JAJ का ‘सनकी’ प्रदेश अध्यक्ष फिर सुर्खियों में, जमशेदपुर जिलाध्यक्ष ने चटाई धूल

Share Button

राजनामा.कॉम।  यह मामला झारखंड जनर्लिस्ट एसोसिएशन जमशेदपुर इकाई से जुड़ा है। प्राप्त सूत्रों के अनुसार झारखंड जनर्लिस्ट एसोसिएशन के कथित प्रदेश अध्यक्ष शाहनवाज हसन को जमशेदपुर इकाई के जिला अध्यक्ष मनोज सिंह ने सनकी बताते हुए सभी ग्रुप से बाहर कर दिया। वैसे अन्य स्थानों के साथ-साथ जमशेदपुर इकाई भी तार तार होती नजर आ रही है।

गौर करनेवाली बात  है कि JJA का कथित प्रदेश अध्यक्ष शाहनवाज हसन अपने घर (जमशेदपुर) मैं जब अपना संगठन को बचा नहीं पाया तो राज्य के अन्य स्थानों पर वह पत्रकार हित की क्या बात कर सकता

क्या है मामला

JJA का कथित प्रदेश अध्यक्ष शाहनवाज हसन…..

बता दूं कि यह पूरा मामला उस वक्त शुरू हुआ जब झारखंड जनर्लिस्ट एसोसिएशन जमशेदपुर इकाई की ओर से पिछले साल बैडमिंटन टूर्नामेंट का आयोजन कराया गया था बता दूं कि वह कार्यक्रम काफी सफल हुआ था और जमशेदपुर में झारखंड जर्नलिस्ट एसोसिएशन ने काफी मजबूत उपस्थिति दर्ज कराई थी।

हालांकि उस वक्त प्रदेश अध्यक्ष ने पहले तो स्वयं उस कार्यक्रम में आने से मना कर दिया था लेकिन अपने चापलूसों के माध्यम से वह यह चाहता था कि उसके लिए कोई गेस्ट हाउस या होटल बुक कराकर जिला इकाई दे और उसमें प्रदेश के कई कार्यकर्ताओं को आमंत्रित करें जो कि जमशेदपुर इकाई के जिला अध्यक्ष को कतई बर्दाश्त नहीं हुआ और उन्होंने साफ कर दिया कि हमने किसी से 1 रुपैया भी चंदा नहीं लिया है ना ही प्रदेश इकाई की ओर से हमें ₹1 का मदद किया गया तो फिर आ भगत की कोई बात कहां से आती है

उधर कार्यक्रम में महत्वपूर्ण भूमिका निभाने वाले झारखंड जनर्लिस्ट एसोसिएशन प्रदेश इकाई के एक अन्य पदाधिकारी ने कार्यक्रम के सफल आयोजन के बाद कार्यक्रम से संबंधित कुछ पोस्टिंग अन्य ग्रुप में डाला जो जे जे ए के कथित प्रदेश अध्यक्ष को रास नहीं आया और उसने बिना पर्याप्त कारण के संगठन के सच्चे सिपाही को रिमूव करते हुए संगठन से बाहर का रास्ता दिखाने का काम किया। जिसका जमशेदपुर ही नहीं पूरे राज्य के कई जिलों में व्यापक असर हुआ और देखते ही देखते एक साल के भीतर पूरा संगठन धराशाई हो गया।

हालांकि जमशेदपुर इकाई किसी तरह से उस सनकी सुल्तान के साथ तालमेल बिठाने का प्रयास करता रहा लेकिन अपना सनक पूरा करने के लिए उसने फिर ओछी हरकत की और नतीजा यह हुआ कि आज जमशेदपुर में भी झारखंड जनर्लिस्ट एसोसिएशन तार-तार हो गया और संगठन टूट के कगार पर आ गया है।

कौन है संतोष सोना

बता दूं कि संतोष सोना शाहनवाज हसन को पूरे प्रदेश में 

संगठन खड़ा करने से लेकर आर्थिक रुप से सहयोग करने का काम किया करता था। संगठन को खड़ा करने में उसने अपनी काफी कुर्बानियां दी। अपने खर्चे पर चाहे गिरिडीह हो या धनबाद, चाहे पलामू हो या चतरा वह जाया करता था, और संगठन का प्रचार प्रसार करता था। और पत्रकारों को संगठन से जोड़ने का काम किया करता था।

आलम यह था कि वह सनकी सुल्तान संतोष को न्यूज़ वर्ल्ड के नाम पर 7 महीनों तक गुमराह करता रहा। और ₹15000 महीने करार पर बतौर रिपोर्टर रखा। उसके बाद उसकी नैनो गाड़ी को ₹ 30 000 महीना किराया पर लिया और 3 महीने तक न्यूज़ वर्ल्ड का लोगो लगा कर इधर-उधर घूमता रहा।

अंततः गाड़ी के इंजन में जब तकनीकी खराबी आई तो ला कर वापस जमशेदपुर में पटक दिया। उसके बाद बहुत ही चालाकी से संतोष को संगठन से बाहर का रास्ता दिखाया और अपने कुछ चापलूसों के माध्यम से उसके विषय में दुष्प्रचार और भ्रांतियां फैलाने का जिम्मा दे डाला। कुल मिलाकर लगभग डेढ़ से 200000 रुपए का चूना लगाकर वह निकल लिया।

जरा सोचिए कि कैसे यह बहरूपिया लोगों को बेवकूफ बनाकर गाढ़ी कमाई लेकर चंपत हो जाता है उस बहरूपिया की सबसे बड़ी खासियत यह है कि वह किसी को भी सब्जबाग दिखाकर अपने झांसे में फंसा लेता है मित्रों ऐसे बहरूपिया से बचें और अन्य पत्रकार साथियों को भी बताएं नहीं तो आंचलिक स्तर के पत्रकार प्रखंड स्तर के पत्रकार कहीं का नहीं रह जाएंगे।

Share Button

Related Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Loading...