कंप्यूटर क्रांति वनाम कैशलेस इकोनॉमी की बेहतरी

Share Button
Read Time:3 Minute, 9 Second

राजीव गांधी का वो जमाना याद है?  क्या आपको राजीव गांधी का वो जमाना याद है? मुझे याद है, जब राजीव गांधी ने कंप्यूटराइजेशन की बातें शुरू की थीं तब इसके विरोध में एक नारा बड़े जोर-शोर से उछला था- पहले दो हाथों को काम, फिर लो कंप्यूटर का नाम !

कंप्यूटराइजेशन के विरोध में उस वक्त जो दलीलें पेश की जाती थीं, वह बड़ी वाजिब लगती थीं। रोटी का सवाल तब सबसे अहम था ( यह सवाल कमोबेश आज भी कायम है) और वाकई यही लगता था कि कंप्यूटर की बात करनेवाला नेता देश के जमीनी हालात से मुंह चुराते हुए हवाई किले बना रहा है।

Inext ,Ranchi, Jharkhand के  Ediorial Head  शंभुनाथ चौधरी अपने फेसबुक वाल पर
Inext ,Ranchi, Jharkhand के
Ediorial Head शंभुनाथ चौधरी अपने फेसबुक वाल पर

हर कोई मानेगा कि देश आज अगर टेक्नोलॉजी के साथ कदमताल कर रहा है, तो इसकी आधारशिला इसी कंप्यूटर क्रांति ने रची थी।

कैशलेस इकोनॉमी का आइडिया बुरा है ? आज जब कैशलेस इकोनॉमी का आइडिया पेश किया जा रहा है, तब इसका अंध-विरोध जायज नहीं लगता। हां, इसे तुरत-फुरत में जिस तरह थोपने की कोशिश हो रही है वह गलत है और इसका विरोध अप्रत्याशित भी नहीं।

आइडिया चाहे कितना भी अच्छा हो, उसे अचानक तुगलकी अंदाज में लागू कराने की कोशिश करेंगे तो इसका खामियाजा भुगतने को तैयार रहना पड़ेगा।

याद कीजिए कि विशाल बहुमत से बनी राजीव गांधी की सरकार को अगले ही चुनाव में खारिज होना पड़ा था, जबकि बाद में आई सरकारों ने उन्हीं के कार्यकाल में बनी योजनाओं के आधार पर आगे के रास्ते तय किए और बेहतर रिजल्ट हासिल किए।

बेहतर क्या है ? बेहतर क्या होता? यही कि कैशलेस इकोनॉमी के लिए सरकार सिस्टमैटिक प्रोग्राम पेश करती। इसके लिए लोगों को बकायदा एजुकेट करने का अभियान चलाया जाता।

लगता है कि नोटबंदी से देश में एक हद तक पैदा हुए अफरा-तफरी के हालात और कई जगहों से उठ रहे विरोध को तत्काल काउंटर करने के लिए सरकार अचानक कैशलेस इकोनॉमी के आइडिया का ढाल की तरह इस्तेमाल कर रही है।

शायद यह आइडिया अब से पहले तक सरकार की सुविचारित रणनीति का हिस्सा न रहा हो, लेकिन फ्यूचर की इकोनॉमी का रास्ता यही है। बेहतर रास्ता यही है। देर-सबेर हमें इस तरफ जाना ही होगा।

0 0
Happy
Happy
0 %
Sad
Sad
0 %
Excited
Excited
0 %
Sleppy
Sleppy
0 %
Angry
Angry
0 %
Surprise
Surprise
0 %
Share Button

Relate Newss:

District Administration, Nalanda पर ऐसी सूचना-चित्र के क्या है मायने?
सेलरी नहीं मिलने से क्षुब्ध ड्राइवर ने  'इंडिया न्यूज' चैनल के मालिक को 'ठोंक' दिया !
16 टन का भार दांतो से खींचने वाले राजेन्द्र ने दी खुली चुनौती
न कोई नैतिकता और न कोई समर्पण !
अहमद कमल सिद्दकी की पोस्टःगुदगुदाती भी, झकझोरती भी
चुनाव जीतने के बाद लालटेन लेकर सबसे पहले बनारस जाएंगे लालू
भारतीय राजनीति में वंशवाद के टॉप10 नये पौध
फेसबुक पर भास्कर समूह के मालिक की शादी(?) का वायरल !
NDTV के खिलाफ हुई  एमरजेंसी जैसी कार्रवाई :एडिटर्स गिल्ड
उस महिला का गर्भपात की पुष्टि, कोडरमा घाटी में जिस अज्ञात महिला का मिला था शव
गलत रस्सी खींच गई महबूबा, श्रीनगर में फहराने से पहले नीचे गिर गया तिरंगा!
नालंदा में गजब हो गया, अंतिम सुनवाई के दिन लोशिनिका से रेकर्ड गायब, मामला राजगीर मलमास मेला सैरात भू...
अब नीतिश संग किसान रैली कर पीएम मोदी को ललकारेगें हार्दिक पटेल
पल्सर पल्सर पल्सर और पल्सर...
हिन्दुस्तान की कुराह चला भास्कर, नालंदा एसपी के हवाले से छाप दिया ऐसी मनगढ़ंत खबर
यह कोई सांप्रदायिक नहीं, राजनीतिक दंगा है भाई !
मान्यवर खुजलीवाल के नाम खुला पत्र
पगड़ी, फोटो, रिलायंस-अलायंस जैसे मुंडा के प्रयासों का क्या होगा असर ?
भारत से 5 हजार करोड़ लेकर फरार नाईजीरिया में देखिये कैसे ऐश कर रहा नीतीन फेदशरा
गया के कोठी थाना प्रभारी की गोली मारकर हत्या
पटना में ही था हैदर अली संग तहसीन
सबाल गृह मंत्रालय और पुलिस बलों का शुद्धिकरण का
गोड्डा बना गौ तस्करी का अड्डा, कहां है आरएसएस के रघु'राज!
बिहार में एक बार फिर, नीतिश सरकार :पोल ऑफ एक्जिट पोल्स
नही तो मीडिया को खारिज कर देगी जनता !

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Loading...