पीएम को विज्ञापन बनाने वाले जिओ पर महज 500 जुर्माना !

Share Button

नई दिल्ली। अपने देश के प्रधानमंत्री की फोटो एवं राष्ट्रीय प्रतीक चिह्नों और नामों का बिना अधिकारिक अनुमति छापे जाने का जुर्माना सिर्फ पांच सौ रुपये है ! विज्ञापनों में बिना अनुमति के पीएम नरेंद्र मोदी की तस्वीर इस्तेमाल किए जाने के मामले में रिलायंस जियो महज 500 रुपये का जुर्माना देकर बच जाएगा।

पांच सौ रुपये जुर्माने के इस मामले को लेकर सोशल मीडिया पर मोदी का तरह तरह से मजाक उड़ाया जा रहा है। लोग मोदी पर जान बूझ कर रिलांयस को फेवर करने का आरोप लगा रहे हैं। राष्ट्रीय प्रतीक चिह्नों और नामों के गलत इस्तेमाल से संबंधित कानून 1950 में बना था, जिसमें ऐसे मामलों में 500 रुपये तक ही जुर्माना लगाने का प्रावधान है।

रिलायंस जियो के विज्ञापन में पीएम की तस्वीर छापे जाने का राजनीतिक दलों ने जमकर विरोध किया था। किसी निजी कंपनी के विज्ञापन में बिना अनुमति के राष्ट्रीय प्रतीक चिह्नों और नामों सहित प्रधानमंत्री की तस्वीर छापे जाने को राजनीतिक दलों ने असंवैधानिक बताते हुए विरोध जताया था।

जियो के विज्ञापनों में पीएम मोदी की तस्वीर दिखाए जाने के बाद विपक्ष ने हमला बोलते हुए कहा था कि आखिर कैसे कोई निजी कंपनी अपने उत्पाद के प्रचार के लिए प्रधानमंत्री की फोटो का इस्तेमाल कर सकती है।

इसके अलावा ई-वॉलेट कंपनी पेटीएम के विज्ञापनों में भी पीएम नरेंद्र मोदी की तस्वीर लगाए जाने का विपक्षी दलों ने तीखा विरोध किया था।

दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल ने तो यह आरोप भी लगाया था कि मोदी सरकार ने पेटीएम को फायदा पहुंचाने के लिए नोटबंदी का फैसला लिया।

यह भी पढ़े  घोटाला में फंसाने वाले नीतीश-मोदी जल्द जाएंगे जेलः तेजस्वी

विदित हो कि पेटीएम चीन संरक्षित एक निजी व्यवसायिक कंपनी है।

Share Button

Relate Newss:

'महापाप की कवरेज' पर बोले मी लार्डः ‘मीडिया की आजादी के खिलाफ नही हैं हम’
भड़काऊ खबरें प्रसारित करने वाले सुदर्शन चैनल के मालिक सुरेश चह्वाणके के खिलाफ मुकदमा
जानिये वरिष्ठ पत्रकार कृष्ण बिहारी मिश्र के खिलाफ FIR पर क्या बोले धुर्वा थाना प्रभारी
मैं शहीद पापा बेटी हूं, पर आपके शहीद की बेटी नहीं : गुरमेहर
सीएम के प्रेस एडवाइजर को शोभा नहीं देता ऐसा प्रोफाइल फोटो लगाना
पत्रकारों पर अब सीधे मुकदमे दर्ज नहीं होंगे :अनिल रतूड़ी
मीडियाः न कोई नीति और न कोई नियामक
सीबीआई और दिल्ली पुलिस ने छोटा राजन को लेकर बनाया मीडिया वालों को बेवकूफ
एक व्यक्ति नहीं, संस्था थे रमेशजी : शिवराज सिंह चौहान
'सांप्रदायिकता' के ज़हर को छोड़कर एकता को गले लगाइए
सोशल साइट पर वायरल हो रहा है एक हिन्दी दैनिक की यह खबर
फेसबुक की डगर पे ऐसे चलें संभल-संभल के
We can do it. Yes, We can do it !
नहीं रहे दैनिक भास्कर समाचार पत्र समूह के चेयरमैन रमेशचंद्र अग्रवाल
बीबी के गहने और अपनी जमीनें पाने के लिए मंत्री बनेगें नवीन!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Loading...
loading...