किस लालच-दबाव में रिपोर्टर नीरज के पिछे पड़ी है नालंदा पुलिस?

Share Button
Read Time:12 Second

एक्सपर्ट मीडिया न्यूज नेटवर्क डेस्क/मुकेश भारतीय।  बचपन में प्रायः चौक-चौराहों पर एक राजनीतिक नुक्कड़ नाटक देखने को मिलता था-क्या जनता पागल हो गई है। वामपंथ द्वारा यह नुक्कड़ नाटक तात्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी के आपातकाल को रेखाकिंत करती थी। लेकिन आज यदि हम बिहार की बात करें, खासकर सीएम नीतीश कुमार के गृह जिले नालंदा की बात करें तो महज एक ही थीम उभरती है- क्या पुलिस पागल हो गई है।

जी हां, क्या पुलिस पागल हो गई है। अपनी सात नस्लों के भविष्य सुरक्षित की दिशा में काली कमाई करने में मशगुल पुलिस के अजीबोगरीब कारनामे सामने आ रहे हैं। कई थानेदारों ने तो हद कर रखी है। उन्हें सिर्फ पैसा चाहिए। थानों को दलालों का अड्डा बना कर रख छोड़ा है। पहले स्थितियां इतनी विकट नहीं थी।

ऐसी विकृतियां हाल के कुछेक वर्षों में हद तक बढ़ी है। किसी आम जन से भी बात करो। सीएम की तारीफ होती है, लेकिन तरह-तरह के अपशब्दों के साथ कि इनके राज में पुलिस-प्रशासन में निकम्मे और भ्रष्ट लोग नीचे से उपर तक यहां हावी हैं।  

बीते परसों देर शाम राजगीर थानाध्यक्ष ने एक विक्षिप्त युवक से जबरन एक फर्जी शिकायत लिखवा कर हमारे एक्सपर्ट मीडिया न्यूज नेटवर्क से जुड़े रिपोर्टर नीरज कुमार को अस्पताल से उठाकर हाजत में बंद कर दिया और अगले दिन गंभीर धाराएं लगा कर जेल भेज दिया। थानाध्यक्ष की इस कारस्तानी में वहां के डीएसपी और सर्किल इंसपेक्टर की भी भूमिका काफी संदिग्ध है।

नीरज को पिछले माह भी एक प्रशासनिक शाजिस के तहत जेल भेज दिया गया था। वह बीते परसों शाम ही उस मामले में रिहा होकर घर लौटा था और उसकी भीषण गर्मी में तबियत खराब होने के कारण उसे अस्पताल में भर्ती कराया गया था। इसकी जानकारी पुलिस को जैसे ही मिली, उसने कुछ युवकों को भेज नीरज से उलझवा दिया और बाद में उसी में एक विक्षिप्त टाइप के युवक से फर्जी शिकायत लिखवा लिया।

धनंजय नामक उस युवक के पिता विनोद प्रसाद गुप्ता साफ कहते हैं कि राजगीर थानाध्यक्ष उनके अर्धविक्षिप्त पुत्र का व्यक्तिगत खुन्नस में इस्तेमाल कर रहा है। किसी तरह की कोई घटना उनके या उनके परिवार के किसी सदस्य के साथ नहीं हुआ है। लूट, रंगदारी, छिनतई, मारपीट की घटना सब कोर कल्पित है।

थानाध्यक्ष संतोष कुमार ने उनके पुत्र का कुछ थाना के दलालों से प्रभावित होकर यह सब करवाया है। नीरज एक अच्छा युवक है। उसके साथ बहुत गलत हुआ है।

श्री गुप्ता ने कहा कि उन्हें आज ही पता चला है कि राजगीर थानाध्यक्ष संतोष कुमार ने इसके पूर्व भी उनके पुत्र को बहका कर नीरज के खिलाफ वैसा ही एक मुकदमा पहले भी करवा चुका है।

उधर, बीते परसों देर शाम नीरज की गिरफ्तारी के समय पुलिस ने जिस युवक को गवाह बनाया है, उसका भी साफ कहना है कि वह इस मामले में कुछ नहीं जानता। उसके सामने कोई गिरफ्तारी नहीं हुई है। राजगीर थानाध्यक्ष ने उसका नाम खुद से डाल दिया है। जबकि उसने ऐसा गलत करने से रोका था। फिर थानाध्यक्ष संतोष कुमार ने यह कहकर उनका नाम डाल दिया कि कुछ नहीं होगा। ऐसे ही लिख रहे हैं।

कल देर शाम नीरज की न्यायिक पेशी के दौरान श्री गुप्ता और जबरन गवाह बनाए गए युवक यानि दोनों ने एक साथ सत्र न्यायाधीश के सामने वही बात दोहराई, जैसा कि दोनों ने मीडिया को बताई।

बहरहाल, राजगीर पुलिस बिल्कुल नकरा और निकम्मा है। अपनी खामियों का आयना देखना उसे पसंद नहीं आता। कुछ सड़क छाप दलालों और नेताओं के ईशारे पर नंगा नाच करता है। अवैध शराब, बालू की आमदनी के साथ फर्जी मुकदमों के चढ़ावे से वह मदमस्त हो गई है। नालंदा पुलिस कप्तान को भी दिखता है, जैसा कि उनके निकम्मे अधिनस्थ लोग दिखाते हैं।

इधर एक्सपर्ट मीडिया न्यूज नेटवर्क की ओर से सप्रमाण जानकारी बिहार डीजीपी गुप्तेश्वर पांडेय को दे दी गई है। उन्होंने नालंदा एसपी को सारे मामले की उचित जांच कार्रवाई करने का निर्देश दिया है। अब देखना है कि इस मामले में कहां तक न्यायोचित जांच-कार्रवाई होती है।   

कहते हैं उस युवक के पिता, जिससे राजगीर थानाध्यक्ष ने नीरज पर फर्जी मुकदमा कराया है…..    

बताता है वह युवक, राजगीर थानाध्यक्ष ने जिसके समक्ष फर्जी गिरफ्तारी दिखाई है……

0 0
Happy
Happy
0 %
Sad
Sad
0 %
Excited
Excited
0 %
Sleppy
Sleppy
0 %
Angry
Angry
0 %
Surprise
Surprise
0 %
Share Button

Relate Newss:

मैं कलम का सिपाही हूं, मेरी प्यारी कलम आज उनकी जय बोल
हरिवंश जी, आपके पास है इसका जबाब ?
22 फरवरी को सीएम पद की शपथ लेगें नीतिश कुमार
सजायाफ्ता के हाथ खुले और विचाराधीन के हाथों हथकड़ी !
युवा पत्रकार मनोज सिंह ने लिखा- मीडिया में 'तल्लूचट्टू' भी एक बीट है!
बिहार को ललकारने वाले मोदी को घुटने टेकने पड़े :नीतिश
नंगे पांव एके-47 लेकर सिंघम दिखे रांची एसएसपी, 3 शार्प शूटरों को कराया यूं सरेंडर
67 साल बाद भी झारखंड के गांवों में मौजूद है गरीबी और शोषण :रघुवर दास
मोदी की नीतियों के आलोचक छात्र समूह APSC पर IIT का बैन !
धन्य है भारत की कारपोरेट मीडिया के मालिक-संपादक
मरांडी जी ने किया था 50 करोड़ रु. माफ
ऐरा-गैरा नत्थू-खैरा भी खेल रहे यूं मीडिया कप क्रिकेट!
बिहार का हक है विशेष राज्य का दर्जा :राज्यपाल
रिटायर्ड सिपाही का बेटा लेफ्टिनेंट बन नगरनौसा का नाम किया रौशन
योग सुंदरी से यूं शीर्षासन करा रहे हैं झारखंड के अधिकारी
अफसरों को हड़काने की जगह यूं आत्ममंथन करें सीएम
सीएनटी-एसपीटी में संशोधन पर पुनर्विचार करेगी भाजपा !
मोदी और शरीफ के बीच काठमांडू में हुई थी गुप्त बैठक
पीएम मोदी को दी मीडिया एडवाइजर रखने की सलाह
यहां संपादक से रिपोर्टर तक अंधे हैं साहब
मुखबिर और ठग है दैनिक भास्कर का पत्रकार सुबोध मिश्रा !
कहाँ से लावुं मैं हाथी का अंडा ?
प्रेस क्लब रांची की नई कमिटी की बैठक में पेंडिंग आवेदनों पर नहीं हुई कोई चर्चा
राजगीर एसडीओ की यह लापरवाही या मिलीभगत? है फौरिक जांच का विषय
डोनाल्ड ट्रंप से बेहतर हैं नरेंद्र मोदी : कन्हैया

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Loading...
mgid.com, 259359, DIRECT, d4c29acad76ce94f
Close
error: Content is protected ! www.raznama.com: मीडिया पर नज़र, सबकी खबर।