” झारखण्डी नृत्य की विविधता , उराँव जनजाति की महत्ता के साथ “

भारत के मानचित्र में अंकित ऐतिहासिक क्षेत्र छत्तीसगढ़  एवं झारखण्ड आदिवासीयों के निवास के लिए काफी प्रसिद्ध है। झारखण्ड क्षेत्र की अपनी ऐतिहासिक भौगोलिक और संस्कृति की पहचान तो है ही ये अन्य जनजातियों की भाँति आत्मवाद में विश्वास करते हैं, तथा सबसे बड़ा देवता आत्मा है जिसे ये धर्मेश कहते हैं […]

Read more

‘अन्ना आंदोलन’ में शामिल होगें मनीष-केजरीवाल

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल और उप-मुख्यमंत्री मनीष सिसौदिया मंगलवार को एक बार फिर धरने पर बैठने जा रहे हैं। भूमि अधिग्रहण अध्यादेश के खिलाफ समाजसेवी अन्ना हजारे ने जंतर-मंतर पर जो धरना शुरू किया है, अरविंद और मनीष उसी में शामिल होंगे। अरविंद ने इस आंदोलन में अन्ना को पूरा सहयोग […]

Read more

‘असहिष्णुता के इस कृत्य’ से स्तब्ध रह जाते गांधी :ओबामा

अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा ने आज कहा कि पिछले कुछ वर्षों में भारत में सभी धर्मों के बीच व्याप्त ‘‘असहिष्णुता के कृत्य’’ से महात्मा गांधी स्तब्ध रह जाते। ओबामा का आज का बयान ऐसे वक्त में आया है जब व्हाइट हाउस ने धार्मिक सहिष्णुता के मुद्दे पर नई दिल्ली में भारत […]

Read more

झाडू के जरिए सिर्फ अपनी मार्केटिंग कर रहे हैं मोदीः राहुल गांधी

“ प्रधानमंत्री झाडू के जरिए अपनी मार्केटिंग कर रहे हैं। आपने लोकसभा चुनाव में बीजेपी को 14 में से 12 सीटें दी थीं। क्या चुनाव के 6 महीने बीत जाने के बाद भी आपके अच्छे दिन आए हैं। हमारी पार्टी लोगों को जोड़ने का काम करती है जबकि बीजेपी लोगों को […]

Read more

कैंची लेकर मैदान में फिर कूदेगें मधु कोड़ा !

देश की राजनीति में बतौर निर्दलीय मुख्यमंत्री बनने एवं भ्रष्टाचार के आरोपों में सर्वाधिक दिनों तक जेलबंद रहने का रिकार्ड बनाने वाले झारखंड के मधु कोड़ा एक बार फिर सुर्खियों में आ गये हैं। एक तरफ जहां श्री मधु कोड़ा की पार्टी ‘ जयभारत समानता पार्टी ’ को चुनाव आयोग की […]

Read more

आजाद हिंद फौज के कैप्टन अब्बास अली का इंतकाल

आजाद हिंद फौज के कैप्टन रहे अब्बास अली का अलीगढ़ में इंतकाल हो गया। वे 94 साल के थे। उनका जन्म 3 जनवरी 1920 को उत्तर प्रदेश में बुलंदशहर जिले की खुर्जा तहसील में हुआ था। वे आजाद भारत में डा. राम मनोहर लोहिया के करीबी रहे और उनके द्वारा चलाए […]

Read more

”मत भूल मोदी मैं सूर्यपुत्री तापी हूं . . . . .! ”

आदिकाल से लेकर अंत तक भारत एवं भारतीय संस्कृति में नदी -नारी दोनो को ही जीवन दयानी के रूप के रूप में पूजा जाता रहेगा।  जहां एक ओर नारी जन्म देती है तो वही दुसरी ओर नदी मोक्ष प्रदान करती है।  एक सच तो यह भी है कि प्राचिन इतिहास की […]

Read more

“आत्मा की आवाज़” बनाम “लोग क्या कहेंगे”

राजनामा.कॉम।  दुनिया के सामने दिखावा अधिक जरूरी है या अपनी आत्मा की आवाज़ सुनकर उसे मानना और उस पर अमल करना? यह एक ऐसा ज्वलंत सवाल है, जिसका उत्तर सौ में से निन्यानवें लोग यही देना चाहेंगे कि अपनी आत्मा की आवाज़ सुनकर उसे मानना और उस पर अमल करना ज्यादा […]

Read more
1 2 3 7