आखिर कब टूटेगा सामंतवाद का यह अफीमी नशा

Share Button

उत्तर प्रदेश की यह एकमात्र घटना नहीं है। इस तरह की घटनाओं की श्रृंखला काफी लंबी हो चली है। लेकिन जब तक कोई शांति दूत कहानी की हिस्सा ना हो, लोगों की अफीमी नशा टूटता ही कहां है।

1
उत्तर प्रदेश के ग्रेटर नोयडा में पूरे परिवार को सरेआम नंगा कर दिया गया। लेकिन सोशल साइट को छोड़ खासकर न्यूज चैनलों ने कोई महत्व नहीं दिया। शायद इसलिए कि मीडिया पर सामंतवादी शक्तियां कायम है। गरीब दलितों की चित्कारें उनके लिए कोई मायने नहीं रखती।

आज लोहिया उत्तर प्रदेश में अपने चेलों का समाजवाद देख कर रो रहे होंगे । रूह कंपा देने वाली यह घटना नोएडा के दनकौर थाना क्षेत्र की है । जहाँ पुलिस ने एक दलित सुनील गौतम के परिवार को इस तरह नंगा कर दिया और वहाँ उपस्थित भीड़ हिजड़ों की तरह खड़ी तमाशा देखती रही ।

क्या कहेंगे इसे आप ? यही ना की भीड़ नपुंसक होती है और उसका नेतृत्व करने वाला हिजड़ों का सरगना ज़रा देखिए इस भीड़ को और थूकिए इन पर ।

2ग्रेटर नॉएडा के दनकौर थाने के प्रभारी प्रवीण यादव पर आरोप लगे हैं कि उन्होंने धरने पर बैठी महिला के साथ मारपीट कर निवस्त्र कर दिया । सुनील गौतम निवासी अट्टा के साथ परसों शाम लूट हो गयी थी । इसी मामले में गिरफ्तारी के लिए अपने परिवार के साथ दनकौर थाने गए थे ।

आरोप है कि तभी भीड़ देखकर थाना प्रभारी आग बबूला हो गए और गिरफ्तारी की मांग करने वालों के साथ मारपीट करते हुए महिला के साथ बदसलूकी की व कपडे फाड़ दिए। इस मामले की कुछ फ़ोटो हमारे पास है जिसमें महिला निवस्त्र है और थाना प्रभारी महिला से उलझते दिख रहे हैं और थाने का एक अन्य पुलिसकर्मी बीच बचाव कर रहा है।

3प्रश्न यह उठता है कि सिविल वर्दी में ही बिना महिला कांस्टेबल के प्रभारी साहब को महिलाओं से भिड़ने की क्या आवश्यकता थी ?

आखिर गिरफ्तारी की मांग करने वालों को थाना प्रभारी आश्वाशन दे कर भी भेज सकते थे ?

वेशक दनकौर थानाध्यक्ष ने सरेआम दबंगई दिखाई। बीच बाजार महिलाओं के कपड़े फाडे। हिन्दू दलित समाज की महिलाओं के साथ जो कुछ भी किया वह समूचे व्यवस्था के को खौला देने वाला है लेकिन वह खौले भी तो कैसे…उसके रंग तो काले पड़ गए प्रतीत हेते हैं।

Share Button

Relate Newss:

वरिष्ठ पत्रकार कृष्ण बिहारी मिश्र ने अपनी पोस्ट के आलोचको को यूं दिया करारा जवाब
EX MLA ने कोल्हान DIG को सौंपी मुखिया-पत्रकार मामले  की CD
छोटा राजन जैसे निर्मम आतंकी को मत बनाईए देश और दलितों का आदर्श
पद्मश्री बलबीर दत्त आज की पत्रकारिता में अप्रासंगिक क्यों?
बीडीओ के इस अमानवीय कुकृत्य के खिलाफ कार्रवाई सुनिश्चित करे सरकार
वरिष्ठ संपादक हरिनारायण जी ने यूं उकेरी उषा मार्टिन एकेडमी के छात्र की पीड़ा
ताला मरांडी के बेटे की शादी पर उठा राजनीतिक भूचाल
पत्रकार पुत्र की निर्मम हत्या की कड़ी निंदा, डीजीपी गंभीर, भेजी उच्चस्तरीय जांच टीम
HC से एम.जे. अकबर मामला में 'NDTV' को कड़ा झटका
सच को दबाने की वैधानिक साज़िश

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Loading...