अन्य

    दैनिक भास्कर-जागरण की इस समान खबर में समझिए जमीन विवाद में रंगदारी घुसेड़ने के राज़ !

    राजनामा.कॉम। बिहार के नालंदा जिले के हिलसा क्षेत्र में बाइक सवार बदमाशों के द्वारा एक गंभीर वारदात को अंजाम दिया गया। बदमाशों ने एक स्कूल बस को, उसके चालक के साथ मारपीट करते हुए और उसमें बैठे बच्चे को उतार कर उसे खाई में धकेल दिया।

    दैनिक भास्कर में छपी खबर….

    इस पूरे घटनाक्रम के पीछे स्कूल संचालक और हमलावर युवकों के बीच भूमि विवाद की बात उभर कर सामने आई है। लेकिन वहाँ एक स्थानीय रिपोर्टर, जो दैनिक भास्कर और दैनिक जागरण, दोनों अखबार में खबरें प्रेषित करता है, उसने भ्रम का माहौल बनाने में कोई कसर नहीं छोड़ी है।

    दैनिक भास्कर की खबर…

    राजनामा.कॉम की टीम ने इस मामले की पड़ताल की। दैनिक भास्कर और जागरण का यह तथ्य कोरी कल्पना या फिर कहिए कि जानबूझ कर भ्रम फैलाने वाली सूचना है कि स्कूल बस प्रकरण से किसी तरह के रंगदारी का कोई मामला जुड़ा है। वहीं इस मामले पर दैनिक हिन्दुस्तान की खबर कुछ और बयां कर रही है।

    इस संबंध में चिकसौरा थानाध्यक्ष प्रकाश लाल ने बताया कि अभी तक किसी के द्वारा कोई लिखित शिकायत दर्ज महीं करवाई गई है। पुलिस को वहीं पर्चा उपलब्ध करवाई गई है, बदमाशों ने घटना के समय चालक को दिया गया है।

    दैनिक हिन्दुस्तान की खबर….

    थानाध्यक्ष ने रंगदारी नहीं देने पर हमला की बात को कोरी बकबास बताया और कहा कि अब तक हुई पड़ताल में घटना का कारण स्कूल संचालक और युवकों के बीच जमीन विवाद की बात उभर कर सामने आई है। अखबार में छपी खबर से वे खुद हैरान हैं कि इस तरह की जानकारी कैसे प्रकाशित की गई है और इसके पीछे क्या कारण हैं।

    वारदात के दौरान बदमाशों द्वारा स्कूल बस के चालक को थमाया गया पर्ची..

    उधर, डीपीएस स्कूल के संचालक विजय भास्कर से जब इस बाबत पूछा गया तो उन्होंने मीडिया का नाम सुनते ही फोन डिस्कनेक्ट कर लिया और फिर उन्होंने दर्जनों बार कॉल रिसिव नहीं किया।

    विश्वस्त सूत्रों की मानें तो स्कूल संचालक और कथित घटना कारक युवकों के बीच उत्पन्न जमीन विवाद में कतिपय कुछेक मीडिया से जुड़े लोग भी शामिल हैं। स्कूल मालिक को उस जमीन पर कब्जाने की सुपारी लेने की बात भी उभरकर सामने आ रही है। ऐसे भी इस पूरे विवाद में हिलसा पुलिस प्रशासन की भूमिका संदिग्ध रही ही हैं।

    बता दें कि बीते बुधवार की सुबह करीब 9 बजे हिलसा -पभेड़ी मार्ग में बाजितपुर पुल के पास हुआ। हिलसा शहर के डीपीएस नामक पब्लिक स्कूल का बस चालक मनोज कुमार ने बताया कि हर रोज की तरह ग्रामीण इलाके के बच्चों को लेकर स्कूल जा रहे थे, तभी छह की संख्या में वाइक पर सवार बदमाशो ने अचानक बाजितपुर पुल के समीप पहुँचा और बस के आगे सभी बाइक खड़ा करते हुए मारपीट करने लगे।

    बदमाशों के गुस्सा को देखते हुए बस पर बैठे सभी बच्चो ने चीखते चिल्लाते हुए बस से कूदकर खेते खेत दौड़ते हुए गांव की ओर भागने लगे, जहाँ बच्चो की चीख पुकार सुन ग्रामीण दौड़े और बच्चों को सुरक्षित करने के बाद कुछ समझ पाते कि उससे पहले बदमाशों ने चालक की पिटाई करने के बाद उसके हाथ में धमकी भरा पर्ची थमाते हुए खाली बस को पुल के नीचे गड्ढे में ढकेल कर भाग खड़े हुए।

    इस घटना के बाद खबर फैलते ही बच्चों के अभिभावकों में खलबली मच गई। मुसीबत में फंसे बच्चो की तलाश में किसी ने स्कूल तो किसी ने घटनास्थल पर पहुंच कर अपने बच्चों की टोह में जुट गए। इसके बाद घटना की सूचना ही हिलसा और चिकसौरा थाना पुलिस पहुँचकर मामले की छानबीन करने में जुट गई है।

    तब चिकसौरा थानाध्यक्ष प्रकाश लाल ने बताया था कि जमीन विवाद को लेकर कुछ असामाजिक तत्वों के द्वारा स्कूल बस पर हमला किया गया हैं। आवेदन मिलने पर आगे की कार्रवाई की जाएगी

    वहीं, स्कूल बस पर हमला करने के दौरान बदमाशों के द्वारा चालक के हाथ में थमाए गए पर्ची में लिखा था कि डीपीएस स्कूल संचालक विजय भास्कर से मेरा जमीन का विवाद चला आ रहा है। प्रशासन के मेल में आकर मेरे जमीन को जबर्दस्ती हड़पना चाहता हैं। कई बार अनुरोध ओर विनती करने के बाबजूद जमीन नही छोड़ रहा है मैं इसके मंशा को कभी पूरा होने नही देंगे। कभी भी और किसी समय स्कूल में कोई बड़ी अप्रिय घटना को अंजाम दे सकता हूँ।

    पर्ची में स्कूल के बच्चों के अभिभावकों को चेतावनी देते हुए लिखा गया था कि इस स्कूल में जिनके भी बच्चे पढ़ते हैं, वे इस स्कूल से अलग कर लें, क्योंकि इस विवाद में स्कूल संचालक के द्वारा बच्चों को ढाल बना बनाने का काम कर रहा है। किसी भी हाल में बच्चे वहां सुरक्षित नही है। समय रहते अगर अभिभावक नही चेते तो स्कूल में किसी भी समय कुछ अप्रिय घटना हो सकता है।

    आगे पर्ची में साफ लिखा था कि जमीन का विवाद स्कूल संचालक के आलावे किसी से नहीं है। इस विवाद में बच्चों के भविष्य को देखते हुए अभिभावक स्कूल से उसे अलग कर लें।

    हालांकि, उस पर्ची में बदमाशों ने अपने नाम को गौण रख कर अपनी पहचान को सिर्फ जमीन विवाद से पहचान के संकेत दिए हैं। स्कूल संचालक का सीधे किसके साथ जमीन का विवाद है। कुछ भी स्पष्ट नहीं लिखा था।

    दरअसल, हिलसा-फतुहा मुख्य मार्ग पर स्थित डीपीएस पब्लिक स्कूल के पास आठ कट्ठा जमीन का विवाद स्कूल संचालक से करीब एक वर्ष से चला आ रहा है। इस विवाद में पहले भी कई बार रोड़ेबाजी और गोलीबारी की घटना भी हो चुकी हैं। दोनों तरफ से मुकदमा भी चल रहा है।

    Comments

    LEAVE A REPLY

    Please enter your comment!
    Please enter your name here

    Expert Media News_Youtube
    Video thumbnail
    झारखंड की राजधानी राँची में बवाल, रोड़ेबाजी, लाठीचार्ज, फायरिंग
    04:29
    Video thumbnail
    बिहारः 'विकासपुरुष' का 'गुरुकुल', 'झोपड़ी' में देखिए 'मॉडर्न स्कूल'
    06:06
    Video thumbnail
    बिहारः विकास पुरुष के नालंदा में देखिए गुरुकुल, बेन प्रखंड के बीरबल बिगहा मॉडर्न स्कूल !
    08:42
    Video thumbnail
    राजगीर बिजली विभागः एसडीओ को चाहिए 80 हजार से 2 लाख रुपए तक की घूस?
    07:25
    Video thumbnail
    देखिए लालू-राबड़ी पुत्र तेजप्रताप यादव की लाईव रिपोर्टिंग- 'भागा रे भागा, रिपोर्टर दुम दबाकर भागा !'
    06:51
    Video thumbnail
    गुजरात में चरखा से सूत काट रहे हैं बिहार के मंत्री शहनवाज हुसैन
    02:13
    Video thumbnail
    एक छोटा बच्चा बता रहा है बड़ी मछली पकड़ने सबसे आसान झारखंडी तारीका...
    02:21
    Video thumbnail
    शराबबंदी को लेकर अब इतने गुस्से में क्यों हैं बिहार के सीएम नीतीश कुमार ?
    01:30
    Video thumbnail
    अब महंगाई के सबाल पर बाबा रामदेव को यूं मिर्ची लगती है....!
    00:55
    Video thumbnail
    यूं बेघर हुए भाजपा के हनुमान, सड़क पर मोदी-पासवान..
    00:30

    आपकी प्रतिक्रिया