राज़नामा डेस्क। ई देखिए। यह सबसे बड़ा और अधिक पढ़े जाने जाने का दावा करने वाला दैनिक अखबार भास्कर-डीबी स्टार है। इस अखबार से जुड़े महाज्ञानी लोग विश्व के सबसे बड़े लोकतांत्रिक देश अपने भारत के सबसे बड़े महापर्व का का भी कैसे मजाक उड़ा रहे हैं !

खुद को सबसे बड़ा खबरिया पत्र बताने वाले इस अखबार ने अपने जमशेदपुर संस्करण में “गणतंत्र दिवस में नहीं जुटेगी भीड़, गोपाल मैदान…” शीर्षक से बड़ी खबर प्रकाशित की है।

बीते 6 अगस्त, 2020 के अंक में प्रकाशित खबर के अंदर भी गणतंत्र दिवस का ही उल्लेख किया गया है। यानि रिपोर्टर-एडिटर दोनों एक समान विद्वान। हद तो यह है कि अगले दिन इस अखबार ने अपनी इस गंभीर भूल के लिए खेद भी प्रकट करना मुनासिब नहीं समझा।

जबकि किसी अखबार की करेंट सिस्टम में रिपोर्टर की खबर के उपर क्रमशः सिटी इंचार्ज, उसके बाद सब एडिटर, उसके बाद डेप्युटी न्यूज एडिटर के कंप्यूटर से गुजरते हुए प्रूफ रीडर के पास, फिर एडिटर के कंटेंट फिल्टर के बाद प्रिंटींग प्रेस में भेजा जाता है।  

उसके बाद प्रिंटिंग प्रेस में मौजूद तकनीकी लोग प्लेट का निर्माण करते हैं। और सब कुछ की सही जांच होने के बाद ही अखबार के पन्ने छपते हैं।  

ऐसे में आप समझ सकते हैं कि दैनिक भास्कर, जमशेदपुर के इस संस्करण के प्रकाशन में रिपोर्टर से लेकर एडिटर-पब्लिशर तक के आंख की रौशनी कितनी तेज है! और उन सबका दिव्य ज्ञान ऐसे बड़े-बड़े शब्द, जो हर भारतीय की शान स्वतंत्रतता दिवस से जुड़े हों, उसे गणतंत्रता दिवस में तब्दील करने में कोई संकोच नहीं रखा है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here