We can do it. Yes, We can do it !

Share Button

जब हम कहते हैं कि हमारे देश की महान संस्कृति को सब धर्मों के लोगों ने मिलजुल कर अपने खून पसीने से सजाया है, संवारा है तो हम पर भद्दे टिपण्णी किये जाते हैं, तुष्टिकरण का आरोप लगाया जाता है।

हमारे  देश के अनेक माननीय नेताओं तक को  न जाने किन किन उपाधियों से सम्मानित कर दिया गया और जाते जाते ओबामा देश की धर्मनिरपेक्ष परंपरा पर बोल गए, तो मोदी भक्त हक्के बक्के हैं। मानो लगता है कि सांप सुंघ गया है। वे कोई अकार-बकार नहीं निकाल पा रहे हैं।

modi_obama_pcमुझे याद नहीं पिछली बार गणतंत्र दिवस के अवसर पर किस मेहमान राष्ट्राध्यक्ष ने इतने बेहतरीन और सशक्त तरीके से अपनी चिंताओं को रखा था।

अमेरिका ने मोदी को भारत के प्रधानमंत्री के तौर पर वीजा जरुर दे दिया था, परन्तु उनका ट्रैक रिकॉर्ड नहीं भुला था।  सच बेहद मुश्किल होता है, जब मेज़बान प्रधान मंत्री आपकी खुशामद में दिन रात एक कर दे और आप उनकी मेजबानी से मुग्ध होने के बजाय उन्हें अपने कर्तव्यों की याद दिलाते हैं।

खासकर आज के वैश्वीकरण के दौर में, जब जीवन के हर पहलु पर बाजारवाद हावी होता जा रहा है।

खासकर अमेरिका जैसा देश, जिसके पास अपने हितों से हटकर देखने का नजरिया नहीं रहा है। ऐसे में ओबामा ने इतनी सच्ची और खड़ी बात कह दी। इस एक कदम से ओबामा का कद विश्व राजनीति में कई गुना बढ़ गया है।

आज करोड़ों भारतीय दिल ही दिल में ओबामा को धन्यवाद दे रहे होंगे और मेरा दिल मुझसे कह रहा है कि मै ६ साल पहले कहे गये ओबामा के उस स्लोगन पर यकीन करूँ…… We can do it. Yes, We can do it !

Share Button

Related Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.