Home जर्नलिज्म फेक न्यूज की पहचान कैसे करें और उसके प्रभाव को कैसे रोका...

फेक न्यूज की पहचान कैसे करें और उसके प्रभाव को कैसे रोका जाए

0

राजनामा.कॉम डेस्क। फेक न्यूज एक प्रकार की झूठी या भ्रामक जानकारी होती है जिसे जानबूझकर फैलाया जाता है। इसका उद्देश्य लोगों को भ्रमित करना, गलत जानकारी फैलाना या किसी विशेष समूह, व्यक्ति, या संस्था को नुकसान पहुँचाना हो सकता है। फेक न्यूज कई रूपों में हो सकती है, जैसे कि झूठी खबरें, गुमराह करने वाली सुर्खियाँ, या संदर्भ से बाहर प्रस्तुत किए गए तथ्य।

फेक न्यूज को पहचानना कभी-कभी मुश्किल हो सकता है क्योंकि इसे वास्तविक समाचार की तरह प्रस्तुत किया जाता है। यह अक्सर सोशल मीडिया, वेबसाइट्स, और मैसेजिंग प्लेटफॉर्म्स के माध्यम से तेजी से फैलती है। इसके निर्माण के पीछे विभिन्न कारण हो सकते हैं, जैसे कि आर्थिक लाभ, राजनीतिक एजेंडा, या किसी विशेष धारणा को बढ़ावा देना।

उदाहरण के लिए, एक फेक न्यूज रिपोर्ट में दावा किया जा सकता है कि किसी प्रसिद्ध व्यक्ति ने कोई विवादास्पद बयान दिया है, जबकि वास्तव में ऐसा कोई बयान नहीं दिया गया होता। इसी तरह, कोई फेक न्यूज यह भी कह सकती है कि किसी देश में कोई आपदा आई है, जबकि वह घटना वास्तव में नहीं हुई होती। इन उदाहरणों के माध्यम से यह स्पष्ट होता है कि फेक न्यूज कैसे लोगों को भ्रामक तथ्यों के माध्यम से प्रभावित कर सकती है।

फेक न्यूज के विभिन्न प्रकार होते हैं, जैसे कि सेंसशनल हेडलाइंस, क्लिकबेट, और झूठी रिपोर्ट्स। सेंसशनल हेडलाइंस का उद्देश्य लोगों का ध्यान आकर्षित करना होता है, जबकि क्लिकबेट ऐसी सामग्री होती है जो केवल क्लिक्स के लिए बनाई जाती है और उसमें सच्चाई का अभाव होता है। इस प्रकार की फेक न्यूज समाज में भ्रम और अविश्वास फैलाने का काम करती है।

अंततः, फेक न्यूज न केवल व्यक्तिगत बल्कि सामाजिक और राजनीतिक स्तर पर भी गंभीर प्रभाव डाल सकती है। इसलिए, इसे पहचानना और इससे बचाव करना अत्यंत आवश्यक है।

फेक न्यूज के प्रमुख स्रोत

फेक न्यूज वर्तमान में एक गंभीर समस्या बन चुकी है, जिसका प्रभाव सामाजिक और राजनीतिक दोनों क्षेत्रों में देखा जा सकता है। फेक न्यूज के प्रमुख स्रोतों को समझना और उनकी पहचान करना अत्यंत आवश्यक है ताकि इससे होने वाले नुकसान को कम किया जा सके।

सबसे पहले, सोशल मीडिया प्लेटफार्म ऐसे स्रोत हैं जहाँ फेक न्यूज तेजी से फैलती है। फेसबुक, ट्विटर, व्हाट्सएप और इंस्टाग्राम जैसे प्लेटफार्मों पर फेक न्यूज वायरल हो जाती है। यह इसलिए क्योंकि यहां लोग बिना जांच-पड़ताल किए किसी भी जानकारी को साझा कर देते हैं। फेक न्यूज की पहचान करने के लिए, उस खबर के स्रोत को चेक करना महत्वपूर्ण है। अगर कोई खबर किसी अपरिचित या संदिग्ध स्रोत से आ रही है, तो उसे सत्यापित करना आवश्यक है।

दूसरा प्रमुख स्रोत हैं वेबसाइट्स और ब्लॉग्स। कई बार कुछ वेबसाइट्स और ब्लॉग्स पर सनसनीखेज और भ्रामक सामग्री प्रकाशित की जाती है। इन साइट्स का मुख्य उद्देश्य ट्रैफिक और विज्ञापन राजस्व बढ़ाना होता है। ऐसी वेबसाइट्स की पहचान करने के लिए उनके डोमेन नाम की जांच करें और देखें कि क्या वे किसी मान्यता प्राप्त समाचार संगठन से संबद्ध हैं।

इसके अतिरिक्त, फेक न्यूज ईमेल और मैसेजिंग ऐप्स के माध्यम से भी फैलती है। स्पैम ईमेल्स और व्हाट्सएप फॉरवर्ड्स में अक्सर फेक न्यूज शामिल होती है। इन संदेशों के स्रोत और उनमें दिए गए लिंक की जांच करना हमेशा महत्वपूर्ण है।

आखिरकार, फेक न्यूज के अन्य डिजिटल माध्यम जैसे यूट्यूब चैनल्स और पॉडकास्ट्स भी हो सकते हैं। इन चैनल्स पर प्रस्तुत की गई सामग्री की सत्यता की जांच करना आवश्यक है। चैनल के विश्वसनीयता को जांचने के लिए उसके सब्सक्राइबर की संख्या और उसके द्वारा प्रस्तुत की गई अन्य सामग्री को भी देखना चाहिए।

इस प्रकार, फेक न्यूज के प्रमुख स्रोतों की पहचान करके और उनकी जांच-पड़ताल करके हम इस समस्या का प्रभावी ढंग से मुकाबला कर सकते हैं।

फेक न्यूज की पहचान के तरीके

फेक न्यूज की पहचान करना आज के डिजिटल युग में अत्यंत महत्वपूर्ण हो गया है। ऐसे कई तरीके और उपकरण हैं जो हमें इस कार्य में सहायता कर सकते हैं। सबसे पहले, फैक्ट-चेकिंग वेबसाइट्स का उपयोग किया जा सकता है। इन वेबसाइट्स का मुख्य उद्देश्य संदिग्ध समाचारों की सत्यता की जांच करना होता है। कुछ प्रासंगिक फैक्ट-चेकिंग वेबसाइट्स हैं Alt News, Fact Check, और Boom Live, जो विशेष रूप से भारतीय संदर्भ में उपयोगी हैं।

दूसरा महत्वपूर्ण तरीका है रिवर्स इमेज सर्च का उपयोग करना। यह तकनीक विशेष रूप से सोशल मीडिया पर प्रसारित होने वाली फेक तस्वीरों की पहचान करने में सहायक होती है। Google Images और TinEye जैसी सेवाएं आपको किसी तस्वीर की उत्पत्ति और उसके विभिन्न संस्करणों को जानने में मदद कर सकती हैं। बस तस्वीर को अपलोड करें और यह आपको बताएगा कि यह तस्वीर पहले कहां-कहां उपयोग हुई है।

इसके अतिरिक्त, खबर के स्रोत की जांच करना भी अत्यंत महत्वपूर्ण है। किसी भी समाचार को सत्य मानने से पहले उसके स्रोत की विश्वसनीयता की जांच करें। अगर कोई समाचार वेबसाइट नए या अज्ञात स्रोत से है, तो उसकी प्रामाणिकता पर सवाल उठाना उचित है।

सोशल मीडिया पर साझा किए गए लिंक की भी जांच करें। कई बार फेक न्यूज वेबसाइट्स अधिक क्लिक पाने के लिए भ्रामक लिंक का उपयोग करती हैं। URL को ध्यान से देखें, अक्सर फेक न्यूज वेबसाइट्स के URL असामान्य या संदिग्ध होते हैं।

अंत में, किसी भी जानकारी को साझा करने से पहले उसकी भाषा और टोन पर भी ध्यान दें। फेक न्यूज सामान्यतः अतिरंजित भाषा का उपयोग करती हैं और भावनाओं को उकसाने का प्रयास करती हैं। ऐसी खबरों को अधिक ध्यान से जांचना चाहिए।

इन सभी तरीकों और उपकरणों का संयोजन करके, हम फेक न्यूज की पहचान कर सकते हैं और उसे फैलने से रोक सकते हैं। यह न केवल हमारी व्यक्तिगत जानकारी की सुरक्षा के लिए महत्वपूर्ण है, बल्कि समाज की समग्र जानकारी की विश्वसनीयता बनाए रखने में भी सहायक है।

फेक न्यूज का प्रभाव

फेक न्यूज का प्रभाव समाज और व्यक्तियों पर अत्यंत नकारात्मक होता है। यह अविश्वास, भय, और नफरत को फैलाने का एक प्रमुख साधन बन चुकी है। जब गलत जानकारी किसी समाज में फैलती है, तो यह लोगों के बीच अविश्वास का माहौल उत्पन्न करती है। उदाहरण के लिए, किसी राजनैतिक घटना के बारे में फैलाई गई फेक न्यूज से लोगों में सरकार या विपक्ष के प्रति गलत धारणाएँ बन सकती हैं, जिससे सामाजिक एकता को चोट पहुँचती है।

फेक न्यूज का एक और गंभीर प्रभाव है भय का प्रसार। जब झूठी खबरें किसी महामारी, प्राकृतिक आपदा, या आर्थिक संकट के बारे में फैलाई जाती हैं, तो लोगों के बीच डर का वातावरण बन जाता है। यह डर न केवल मानसिक तनाव को बढ़ाता है, बल्कि लोगों की रोजमर्रा की जिंदगी को भी प्रभावित करता है। उदाहरण स्वरूप, कोविड-19 के दौरान फेक न्यूज ने लोगों में वैक्सीन के प्रति गलतफहमियाँ और अविश्वास पैदा किया, जिसके परिणामस्वरूप वैक्सीन लेने की दर कम हो गई।

फेक न्यूज का एक और महत्वपूर्ण प्रभाव नफरत फैलाना है। झूठी खबरें अक्सर सामाजिक और धार्मिक समूहों के बीच द्वेष और दुश्मनी को बढ़ावा देती हैं। इससे समाज में हिंसा और अपराध की घटनाएँ बढ़ सकती हैं। विभिन्न समुदायों के बीच फैलाई गई फेक न्यूज से उत्पन्न होने वाली नफरत का परिणाम कई बार दंगे और सामाजिक अशांति के रूप में देखने को मिलता है।

आर्थिक दृष्टिकोण से भी फेक न्यूज का प्रभाव अत्यधिक नकारात्मक होता है। जब किसी कंपनी या व्यक्ति के बारे में झूठी खबर फैलाई जाती है, तो इससे उनकी साख और विश्वासनीयता पर आघात पहुँचता है। इसका परिणाम यह होता है कि निवेशकों और ग्राहकों का विश्वास घटता है, जिससे आर्थिक नुकसान होता है।

इस प्रकार, फेक न्यूज के व्यापक और गंभीर प्रभाव होते हैं, जो समाज के विभिन्न पहलुओं को प्रभावित करते हैं। इसे रोकने के लिए सामूहिक प्रयास और सही जानकारी का प्रसार अत्यंत आवश्यक है।

फेक न्यूज के खिलाफ कानूनी उपाय

फेक न्यूज एक वैश्विक समस्या बन चुकी है और इससे निपटने के लिए विभिन्न देशों ने कई कानूनी उपाय अपनाए हैं। फेक न्यूज के खिलाफ कानून और नियम महत्वपूर्ण हैं क्योंकि यह एक समाज की स्थिरता और सुरक्षा को प्रभावित कर सकता है। विभिन्न देशों में लागू किए गए कानूनी उपायों का उद्देश्य फेक न्यूज के प्रसार को रोकना और इसके स्रोतों को दंडित करना है।

भारत में, सूचना प्रौद्योगिकी अधिनियम, 2000 (आईटी एक्ट) के तहत फेक न्यूज पर नियंत्रण के प्रयास किए गए हैं। इस अधिनियम के तहत, यदि कोई व्यक्ति जानबूझकर झूठी जानकारी प्रसारित करता है, तो उसे दंडित किया जा सकता है। इसके अतिरिक्त, भारतीय दंड संहिता (आईपीसी) की धारा 505 भी ऐसी गतिविधियों को रोकने के लिए लागू की जाती है जो हिंसा या सामाजिक अशांति को भड़काने वाली हों।

यूरोपीय संघ में, जनरल डेटा प्रोटेक्शन रेगुलेशन (GDPR) के तहत, फेक न्यूज फैलाने वाले संगठनों पर कड़े नियम लागू किए गए हैं। इसके अलावा, जर्मनी में नेटवर्क एनफोर्समेंट एक्ट (NetzDG) के तहत सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म्स को अनिवार्य किया गया है कि वे अवैध सामग्री को 24 घंटे के भीतर हटाएं, अन्यथा उन्हें भारी जुर्माना भरना पड़ता है।

संयुक्त राज्य अमेरिका में, फेक न्यूज के खिलाफ कोई विशिष्ट संघीय कानून नहीं है, लेकिन कुछ राज्य और स्थानीय कानून इसे नियंत्रित करने के लिए बनाए गए हैं। इसके अलावा, सोशल मीडिया कंपनियों को स्वेच्छा से अपनी नीतियों को सख्त करने के लिए प्रेरित किया गया है ताकि फेक न्यूज को रोका जा सके।

आम नागरिक इन कानूनों का पालन कर सकते हैं और फेक न्यूज के प्रसार को रोकने में सहयोग कर सकते हैं। सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि किसी भी जानकारी को साझा करने से पहले उसकी सत्यता की जांच करें। इसके अलावा, यदि आपको कोई संदिग्ध समाचार दिखाई देता है, तो आप इसकी रिपोर्ट संबंधित अधिकारियों या प्लेटफॉर्म्स को कर सकते हैं।

फेक न्यूज से बचने के उपाय

फेक न्यूज की पहचान और उससे बचने के लिए जागरूकता सबसे महत्वपूर्ण है। डिजिटल साक्षरता बढ़ने के साथ, यह आवश्यक हो गया है कि व्यक्ति सूचनाओं की सत्यता की जांच करें। किसी भी समाचार या जानकारी को सही मान लेने से पहले, हमें उसके स्रोत की विश्वसनीयता की जांच करनी चाहिए। इंटरनेट पर कई विश्वसनीय वेबसाइट्स और प्लेटफॉर्म्स मौजूद हैं जहां से प्रमाणित जानकारी प्राप्त की जा सकती है।

आपको सबसे पहले उस स्रोत की जाँच करनी चाहिए जहां से आपने समाचार प्राप्त किया है। यदि यह स्रोत पहले से ही अज्ञात या संदिग्ध है, तो आपको उसके द्वारा दी गई जानकारी पर संदेह करना चाहिए। इसके अलावा, किसी भी समाचार को अन्य विश्वसनीय स्रोतों से क्रॉस-चेक करना एक अच्छा तरीका है। इससे आपको जानकारी की प्रामाणिकता का पता चल सकता है।

सूचना की सत्यता की जाँच करने के लिए कुछ उपकरण और तकनीकें भी उपयोगी हो सकती हैं। जैसे कि, आप तस्वीरों की जाँच करने के लिए रिवर्स इमेज सर्च का उपयोग कर सकते हैं। इसके अलावा, कई फेक न्यूज डिटेक्शन टूल्स और वेबसाइट्स भी उपलब्ध हैं, जो संदेहास्पद समाचारों की जांच करने में मदद कर सकते हैं।

फेक न्यूज से बचने का एक और महत्वपूर्ण तरीका है कि आप केवल विश्वसनीय और प्रतिष्ठित समाचार स्रोतों से जानकारी प्राप्त करें। ऐसे स्रोत जो अपने पत्रकारिता मानकों और एथिक्स का पालन करते हैं, आमतौर पर सही और प्रमाणित जानकारी ही प्रदान करते हैं।

डिजिटल साक्षरता को बढ़ाने के लिए शिक्षण और प्रशिक्षण भी आवश्यक है। स्कूलों, कॉलेजों और अन्य शैक्षणिक संस्थानों में डिजिटल साक्षरता के पाठ्यक्रम शामिल किए जाने चाहिए, ताकि लोग फेक न्यूज की पहचान और उससे बचाव के तरीकों को सीख सकें।

अंत में, सोशल मीडिया और अन्य डिजिटल प्लेटफॉर्म्स पर साझा की जाने वाली जानकारी को ध्यानपूर्वक पढ़ें और समझें। बिना जांच-पड़ताल के किसी भी समाचार या जानकारी को साझा न करें। इस प्रकार के सतर्कता उपाय अपनाकर, हम फेक न्यूज के प्रभाव को कम कर सकते हैं और सही जानकारी प्राप्त कर सकते हैं।

सोशल मीडिया पर फेक न्यूज को रिपोर्ट कैसे करें

सोशल मीडिया प्लेटफार्म्स पर फेक न्यूज की रिपोर्टिंग एक महत्वपूर्ण कदम है, जिससे गलत जानकारी का प्रसार रोका जा सकता है। विभिन्न प्लेटफार्म्स ने यूजर्स के लिए फेक न्यूज की रिपोर्टिंग को आसान और सुलभ बनाने के लिए कई टूल्स और फीचर्स उपलब्ध कराए हैं। इस खंड में, हम फेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम, और अन्य प्रमुख प्लेटफार्म्स पर फेक न्यूज की रिपोर्टिंग की प्रक्रिया को विस्तार से समझेंगे।

फेसबुक

फेसबुक पर फेक न्यूज की रिपोर्टिंग के लिए, सबसे पहले उस पोस्ट पर जाएं जिसे आप रिपोर्ट करना चाहते हैं। पोस्ट के ऊपरी दाएं कोने पर स्थित तीन डॉट्स पर क्लिक करें। ड्रॉपडाउन मेनू में ‘Find support or report post’ विकल्प चुनें। इसके बाद, ‘False Information’ या ‘It’s a fake news’ चुनें और अपनी रिपोर्ट सबमिट करें। फेसबुक टीम आपकी रिपोर्ट की समीक्षा करेगी और आवश्यक कार्रवाई करेगी।

ट्विटर

ट्विटर पर फेक न्यूज की रिपोर्टिंग के लिए, उस ट्वीट पर जाएं जिसे आप रिपोर्ट करना चाहते हैं। ट्वीट के नीचे स्थित ‘More’ आइकन (तीन डॉट्स) पर क्लिक करें। ‘Report Tweet’ विकल्प चुनें और ‘It’s misleading or harmful’ कारण का चयन करें। इसके बाद, ‘Fake news or misleading information’ विकल्प चुनकर अपनी रिपोर्ट जमा करें। ट्विटर की टीम आपकी रिपोर्ट की जांच करेगी और उचित कदम उठाएगी।

इंस्टाग्राम

इंस्टाग्राम पर फेक न्यूज की रिपोर्टिंग के लिए, पहले उस पोस्ट पर जाएं जिसे आप रिपोर्ट करना चाहते हैं। पोस्ट के ऊपरी दाएं कोने पर स्थित तीन डॉट्स पर क्लिक करें। ‘Report’ विकल्प चुनें और ‘It’s inappropriate’ के बाद ‘False Information’ का चयन करें। अपनी रिपोर्ट सबमिट करने के बाद, इंस्टाग्राम की टीम इसकी समीक्षा करेगी और उचित कार्रवाई करेगी।

अन्य प्रमुख प्लेटफार्म्स

अन्य प्रमुख सोशल मीडिया प्लेटफार्म्स जैसे लिंक्डइन, यूट्यूब, और व्हाट्सएप पर भी फेक न्यूज की रिपोर्टिंग के लिए अलग-अलग टूल्स और फीचर्स उपलब्ध हैं। उदाहरण के लिए, लिंक्डइन पर पोस्ट के ऊपरी दाएं कोने पर स्थित ‘More’ आइकन पर क्लिक करके ‘Report this post’ विकल्प चुन सकते हैं। यूट्यूब पर वीडियो के नीचे स्थित ‘More’ बटन पर क्लिक करके ‘Report’ का चयन कर सकते हैं। व्हाट्सएप पर फेक न्यूज रिपोर्ट करने के लिए, संदेश को लॉन्ग प्रेस करके ‘Report’ विकल्प चुन सकते हैं।

फेक न्यूज के प्रति जागरूकता बढ़ाने के प्रयास

फेक न्यूज के बढ़ते प्रसार को रोकने के लिए शैक्षिक कार्यक्रमों, जागरूकता अभियानों, और सरकारी तथा गैर-सरकारी संगठनों द्वारा विभिन्न प्रयास किए जा रहे हैं। शैक्षिक कार्यक्रमों के माध्यम से छात्रों और युवाओं को फेक न्यूज की पहचान करने और उसके प्रभाव से बचने के तरीकों के बारे में शिक्षित किया जा रहा है। इन कार्यक्रमों में मीडिया साक्षरता पाठ्यक्रम शामिल होते हैं जो विद्यार्थियों को सही और गलत जानकारी के बीच अंतर करने की क्षमता विकसित करने में मदद करते हैं।

जागरूकता अभियान भी फेक न्यूज के प्रति समाज को सचेत करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहे हैं। इन अभियानों के तहत सोशल मीडिया, टेलीविज़न, रेडियो और प्रिंट मीडिया का उपयोग किया जाता है ताकि लोगों को फेक न्यूज के खतरों के बारे में सूचित किया जा सके। इन अभियानों के माध्यम से लोगों को यह बताया जाता है कि वे किस प्रकार से फेक न्यूज की पहचान कर सकते हैं और उसे आगे फैलाने से बच सकते हैं।

सरकारी और गैर-सरकारी संगठन भी फेक न्यूज के प्रति जागरूकता बढ़ाने के लिए सक्रिय रूप से काम कर रहे हैं। कई सरकारी एजेंसियाँ और गैर-सरकारी संगठन प्रशिक्षण सत्रों, सेमिनारों, और कार्यशालाओं का आयोजन कर रहे हैं, जहां विशेषज्ञ फेक न्यूज की पहचान और उसके प्रभाव को समझाने के लिए तत्पर रहते हैं। इसके अलावा, ये संगठन ऑनलाइन प्लेटफार्मों पर भी जागरूकता सामग्री प्रदान करते हैं जिससे अधिक से अधिक लोग इस मुद्दे के बारे में जागरूक हो सकें।

पाठकों को भी फेक न्यूज के प्रति जागरूकता बढ़ाने में सक्रिय भूमिका निभानी चाहिए। वे अपने परिवार और दोस्तों को फेक न्यूज की पहचान करने के महत्व के बारे में सूचित कर सकते हैं, और सोशल मीडिया पर संदिग्ध खबरों को साझा करने से पहले उसकी सत्यता की जांच कर सकते हैं। इन सामूहिक प्रयासों के माध्यम से हम फेक न्यूज के प्रसार को रोकने में सफलता प्राप्त कर सकते हैं।

BBC ने भारत में IT रेड के बाद निजी कंपनी को सौंपा सारा काम

समाचार लेखन के लिए इन विधियों का करें पालन

 सुप्रीम कोर्ट ने पत्रकारों के डिजिटल उपकरणों को जब्त करने पर जतायी चिंता, कहा…

सोशल मीडिया में वायरल हुआ न्यूज18 बिहार झारखंड न्यूज चैनल की यह सनसनीखेज फर्जी खबर

बिहारः अररिया जिला के रानीगंज में दैनिक जागरण संवादाता की गोली मारकर हत्या

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

error: Content is protected !!
Exit mobile version