अमिताभ,रजनीकांत,श्याम बेनेगल जैसों पर भारी गजेंद्र चौहान?

Share Button

पुणे स्थित फिल्म एंड टेलीविज़न इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया (एफटीआईआई) के अध्यक्ष पद पर टीवी अभिनेता गजेंद्र चौहान की नियुक्ति से जुड़े विवाद के सिलसिले में NDTV को एक खास जानकारी मिली है, जिसके मुताबिक केंद्र में सत्तासीन नरेंद्र मोदी सरकार ने इस पद पर चौहान को चुनने से पहले अमिताभ बच्चन, रजनीकांत, श्याम बेनेगल जैसे छह धुरंधरों के नामों की सिफारिशों को नज़रअंदाज़ किया था।

amitabh-rajini-gajendraपिछले वर्ष जून में बीजेपी सरकार के सत्तारूढ़ होने के कुछ ही हफ्ते बाद सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय ने एफटीआईआई के लिए जाने-माने फिल्मकारों अदूर गोपालकृष्णन, श्याम बेनेगल तथा अनुपम खेर के नामों की सिफारिश की थी। ये नाम सूचना एवं प्रसारण राज्यमंत्री राज्यवर्द्धन राठौर की जानकारी में भी लाए गए थे।

दिसंबर में दूसरी सूची भेजे जाने तक पहली सूची पर कोई भी फैसला नहीं लिया गया था और दूसरी सूची में ‘सुपरस्टार ऑफ द मिलेनियम’ कहा जाने वाले अमिताभ बच्चन, दक्षिण भारतीय फिल्मोद्योग में ‘पूजे’ जाने वाले सुपरस्टार रजनीकांत तथा फिल्म निर्माता प्रदीप सरकार के नाम थे। इस बार भी इनमें से किसी नाम पर कोई फैसला नहीं लिया गया।

दो महीने पहले, राज्यमंत्री राज्यवर्द्धन राठौर ने एक नई सूची अपने वरिष्ठ अरुण जेटली को भेजी, जिसमें गजेंद्र चौहान का नाम शामिल था। सूत्रों का कहना है कि यह सूची ‘मंत्रालय के बाहर के लोगों’ से सलाह-मशविरा कर तैयार की गई थी, जिनमें भारतीय जनता पार्टी के वैचारिक संरक्षक राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) शामिल था।

अब गजेंद्र चौहान की नियुक्ति के विरोध में कुछ अन्य लोगों के साथ अरुण जेटली से पिछले सप्ताह मिलने गए ऑस्कर पुरस्कार विजेता रेसुल पुकुट्टी का कहना है कि ‘अरुण जेटली इस चुनाव से नाखुश हैं…’

रेसुल पुकुट्टी ने माइक्रो-ब्लॉगिंग वेबसाइट ट्विटर पर लिखा, “अनुपम खेर ही नहीं, अरुण जेटली ने भी बैठक में हम लोगों से कहा कि हमने सही चुनाव नहीं किया, लेकिन एक सरकार के रूप में हम पीछे भी नहीं हट सकते…”

NDTV ने इस मसले पर सूचना एवं प्रसारण राज्यमंत्री राज्यवर्द्धन राठौर से संपर्क किया, लेकिन उन्होंने इस मुद्दे पर कुछ भी कहने से इनकार कर दिया।

टीवी पर सबसे लोकप्रिय धारावाहिकों में से एक ‘महाभारत’ में युधिष्ठिर की भूमिका निभाकर पहचान बनाने वाले गजेंद्र चौहान ने पिछले माह पुणे स्थित संस्थान की गवर्निंग काउंसिल के चेयरमैन पद का कार्यभार संभाला था और इसके तुरंत बाद ही चौतरफा विरोध शुरू हो गया था। संस्थान के मौजूदा और पूर्व छात्रों का कहना है कि गजेंद्र का अनुभव इतना कम है कि वह इस पद पर बिठाए जाने योग्य नहीं हैं। इसे लेकर शुक्रवार को ही अभिनेताओं अनुपम खेर और ऋषि कपूर ने भी कहा है कि गजेंद्र को इस्तीफा दे देना चाहिए, जबकि गजेंद्र लगातार कहते आ रहे हैं कि वह इस्तीफा नहीं देंगे।

Share Button

Relate Newss:

वरिष्ठ पत्रकार डॉ. वैदिक ने पीएम मोदी को दी हार की बधाई
नमो के भाषण पर झुंझलाई दीदी
मरांडी जी ने किया था 50 करोड़ रु. माफ
नीतीश ने अपने फेसबुक का कवर पेज ब्लैक किया
पीआरडी में विशिष्ट अतिथि बनकर आता था महापापी ब्रजेश ठाकुर
केंद्रीय मंत्री वेंकैया नायडू ने कहा, पत्रकार बिरादरी में भी फैल रहा है भ्रष्टाचार
कुछ तो शर्म करो 'बाप-राज' के पुलिस वाले
‘अपराधियों के बाद अब पुलिस-प्रशासन के निशाने पर पत्रकार’
'थर्ड वर्ल्ड वार' की ओर बढ़ रही है दुनिया
बिहार में बच्चों की मौत पर रिपोर्टिंग करती टीवी पत्रकारिता को टेटनस हो गया है, टेटभैक का इंजेक्शन भी...
आलोचनाओं से घिरीं आज तक की अंजना ओम कश्यप ने यूं दिया जवाब
अनारकली बनीं स्वरा जगा रही उम्मीदें
कितना जरूरी है सोशल मीडिया पर अंकुश
जरुरत है Brand Bihar को बेहद सशक्त करने की
धारा 377 को लेकर कोर्ट के निशाने पर आमिर खान !

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Loading...
loading...