अमिताभ,रजनीकांत,श्याम बेनेगल जैसों पर भारी गजेंद्र चौहान?

Share Button
Read Time:4 Minute, 22 Second

पुणे स्थित फिल्म एंड टेलीविज़न इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया (एफटीआईआई) के अध्यक्ष पद पर टीवी अभिनेता गजेंद्र चौहान की नियुक्ति से जुड़े विवाद के सिलसिले में NDTV को एक खास जानकारी मिली है, जिसके मुताबिक केंद्र में सत्तासीन नरेंद्र मोदी सरकार ने इस पद पर चौहान को चुनने से पहले अमिताभ बच्चन, रजनीकांत, श्याम बेनेगल जैसे छह धुरंधरों के नामों की सिफारिशों को नज़रअंदाज़ किया था।

amitabh-rajini-gajendraपिछले वर्ष जून में बीजेपी सरकार के सत्तारूढ़ होने के कुछ ही हफ्ते बाद सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय ने एफटीआईआई के लिए जाने-माने फिल्मकारों अदूर गोपालकृष्णन, श्याम बेनेगल तथा अनुपम खेर के नामों की सिफारिश की थी। ये नाम सूचना एवं प्रसारण राज्यमंत्री राज्यवर्द्धन राठौर की जानकारी में भी लाए गए थे।

दिसंबर में दूसरी सूची भेजे जाने तक पहली सूची पर कोई भी फैसला नहीं लिया गया था और दूसरी सूची में ‘सुपरस्टार ऑफ द मिलेनियम’ कहा जाने वाले अमिताभ बच्चन, दक्षिण भारतीय फिल्मोद्योग में ‘पूजे’ जाने वाले सुपरस्टार रजनीकांत तथा फिल्म निर्माता प्रदीप सरकार के नाम थे। इस बार भी इनमें से किसी नाम पर कोई फैसला नहीं लिया गया।

दो महीने पहले, राज्यमंत्री राज्यवर्द्धन राठौर ने एक नई सूची अपने वरिष्ठ अरुण जेटली को भेजी, जिसमें गजेंद्र चौहान का नाम शामिल था। सूत्रों का कहना है कि यह सूची ‘मंत्रालय के बाहर के लोगों’ से सलाह-मशविरा कर तैयार की गई थी, जिनमें भारतीय जनता पार्टी के वैचारिक संरक्षक राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) शामिल था।

अब गजेंद्र चौहान की नियुक्ति के विरोध में कुछ अन्य लोगों के साथ अरुण जेटली से पिछले सप्ताह मिलने गए ऑस्कर पुरस्कार विजेता रेसुल पुकुट्टी का कहना है कि ‘अरुण जेटली इस चुनाव से नाखुश हैं…’

रेसुल पुकुट्टी ने माइक्रो-ब्लॉगिंग वेबसाइट ट्विटर पर लिखा, “अनुपम खेर ही नहीं, अरुण जेटली ने भी बैठक में हम लोगों से कहा कि हमने सही चुनाव नहीं किया, लेकिन एक सरकार के रूप में हम पीछे भी नहीं हट सकते…”

NDTV ने इस मसले पर सूचना एवं प्रसारण राज्यमंत्री राज्यवर्द्धन राठौर से संपर्क किया, लेकिन उन्होंने इस मुद्दे पर कुछ भी कहने से इनकार कर दिया।

टीवी पर सबसे लोकप्रिय धारावाहिकों में से एक ‘महाभारत’ में युधिष्ठिर की भूमिका निभाकर पहचान बनाने वाले गजेंद्र चौहान ने पिछले माह पुणे स्थित संस्थान की गवर्निंग काउंसिल के चेयरमैन पद का कार्यभार संभाला था और इसके तुरंत बाद ही चौतरफा विरोध शुरू हो गया था। संस्थान के मौजूदा और पूर्व छात्रों का कहना है कि गजेंद्र का अनुभव इतना कम है कि वह इस पद पर बिठाए जाने योग्य नहीं हैं। इसे लेकर शुक्रवार को ही अभिनेताओं अनुपम खेर और ऋषि कपूर ने भी कहा है कि गजेंद्र को इस्तीफा दे देना चाहिए, जबकि गजेंद्र लगातार कहते आ रहे हैं कि वह इस्तीफा नहीं देंगे।

0 0
Happy
Happy
0 %
Sad
Sad
0 %
Excited
Excited
0 %
Sleppy
Sleppy
0 %
Angry
Angry
0 %
Surprise
Surprise
0 %
Share Button

Relate Newss:

वायरल ऑडियो से उभरे सबालः कौन है मुन्ना मल्लिक? कौन है साहब? राजगीर MLA की क्या है बिसात?
गुमला में DDC अंजनी कुमार की अगुआई में हुआ जनरेटर घोटाला !
जरुरी है PCI की वित्‍तीय एवं वैधानिक शक्तियों में बढ़ोतरी :न्‍यायमूर्ति सीके प्रसाद
अरुण जेटली पर लगे आरोपों से अंदर तक आहत हैं इंडिया टीवी के रजत शर्मा !
HC से एम.जे. अकबर मामला में 'NDTV' को कड़ा झटका
सांसद रामटहल चौधरी तक के घर की नाली का पानी स्कूल परिसर में होता है जमा
रैली में BJP नेता ने मंच पर बांटे 500 के बंद नोट,वीडियो हुआ वायरल
क्या फर्जी है बिहार विधान सभा की प्रेस सलाहकार समिति!
नीतीश जी इ अंधभक्त को समझाईये कि गोरैया बाबा कब से खून पीने लगे
प्रधानमंत्री जी के नाम एक दुखियारी भैंस का खुला ख़त
'च्यूंगम' नहीं ओबामा को है ‘निकोटिन गम’ की बुरी लत
कानून यशवंत सिन्हा की रखैल नहीं है आडवाणी जी
RBI के गवर्नर की PC से इकोनॉमिस्ट और बीबीसी के पत्रकार को निकाला
स्मृति की दरियादिली पर दिग्गी की चुटकी
बिहार चुनाव के एग्जिट पोल के नतीजे गलत साबित होने पर NDTV के चेयरमैन ने मांगी माफी
पुलिस ने 2 लाख की दंड राशि की जगह वीरेन्द्र मंडल को फर्जी केस में यूं भेजा जेल
...और इस कारण सोशल मीडिया पर क्रिकेट स्टार धोनी की हो रही थू-थू
'साहित्य सम्मेलन शताब्दी समारोह' में सम्मानित हुए साहित्यकार मुकेश 
एसपी-डीएम साहेब, राजगीर थाना प्रभारी की गुंडागर्दी यूं चालू आहे
नालंदा में खुलेगी चाणक्य आईएएस एकेडमी की शाखा
भाजपा ने सोशल मीडिया को 'एंटी-सोशल' बनायाः नीतिश
मोदी और शरीफ के बीच काठमांडू में हुई थी गुप्त बैठक
'बदलते समय में मीडिया की भूमिका' पर पत्रकारों की कार्यशाला
बाल ठाकरे को आतंकवादी बताने वाले तहलका पर मुकदमा !
सीएम रघुबर दास की इस हरकत पर कानून के साथ मीडिया भी नंगी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Loading...