अन्य
    Sunday, May 26, 2024
    अन्य

      छेड़खानी का विरोध करने पर पत्रकार पर हमला, मौत, लापरवाह बनी पुलिस

      इस मामले में पुलिस पर लापरवाही बरतने के आरोप लग रहे हैं। पहचान हो जाने के बावजूद अभी तक पुलिस केवल एक आरोपी को गिरफ्तार कर पाई है। इस घटना की वीडियो भी सामने आई थी। वीडियो में सारे बदमाश सरिया से अभिषेक को बुरी तरह मारने के बाद फरार होते नजर आ रहे थे...

      राजनामा.कॉम।  राजस्थान के जयपुर में 8 दिसंबर को अपनी साथी महिला पत्रकार के साथ छेड़छाड़ का विरोध करने पर जानलेवा हमले का शिकार हुए पत्रकार ने इलाज के दौरान अस्पताल में दम तोड़ दिया।

      हमले में गंभीर रूप से घायल 27 वर्षीय वीडियो पत्रकार अभिषेक सोनी की बुधवार 23 दिसंबर, 2020 देर रात एसएमएस अस्पताल के ट्रॉमा सेंटर में इलाज चल रहा था।

      पुलिस ने इस संबंध में खुलासा किया था कि बदमाशों ने पहले महिला को प्रताड़ित करना शुरू किया था और फिर सोनी के विरोध करने पर उन्हें छड़ी और सरिए से मारने लगे।

      जानकारी के मुताबिक, यह घटना 8 दिसंबर की है। जब राजधानी जयपुर के मानसरोवर इलाके में अभिषेक सोनी अपनी महिला मित्र आरती शर्मा के साथ एक स्थानीय रेस्टोरेंट में गए थे।

      तभी वहां कुछ लोगों ने आरती के साथ छेड़छाड़ की थी। अभिषेक ने जब छेड़छाड़ का विरोध किया तो तीनों लोगों ने उस पर डंडों और लोहे की छड़ों से हमला कर दिया था।

      इस हमले में अभिषेक गंभीर रूप से घायल हो गए थे, जिसके बाद उन्हें एसएमएस अस्पताल में भर्ती कराया गया था, जहां ट्रॉमा सेंटर में बुधवार को उन्होंने दम तोड़ा।

      पुलिस के मुताबिक, अब इस केस में आरोपितों के खिलाफ धारा 323, 341, 354ए और 307 के तहत मुकदमा दर्ज किया गया है। तीनों आरोपितों की पहचान हो गई है। इनमें से पुलिस ने एक को गिरफ्तार भी किया है। बाकी दो अब भी फरार हैं।

      पुलिस टीम बनाकर बाकी आरोपितों की तलाश कर रही है। आरोपितों के नाम शंकर चौधरी, कनाराम जट्ट और सुरेंद्र जट्ट बताए जा रहे हैं।

      इस घटना के बाद अब पुलिस के खिलाफ मृतक के परिजनों और अन्य लोगों ने मोर्चा खोल दिया है। पुलिस पर लापरवाही बरतने का आरोप लगाते हुए लोगों ने एसएमएस अस्पताल में धरना दिया।

      अभिषेक के परिजनों का कहना है कि मीडिया की वजह से अभिषेक की मौत के बाद पुलिस ने हत्या की धारा में मामला तो दर्ज कर लिया है, लेकिन सीसीटीवी फुटेज मिल जाने और आरोपियों की पहचान हो जाने के बाद भी पुलिस ने सिर्फ एक आरोपी को गिरफ्तार किया है। जबकि अन्य दो अरोपी अभी तक पुलिस की पहुंच से बाहर हैं।

      संबंधित खबर
      error: Content is protected !!