरत है ? एक मिनट का फर्क क्या वाकई इतना कुछ नुकसान पहुंचा देगा चैनल को जिसके लिए ऐसा रिस्क लेने की जरूरत हो।

हालांकि खबरों को लेकर रिपोर्टर्स की भी जिम्मेदारी जरूर बनती है कि वो सही खबर बताये लेकिन सबसे तेज होने के दबाव में खड़ा रिपोर्टर जिस मनः स्थिति में रिपोर्टिंग कर रहा होता है उसमें ऐसे खतरे की गुंजाइश तो बनी ही रहेगी।

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

Related Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Loading...