आंखों देखी फांसीः एक रिपोर्टर के रोमांचक अनुभव का दस्तावेज

Share Button
Read Time:4 Minute, 20 Second

shivraj_bookराजनामा.कॉम। किसी पत्रकार के लिये यह अनुभव बिरला है तो संभवत: हिन्दी पत्रकारिता में यह दुर्लभ रिपोर्टिंग।  लगभग पैंतीस वर्ष बाद एक दुर्लभ रिपोर्टिंग जब किताब के रूप में पाठकों के हाथ में आती है तो पीढिय़ों का अंतर आ चुका होता है।

बावजूद इसके रोमांच उतना ही बना हुआ होता है जितना कि पैंतीस साल पहले। एक रिपोर्टर के रोमांचक अनुभव का दस्तावेज के रूप में प्रकाशित किताब ‘आंखों देखी फांसी’ हिन्दी पत्रकारिता को समृद्ध बनाती है ।

देश के ख्यातनाम पत्रकार एवं राजनीतिक विश्लेषक के रूप में स्थापित श्री गिरिजाशंकर की बहुप्रतीक्षित किताब का विमोचन भोपाल में मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री श्री शिवराजसिंह चौहान ने 25 अप्रेल 2015 को एक आत्मीय आयोजन में किया।  इस अवसर पर कार्यक्रम में वरिष्ठ सम्पादक श्री श्रवण गर्ग भी उपस्थित थे.

किताब लोकार्पण समारोह में मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान ने कहा कि उनके लिये यह चौंकाने वाली सूचना थी कि फांसी की आंखों देखा हाल कवरेज किया गया हो।

वे अपने उद्बोधन में कहते हैं कि किताब को पढऩे के बाद लगा कि समाज के लिये बेहद जरूरी किताब है।  वे कहते हैं कि फांसी के मानवीय पहलुओं को लेखक ने बड़ी गंभीरता से उठाया है।

उनका कहना था कि गिरिजा भइया जितने सहज और सरल हैं और उतने ही संकोची भी बल्कि वे भारतीय संस्कृति के प्रतीक हैं जो थोड़े में संतोष कर लेते हैं।

किताब लोकार्पण समारोह की अध्यक्षता कर रहे वरिष्ठ सम्पादक श्री श्रवण गर्ग ने कहा कि-यह किताब रिपोर्टिंग का अद्भुत उदाहरण है।  एक 25 बरस के नौजवान पत्रकार की यह रिपोर्टिंग हिन्दी पत्रकारिता के लिये नजीर है।

उन्होंने किताब में उल्लेखित कुछ अंश को पढक़र सुनाया तथा कहा कि आज तो हर अपराध पर फांसी दिये जाने की मांग की जाती है। फांसी कभी दुर्लभ घटना हुआ करती थी लेकिन आज वह सार्वजनिक हो चुका है। उन्होंने दिल्ली में किसान गजेन्द्रसिंह द्वारा लगाये जाने वाले फांसी के संदर्भ में अपनी बात कही। 

किताब लोकार्पण समारोह में लेखक श्री गिरिजाशंकर ने अपने अनुभव उपस्थित मेहमानों के साथ साझा करते हुये कहा कि यह किताब कोई शोध नहीं है और न कोई बड़ी किताब, लाईव कवरेज एवं अनुभवों को पुस्तक के रूप में लिखा गया है।

श्री गिरिजा शंकर कहते हैं कि 25 बरस की उम्र में जब मुझे फांसी का लाइव कवरेज करने का अवसर मिला था, तब यह इल्म नहीं था कि कौन सा दुर्लभ काम करने जा रहे हैं। अखबार में फांसी का लाइव कवरेज प्रकाशित हो जाने के बाद जब देशभर में यह रिपोर्टिंग चर्चा का विषय बनी, तब अहसास हुआ कि यह रिपोर्टिंग साधारण नहीं थी।

फांसी की रिपोर्टिंग की यह दुर्लभ घटना हिन्दी पत्रकारिता के लिये स्वर्णकाल है। उल्लेखनीय है कि वर्तमान छत्तीसगढ़ राज्य की राजधानी रायपुर के सेंट्रल जेल में वर्ष 1978 में बैजू नामक अपराधी को चार हत्याओं के लिये फांसी की सजा दी गई थी।

0 0
Happy
Happy
0 %
Sad
Sad
0 %
Excited
Excited
0 %
Sleppy
Sleppy
0 %
Angry
Angry
0 %
Surprise
Surprise
0 %
Share Button

Relate Newss:

धनबाद में पत्रकार को धमकी देने वाले सब इंसपेक्टर निलंबित
वृद्ध महिला पत्रकार की निधन पर उभरी पटना के अखबारों की अमानवीय तस्वीर
वेशक यह व्यंग्य मात्र नहीं, कतिपय सरकारी स्कूल का आयना है
दैनिक जागरण के फोटो जर्नलिस्ट के साथ मारपीट, ठेकेदार एसडीओ पर मुकदमा !
बिहार के पूर्व गवर्नर के बेटे ने मुंबई में खरीदी 100 करोड़ की प्रॉपर्टी
नाबालिग छात्रा की थाने में जबरिया शादी मामले को यूं उलटने में जुटे कतिपय लोकल रिपोर्टर
जहानाबादः राजद टिकट की दावेदारी में सबसे आगे दिख रहे हैं पत्रकार विनायक विजेता
कर्नाटक के सीएम सिद्दारमैया ने कमिश्नर को सरेआम चांटा मारा
भ्रष्टाचार को लेकर दोहरा मापदंड अपना रही है झारखंड की रघुबर सरकार
आयकर आयुक्त है या सड़क छाप गुंडा? सुनिए ऑ़डियो टेप
मशहूर सिने-टीवी लेखक धनंजय कुमार की 'नीरज प्रताड़ना' पर दो टूकः आत्ममुग्ध नीतीश बाबू के सुशासन में प...
सड़क हादसे में दैनिक हिन्दुस्तान के उप संपादक की मौत
थैंक गॉड, मैं कलेक्टर हुआ न नेता
लालू के सामाजिक न्याय और नीतिश के विकास को मुंह चिढ़ा रहा है इनायतपुर
मेरे पास सिद्धांत है और कोई सत्ता नहीं
विनायक विजेता, अमिताभ, आशुतोष सहित कई पत्रकार सम्मानित
जेयूजे प्रदेश अध्यक्ष रजत गुप्ता का आह्वान- रांची चलो
बिहार में निष्पक्ष और निर्भीक पत्रकारिता की आवश्यकता : मंत्री प्रेम कुमार
संयोग या दुर्योग ? सीपी सिंह पर पड़ ही गया मनोज कुमार का साया !
दैनिक हिन्दुस्तान पर डीएसपी ने ठोका मानहानि का मुकदमा
समलैंगिकों के अड्डे बन गए हैं मदरसे !
aapkacm.com के नाम पर घोटाला
चौंकिए मत, दसवीं पास भी बन सकते हैं पत्रकार !
प्रेस काउंसिल की जगह हो मीडिया काउंसिल
चैनल खोल पत्रकारों को यूं चूना लगा फरार हुआ JJA का चर्चित अध्यक्ष

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Loading...