अन्य
    Monday, April 22, 2024
    अन्य

      ये हैं भारत के प्रमुख मीडिया हाउस और उसके मालिक

      mediacoverage
      एनडीटीवीः एक बहुत लोकप्रिय टीवी समाचार मीडिया चैरिटी की Gospels में स्पेन साम्यवाद का समर्थन करता है के द्वारा वित्त पोषित है. हाल ही में यह पाकिस्तान के प्रति नरम रुख पर विकसित किया गया है क्योंकि पाकिस्तान के राष्ट्रपति द्वारा केवल इसी चैनल को प्रसारण की अनुमति दी गई है. भारतीय सीईओ प्रणय रॉय, भारत की कम्युनिस्ट पार्टी के महासचिव प्रकाश करात के सह भाई है. उनकी पत्नी और वृंदा करात बहनें हैं.
      इंडिया टुडेः देश की एकमात्र राष्ट्रीय साप्ताहिक जो केवल भाजपा को समर्पित थी  अब एनडीटीवी द्वारा खरीदे जाने के बाद से इसका टोन काफी बदल गया है और अब इसे केवल हिन्दुओं को कोसने के लिए इस्तेमाल किया जा रहा है .
      सीएनएन-आईबीएनः यह 100 प्रतिशत अमेरिका के दक्षिण में स्थित बैप्टिस्ट चर्च द्वारा वित्त पोषित है जिसकी शाखाएं तमाम दुनियां में मौजूद हैं.चर्च सालाना अपने चैनल को बढ़ावा देने के के लिए 800 मिलियन डॉलर का आवंटन करती है. इसका भारतीय राजदीप सरदेसाई और उनकी पत्नी सागरिका घोष के सिर है.
       टाइम्स समूहः टाइम्स ऑफ इंडिया, मिड – डे, नव – Bharth टाइम्स, फेमिना, फिल्मफेयर, विजया कर्नाटक, अब टाइम्स (24 – घंटे के समाचार चैनल) और कई और अधिक … टाइम्स समूह बेनेट एंड कोलमैन द्वारा स्वामित्व में है. ये विश्व ईसाई परिषद के 80 प्रतिशत अनुदान, एक अंग्रेज और एक इतालवी के समान रूप से 20 प्रतिशत शेयर संतुलन करता है. इतालवी Robertio Mindo सोनिया गांधी के एक करीबी रिश्तेदार है.
      स्टार टीवी:  यह एक ऑस्ट्रेलियाई, जो सेंट पीटर्स बिशप का चर्च मेलबोर्न द्वारा समर्थित है द्वारा चलाया जाता है.
       हिंदुस्तान टाइम्स: बिड़ला समूह के स्वामित्व है, लेकिन शोभना भारतीय के पदभार सँभालने के बाद इसका चेहरा ही बदल गया है. वर्तमान में यह टाइम्स समूह के साथ सहयोग में काम कर रहा है. और शुरु से ही यह ग्रुप कांग्रेस की नीतियों का समर्थक रहा है.
      हिंदू: अंग्रेजी दैनिक, जो 125 साल से भी पुराना है  हाल ही में यहोशू सोसायटी, बर्न, स्विट्जरलैंड द्वारा पर ले लिया. एन राम की पत्नी एक स्विस नागरिक है.
      इंडियन एक्सप्रेस: विभाजित दो समूहों में. इंडियन एक्सप्रेस और न्यू इंडियन एक्सप्रेस (दक्षिणी संस्करण) अधिनियमों ईसाई मंत्रालयों इंडियन एक्सप्रेस में प्रमुख हिस्सेदारी है और बाद भारतीय समकक्ष के साथ अभी भी है.  
      स्टेट्समैन:  यह भारत की कम्युनिस्ट पार्टी द्वारा नियंत्रित किया जाता है.  
      एशियन एज और डेक्कन क्रॉनिकल: अपने मुख्य संपादक एम.जे. अकबर के साथ सऊदी अरब कंपनी द्वारा स्वामित्व में है. गुजरात दंगों जो 2002 में जहां हिंदुओं को जिंदा जला दिया गया, राजदीप सरदेसाई और Bharkha दत्त उस समय एनडीटीवी के लिए काम कर रहे थे सऊदी अरब से लगभग 5 मिलियन डॉलर केवल एक समुदाय पीड़ितों को कवर करने के लिए दिया गया, जिसे इन्होने बहुत ही ईमानदारी से निभाया. एक भी ऐसे दूसरे समुदाय के परिवार का साक्षात्कार तक नहीं किया गया और न ही दिखया गया जिनके परिजनों को जिंदा जला दिया गया था .
      Tehelka.com के तरुण तेजपाल को नियमित रूप से अरब देशों से खाली चेक मिलते हें.
      संबंधित खबर
      error: Content is protected !!