अमेरिकी दूतावास ने यूं पढ़ाया इस बड़े रूसी अखबार को व्‍याकरण का पाठ

Share Button

embassyमॉस्‍को स्थित अमेरिकी दूतावास ने एक फर्जी पत्र (fake letter) को लेकर रूसी अखबार इजवेस्तिया (Izvestia) को व्‍याकरण का पाठ पढ़ाया है।

इस पत्र का अभिप्राय है कि अमेरिका रूसी अधिकारियों को बदनाम करने के लिए समलैंगिक अधिकार कार्यकर्ताओं को भुगतान करती है।

अखबार में छपे इस पत्र की कॉपी में अमेरिकी दूतावास ने दो दर्जन से ज्‍यादा गलतियों को रेखांकित किया है। अपने ट्विटर अकाउंट पर प्रकाशित इस पोस्‍ट के अंत में लिखा गया है,

‘प्रिय इजवेस्तिया, अगली बार जब भी आप इस तरह का पत्र इस्‍तेमाल करें तो इसे हमें भी भेजें। इन गलतियों को सुधारने में आपकी मदद कर हमें खुशी होगी।’

letterनीचे दिए पत्र के जरिये आप समझ सकते हैं कि अमेरिकी दूतावास ने अंग्रेजी की सामान्‍य गलतियों को रेखांकित करते हुए इस पत्र को यूं झूठा करार दिया है।

दरअसल इजवेस्तिया अखबार ने बुधवार को एक आर्टिकल प्रकाशित किया था जिसमें कहा गया था कि कार्यकर्ता रूसी अधिकारियों पर अमेरिकी राज्‍य विभाग से धन प्राप्‍त करने के लिए समलैंगिकता का आरोप लगा रहे थे।

यह आर्टिकल प्रसिद्ध कार्यकर्ता निकोलाई एलेक्‍सयेव पर केंद्रित था जिन्‍होंने मई 2013 इखो मॉस्‍की (Ekho Moskvy) रेडियो स्‍टेशन को बताया था कि सरकारी स्‍वामित्‍व वाले एक बैंक के प्रमुख और ब्‍लादिमिर पुतिन के सहयोगी व्‍याश्‍लॉ वोलोदिन (Vyacheslav Volodin) एवं मॉस्‍को के शेरमेटयेवो (Sheremetyevo) एयरपोर्ट के डायरेक्‍टर समलैंगिक थे।

रूस ने वर्ष 2013 में एक विवादित कानून पास किया था, जो समलैंगिकता के प्रचार के खिलाफ था। एलेक्‍सयेव को पिछले दशकों में सालाना समलैंगिक परेड में शामिल होने पर कई बार हिरासत में लिया गया था।

Share Button

Relate Newss:

दैनिक हिंदुस्तान के जिलावार अवैध संस्करणों में सरकारी विज्ञापन पर रोक
ABP न्यूज़ चैनल की पब्लिक डिबेट में BJP माइंडेड एकंर ने 'ललुआ' कहा, मचा हंगामा
'बदलते समय में मीडिया की भूमिका' पर पत्रकारों की कार्यशाला
इस वीडियो ब्लॉगर के सपोर्ट में नहीं दिख रहा मीडिया का कोई धड़ा या संगठन ?
दैनिक भास्कर है या ठग, कूपन प्रतियोगिता ईनाम के नाम पर यूं की बड़ा ठगी
सेलरी नहीं मिलने से क्षुब्ध ड्राइवर ने  'इंडिया न्यूज' चैनल के मालिक को 'ठोंक' दिया !
नवादा DPRO की दादागिरी, 'डीएम-जेबकतरा' खबर को लेकर 3 पत्रकारों पर बैन
यूपी के बाद बिहार में भी 'पीके' हुआ टैक्स फ्री !
रांची के सन्मार्ग को फिर नए संपादक की तलाश !
दैनिक जागरण की फिर शर्मनाक हरकत: ‘मुखिया की गुंडई’ का महिमामंडन,किसान को शराब तस्कर बना डाला !

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Loading...