ऑर्गनाइजर के जरिए संघ की नसाहत- ‘संगठन का पुनर्गठन करे भाजपा’

Share Button

भाजपा की दिल्ली यूनिट पूरी तरह से नाकाम रही। जिस तरह आप ने 62 सीटें जीतकर विपक्ष का सफाया कर दिया, उसे देखते हुए भाजपा को जमीनी स्तर पर बदलाव करने होंगे…”

राज़नामा डेस्क. दिल्ली चुनाव में भाजपा की हार के बाद संघ ने भाजपा को नसीहत दी है। राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) के अंग्रेजी मुखपत्र ऑर्गनाइजर में लिखा गया है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और गृह मंत्री अमित शाह हमेशा भाजपा की मदद नहीं कर सकते।

भाजपा को संगठन का दोबारा से पुनर्गठन करना होगा, ताकि विधानसभा स्तर के चुनावों के लिए स्थानीय नेता तैयार किए जा सकें।

मुखपत्र में यह भी कहा गया कि कोई खराब उम्मीदवार सिर्फ इसलिए अच्छा होने का दावा नहीं कर सकता क्योंकि वह जिस पार्टी से ताल्लुक रखता है, वह अच्छी है। सच तो यह है कि जो खराब है, वह खराब ही रहेगा।

ऑर्गनाइजर में ‘डेल्ही डाइवर्जेंट मेंडेट’ शीर्षक से लेख छपा है। इसके मुताबिक, ‘‘दिल्ली के बदलते चरित्र में ही जवाब छिपा है। भाजपा के लिए शाहीन बाग का मुद्दा फेल रहा, क्योंकि अरविंद केजरीवाल ने इसे खत्म कर दिया।’’

इससे पहले संघ और विश्व हिंदू परिषद ने कहा था कि हिंदूवादी राजनीति के चलते केजरीवाल को अपना ट्रेंड बदलना पड़ेगा।

लेख में यह भी कहा, ‘‘नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) के बहाने प्रयोग किया गया मुस्लिम कट्टरपंथ का जिन्न केजरीवाल के लिए एक नया परीक्षण आधार बना सकता है। अब केजरीवाल इस खतरे का सामना कैसे करेंगे? वे हनुमान चालीसा से दूरी कैसे बनाएंगे? केजरीवाल भ्रष्टाचार के मुद्दे को अगले चरण तक कैसे ले जाएंगे? इस तरह के कई सवाल दिल्ली वाले उनसे पूछेंगे।’’

ऑर्गनाइजर के एडिटोरियल में यह भी लिखा गया, ‘‘जनसंघ के जमाने से भाजपा का दिल्ली में ठोस जनाधार रहा। जब दिल्ली में बाहर से आने वाले लोग बढ़े (खासकर झुग्गी), तो कांग्रेस ने इन्हें रियायतें देकर अपना बना लिया। आप के भ्रष्टाचार निरोधक आंदोलन के बाद मध्यम वर्ग और झुग्गीवासी आप के हो गए।’’

लेख में साफ संदेश दिया गया है कि दिल्ली की करारी हार के बाद भाजपा को ‘रोड़ा’ बने अपने महासचिवों के बारे में भी सोचना होगा।दिल्ली के भाजपा प्रमुख मनोज तिवारी की क्लास तो राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा और महासचिव बीएल संतोष लगा ही चुके हैं।

Share Button

Relate Newss:

पलामू के हुसैनाबाद में अब तक एचआइवी के 173 मरीज मिले
हिंदी पत्रकारिता दिवस: बिहार में साहित्यिक पत्रकारिता का विकास
जागरण.कॉम के संपादक शेखर त्रिपाठी को मिली जमानत
एक प्रेम-प्रसंग को लेकर यूं गेम खेल गई पटना-नालंदा की कंकड़बाग-चंडी पुलिस
जून में ही कर दी थी अर्णब गोस्वामी की भविष्यवाणी !
महादलित महिला के काटे बाल, मुंह पर पोती कालिख, गले में चप्पल डाल सरेआम घुमाया, भीड़ तमाशबीन
टीपू सुल्तान जयंती समारोह को लेकर हुई हिंसक झड़प में विहिप कार्यकर्ता की मौत
दैनिक जागरण के इस इंटरनल मेल ने खोली मीडिया की यूं कलई
बिहार का 'डीएनए' ही ऐसा है कि विश्व नेता को जिला नेता भी न रहने दिया
पढ़ेंः मीडिया की जड़ उधेड़ती नैतिकता

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Loading...