क्या हम बिहारी मराठी तमिलियन मणिपुरी नहीं हो सकते ?

Share Button
Read Time:2 Second

ये चाहते हैं सिर्फ बैल या शेर ही रहे।  क्या ये संभव है ?  और अगर संभव भी है तो क्या हम अपनी विरासत के साथ न्याय कर पायेंगे…………”

-:  सिने-टीवी लेखकः धनंजय कुमार :-

भारत विविधताओं का देश है। अलग रंग, अलग रूप, अलग बोली, अलग खानपान, अलग पहरावा, अलग धर्म, अलग संस्कृति और जीवन जीने को अलग विचार। यही भारत की सुन्दरता है और एकता है।

लेकिन कुछ लोगों को उन्माद का दौरा बाबा के ज़माने से पड़ते आ रहा है, आनुवंशिक रोग की तरह। विविधता को ख़त्म कर सब एकरंग करना चाहते हैं। एक भाषा, एक विचार, एक पहरावा, एक खानपान।

उसी का नतीजा है कि तनाव बढ़ता जा रहा है। न सिर्फ जम्मू कश्मीर पूर्वोत्तर में नागालैंड और मणिपुर में भी भेद बढ़ता जा रहा है।

सवाल है। क्या ज़बरदस्ती किसी पर शासन किया जा सकता है ?  बन्दूक लेकर गाँव-शहर और देश जीतने का समय बीत चुका है। अब आर्थिक दौर है। दुनिया सिमट चुकी है। जिसको जहाँ बेहतर अवसर दिख रहा है, पलायन कर रहा है।

इन्डियन और अमेरिकन अब केवल इन्डियन और अमेरिकन नहीं रहे, इंडो-अमेरिकन हो रहे हैं। हम बिहारी रहने में सुख ज्यादा महसूस कर रहे हैं। क्या हम बिहारी-मराठी नहीं हो सकते? कश्मीरी-तमिलियन नहीं हो सकते? बांग्ला-मणिपुरी नहीं हो सकते ?

हो सकते हैं और हो रहे हैं, लेकिन कोई अगर कहे कि सिर्फ बिहारी ही रहेगा, तो सब गुड़ गोबर हो जाएगा। ये यही करने पर तुले हैं।

गांधी इस देश के सबसे बड़े नायक इसलिए नहीं हैं कि उनके नेतृत्व में देश आज़ाद हुआ, बल्कि सबसे बड़े नायक इसलिए हैं कि वो सबका सम्मान करना जानते थे। सबको साथ लेकर चलने के हिमायती थे।

ब्राह्मण हो या डोम, तमिल हो या कश्मीरी सबको एक सामान समझते थे और सब एक साथ चले इसके पक्षधर थे।

इसीलिये गांधी ने शासन के बजाय स्वशासन पर जोर दिया। रंग और विचार के बजाय सह अस्तित्व पर बल दिया। सह अस्तित्व ही हमारी विरासत है।

लेकिन जो गांधी के सह अस्तित्व के विचार के समर्थक नहीं हैं, वो न तो अच्छे इंसान हैं और ना ही हिन्दू। भगवान शिव का परिवार सह अस्तित्व का सबसे अनोखा और सुन्दर उदाहरण है, जहां जानवर भी साथ साथ रहते हैं।

सांप, चूहा, मोर, बैल और शेर सब एक दूसरे के दुश्मन हैं, लेकिन सब साथ रहते हैं। यही प्रकृति है।

लेकिन ये चाहते हैं सिर्फ बैल या शेर ही रहे।  क्या ये संभव है ?  और अगर संभव भी है तो क्या हम अपनी विरासत के साथ न्याय कर पायेंगे।

नेहरू और पटेल गांधी के विचारों को आगे बढाने और साकार करने वाले नेता थे। लेकिन इनको गांधी और नेहरू दोनों से नफ़रत है। और नफ़रत है उनके तमाम किये धरे से।

पटेल से इसलिए दोस्ताना जताते हैं, ताकि नेहरू और गांधी पर उनकी ओट लेकर हमला कर सकें। लेकिन ऐसे में यह समझ नहीं पा रहे कि गांधी-नेहरू और पटेल ही थे, जिन्होंने भारत के टुकड़ों को जोड़ा और भारत को खडा किया।

0 0
Happy
Happy
0 %
Sad
Sad
0 %
Excited
Excited
0 %
Sleppy
Sleppy
0 %
Angry
Angry
0 %
Surprise
Surprise
0 %
Share Button

Relate Newss:

राज्य सूचना आयोग ने कॉलेज के प्राचार्य को सशरीर शपथ पत्र के साथ किया तलब
वरिष्ठ पत्रकार अरुण साथी सड़क हादसे में गंभीर रूप से जख्मी
भांग खाकर ऐसे समाचार छाप रहा है दैनिक खबर मंत्र का तंत्र ?
झारखंड जर्नलिस्ट एशोसिएशन की बैठक में पत्रकार एकता पर बल
श्रीकांत प्रत्युष ने जी न्यूज़ से इस्तीफा दिया
पीटीआई और भाषा में हर साल करोड़ों का घपला !
गीतकार समीर को मिला राष्ट्रीय किशोर कुमार सम्मान !
पत्रकार प्रताड़ना को लेकर यूं मुखर हुए पूर्व विधायक अनंत राम टुडू
कैलाश सत्यार्थी के नोबल पुरस्कार पर उठे सबाल
13 अक्टूबर को रजत जयंती समारोह मनाएगा पटना दूरदर्शन केन्द्र
जो पत्रकार JJA से नहीं जुड़े, उन्हें संगठन पर टिप्पणी का अधिकार नहीं
'पा लो ना' की पहल से समाज का उत्थान संभव : अर्जुन मुंडा
झुमरी तिलैया में बनेगा झारखंड का पहला ग्राम न्यायालय
बेउर जेल में बंद कुख्यात रीतलाल के घर पहुंचे लालू
नहीं रहीं वरिष्ठ पत्रकार रजत गुप्ता की अर्द्धांग्नि रविन्द्र कौर
एडीएम ने महिला सहायक को फेसबुक-ईमेल से लगातार भेजे अश्लील फोटो, FIR दर्ज
ABC ने समाचार पत्र-पत्रिकाओं भेजे ये कड़े निर्देश
NDA जीती तो प्रेम कमार होगें भाजपा के CM
डिजीटल ‘वायर' में फंसे भाजपा के 'शाह'
टाइम्स नाऊ पर चला एनबीएसए का डंडा, जुर्माना सहित माफी मांगने के आदेश
दैनिक भास्कर टीम की इस ठगी को लेकर आक्रोश, उठी कार्रवाई की मांग
मोदी, शाह और राजनाथ ने बिहार चुनाव में रैलियों का लगाया रिकार्ड शतक
सीओ, बीडीओ, थाना प्रभारी, समाजसेवी और पत्रकार ने एनएचएआई के दावे को किया खारिज
सनसनी मचा रखी है पूर्व मंत्री व जदयू विधायक की यह वीडियो
रांची नगर निगमः 2 मिनट में 920 करोड़ का बजट पास !

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Loading...
mgid.com, 259359, DIRECT, d4c29acad76ce94f
Close
error: Content is protected ! www.raznama.com: मीडिया पर नज़र, सबकी खबर।