अपेक्षा करना बेमानी

Share Button

जिस हिसाब से सोशल मीडिया पर विरूपित चित्र पोस्ट करने वालों और मोदी के खिलाफ कमेंट करने वालों के खिलाफ कार्यवाही की जा रही है उस हिसाब आधे से ज्यादा बीजेपी समर्थक जेल में होने चाहिए।

पिछले चुनावों में जिस तरह का नंगा नाच मोदी समर्थकों ने सोशल मीडिया पर मचाया था वो किसी से भी छुपा नहीं है इन बेशर्म लोगों ने राहुल गाँधी, सोनिया गाँधी, दिग्विजय सिंह, अरविन्द केजरीवाल ,अमर्त्य सेन यहां तक कि पार्टी के मोदी का विरोध करने वाले अडवाणी सुषमा मुरली मनोहर जोशी, शत्रुघ्न सिन्हा आदि को भी नहीं बख्शा।

 इन सभी नेताओं के विरूपित चित्र और अश्लील सन्देश फेसबुक,गुगल, व्हाटस एप्प ट्वीटर आदि जैसे सोशल साइट  पर फैलाये यदि उस समय इन पर मुकदमे दर्ज करवाए गए होते तो यही लोग अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता की बात करते।

 अभी मात्र अबकी बार अंतिम संस्कार लिख देने पर मोदी विरोधी की गिरफ्तारी असहनशीलता और असहिष्णुता की पराकाष्ठा है।

 लोकतंत्र और अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता का मूल सूत्र ही यही है कि “हो सकता है मैं आपके विचारों से सहमत न होऊं परन्तु आपके विचारों को अभिवयक्त करने में आपकी सहायता करूँगा।” परन्तु नाजीवादी और फासीवादी विचार वाले लोगों से शायद इसकी अपेक्षा करना बेमानी है ।

Share Button

Relate Newss:

एग्जिट पोल पर बिना रोक निष्पक्ष चुनाव बेईमानी
20 साल छोटे बॉय फ्रेंड को लेकर फिर सुर्खियों में तस्लीमा
जन लोकपाल पर बहस से भाग रही है मीडिया
'न तू अंधा है, न अपाहिज है, न निकम्मा है तो फिर ऐसा क्यूं'?
प्रेस काउंसिल की जगह हो मीडिया काउंसिल
किस लालच-दबाव में रिपोर्टर नीरज के पिछे पड़ी है नालंदा पुलिस?
मेरी आत्मग्लानि का प्रेरक दिन
बीच सड़क पर गुम मानवता की कसक
सड़क पर गजराज, समझिये इनके गुस्से
ठीक है डीएसपी साहेब, जंग जारी रहेगी
पीएम मोदी को पीछे छोड़ बिगबी बने ट्वीटर के बादशाह
जर्नलिस्ट रवीश कुमार को मिला 'रैमॉन मैगसेसे' अवार्ड’2019
मीडिया के चतुर सयानों की सूचना को अब राज़नामा नहीं लेगी संज्ञान
जय मां भारती। तुझे सलाम।
सरकारी मनमानी और निकम्मी मीडिया

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Loading...
loading...