SBI बैंक के सुरक्षा गार्ड के वेतन का आधा से उपर पैसा यूं उड़ा रही CISS एजेंसी

Share Button

एक्सपर्ट मीडिया न्यूज नेटवर्क। देश का सबसे बड़ी बैंकिंग सेवा देने वाली SBI ,जहां उसकी सुरक्षा में लगे निजी सुरक्षाकर्मियों का बुरा हाल है।

एक ओर जहां बैंक कर्मियों को भारी-भरकम तनख्वाह मिलती है, वहीं सुरक्षा में तैनात निजी सुरक्षाकर्मियों को महज़ लगभग ₹ 15 हज़ार प्रति माह एजेंसी द्वारा भुगतान किया जा रहा है।

हालांकि उसमें भी पीएफ और ईएसआईसी काटकर करीब ₹13 हजार का भुगतान इन कर्मियों को मिल रहा है। वैसे जब इसका पड़ताल किया गया तो जो खुलासा हुआ वो बेहद ही चौंकाने वाला है।

CISS (सेंट्रल इन्वेस्टिगेशन एंड सिक्युरिटी सर्विसेज लिमिटेड) एजेंसी के जिम्मे देशभर के SBI बैंकों और ATM की सुरक्षा का दारोमदार है।

उक्त एजेंसी को इसके एवज में प्रति गार्ड आठ घण्टे के हिसाब से लगभग ₹ 27 हज़ार का भुगतान SBI करती है, मतलब प्रति गार्ड एजेंसी ₹ 12 हजार का मुनाफा कमा रही है।

अब सवाल उठता है कि आख़िर इतने बड़े मुनाफाखोरी के पीछे कहीं कमीशन का खेल तो नहीं! क्या इसमें बैंक और एजेंसी की मिलीभगत है ?

खैर मामला चाहे जो भी हो मगर एक ही छत के नीचे बैंक का चतुर्थ वर्गीय कर्मचारी ₹40 से ₹50 हज़ार प्रतिमाह वेतन पा रहा है और आउटसोर्स गार्ड संभवतः उससे अधिक मेहनत कर महज़ ₹12 से ₹13 हज़ार प्रतिमाह पा रहा है।

वेतन विसंगतियों से सम्बंधित सारे तथ्यों का पुख्ता प्रमाण हमारे एक्सपर्ट मीडिया न्यूज नेटवर्क टीम के पास उपलब्ध हैं।

Share Button

Relate Newss:

सीएम रघुबर और मंत्री सरयू के झंझट में पिट गए जमशेदपुर के पत्रकार !
आआपा में शामिल होते ही धुल गये परवीण के पाप !
....जाहिलों का पत्रकार संगठन कहेगें तो बुरा लगेगा
अखबारों-टीवी चैनलों के लिए टर्निंग पॉइंट है बिहार चुनाव
प्रिंट मीडिया के लिये यह है आत्म-चिंतन का समय
भूमि अधिग्रहण अध्याधदेश का विरोध का कारण
भड़काऊ खबरें प्रसारित करने वाले सुदर्शन चैनल के मालिक सुरेश चह्वाणके के खिलाफ मुकदमा
ऐरा-गैरा नत्थू-खैरा भी खेल रहे यूं मीडिया कप क्रिकेट!
सीएम ने कहा- ए भागो..मीडिया वाले सब भागो, सब निकल गये, लेकिन दुबके रहे दो बड़े वेशर्म पत्रकार
भला हो रेड क्रॉस की, दुःखी पत्रकार को मरहम लगाया
केन्द्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा- jnu मामले को लश्कर आतंकी हाफिज सईद का समर्थन
गुमला में DDC अंजनी कुमार की अगुआई में हुआ जनरेटर घोटाला !
दगंलः आमिर खान की एक और बजोड़ फिल्म
वार्डन की मेहरबानी, बेटी की जगह 3 साल तक पढ़ाता रहा सेवानिवृत बाप
'वेब जर्नलिज्म' से अखबारों तथा मठाधीश पत्रकारों को खतरा

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Loading...
loading...