ये कौन है जो हवाओं में जहर घोल रहा है

”…..अभी नाग पंचमी नही आयी …. कहते है सांपो को चाहे जितना भी दूध पिलाओ जहर कम नही होता …अभी मुल्क में  ना जाने कैसी हवा चल रही है जिसको देखो जहर की चर्चा में मसगूल है।  ….जहर की फ़सल कब बोई और कब काटी जाती है ,इसके बोने का मौसम कब आता है ?.यह  भारतीय किसान को पता नही है। जहर के खेतिहर सियासती होते है अब जाके पता चला है। आदमी के जहर के आगे सांपो का जहर अब असरदार नही है। आदमी के काटे का कोई इलाज नही है। आदमी के जहर का असर देखने के लिए रैली […]

Read more

राज्यसभा की सदस्यता मुबारक हो हरिवंश जी

कल एक अखबार के जाने माने व्यक्ति हरिवंश जी, जिन्हें इस बार जदयू की विशेष कृपा से राज्यसभा जाने का मौका मिला है, उनकी आत्मस्वीकारोक्ति पढने का मौका मिल गया। एक चाय की दुकान पर। एक मित्र ने कहा कि यार, बेशर्मी की भी हद होनी चाहिए। कोई इतना बेशर्म कैसे हो सकता है। एक दूसरे मित्र ने कहा कि इस आदमी की नजर में इस अखबार के जितने पाठक हैं, जब मित्रों ने इतनी बातें कह दी तो लगा जैसे मुझे भी पढ लेना चाहिए। सचमुच मुझे ऐसा कुछ भी नहीं लगा। सिवाय इसके कि हरिवंश जी तो बिना पैसे […]

Read more

वो गरिया क्या दिया, कुछ मीडिया वालों की सुलग गई

सोमनाथ भारती और केजरीवाल ने मीडिया वालों को गरिया क्या दिया, कुछ मीडिया वालों की सुलग गई.. न्यूज नेशन के अजय कुमार और एबीपी न्यूज के विजय विद्रोही लगे अपने कथित सरोकारी तेवर का प्रदर्शन करने… लगे प्रमाण मांगने और ‘आप’ को सबक सिखाने… अरे अजय और विद्रोही जी… सच्चाई आप भी जानते हैं, काहें मुंह खुलवाते हो… वैसे, मुंह खुलवाने की भी क्या जरूरत है… मुझे पता है कि आप सभी छुप छुप के भड़ास  पढ़ते हो और यहां प्रकाशित होने वाली मीडिया की अंधेर नगरी के किस्सों से खूब वाकिफ हो… न्यूज नेशन किसका चैनल है, इसमें किसका पैसा […]

Read more

कोई पहले या आखिरी पत्रकार नहीं हैं आशुतोष

वरिष्ठ पत्रकार, न्यूज एंकर और न्यूज चैनल- आई.बी.एन 7 के प्रबंध संपादक आशुतोष पिछले महीने चैनल से इस्तीफा देकर आम आदमी पार्टी में शामिल हो गए. ऐसी चर्चा है कि आशुतोष २०१४ के लोकसभा चुनावों में पार्टी के प्रत्याशी होंगे. आप पार्टी ने उन्हें अपने राष्ट्रीय प्रवक्ताओं की सूची में शामिल कर लिया है और आशुतोष पार्टी प्रवक्ता के बतौर चैनलों पर आम आदमी पार्टी की ओर से पार्टी का बचाव करने के साथ उसका पक्ष रखने लगे हैं. लेकिन उनके आप पार्टी में शामिल होने के बाद से पत्रकारों और राजनीति के बीच संबंधों को लेकर बहस फिर शुरू हो […]

Read more

…….तो डेढ़ सौ रिपोर्टों के बाद एक रिपोर्ट और सही

राजबब्बर जी ने ‘इन्साफ का तराज़ू’ में अस्मत लूटने का एक दृश्य किया था, शत्रुघ्न सिन्हा जी ने ‘शैतान’ फ़िल्म में ऐसा ही एक दृश्य किया था, अमिताभ बच्चन जी ने कई फिल्मों में ईश्वर तक को बुरा-भला कहा है। तो क्या अभिनय के दौरान उनके व्यवसायिक जीवन में निभाए गए स्क्रिप्टेड किरदारों की वजह से उन पर इल्ज़ाम लगाया जा सकता है? क्या खलनायक का किरदार निभाते समय किये गए अपराधों के लिए कांग्रेस (राज बब्बर) और भाजपा (शत्रुघ्न सिन्हा) को कटघरे में खड़ा कर देना चाहिए? क्या कवि-सम्मेलनीय मंच पर बोले गए स्क्रिप्टेड जुमलों की वजह से हिन्दू, मुस्लमान, […]

Read more

क्या हथेली पर जेल की मुहर लगी थी

विगत  छह जनवरी को बिहार की राजधानी पटना में  सेक्स रैकेट के संचालन एवं रेप के आरोप में गया के उप मेयर  मोहन श्रीवास्तव को सात जनवरी को जेल भेजने की तैयारी पुलिस कर रही थी कि राजद के विधायक सुरेन्द्र यादव से रास्ते मे भेट हुई।  उनकी हथेली पर एक मोहर लगा हुआ था । वह मोहन श्रीवास्तव से मिलने कोतवाली थाना जा रहे थे। जेल के अंदर जाकर कैदी से मुलाकात करने वाले के हाथ या हथेली पर हीं जेल की मुहर लगती है । मोहन श्रीवास्तव को कोतवाली से कोर्ट भेजा जा चुका था । चुकि उस दिन मेरा […]

Read more

द्रौपदी की रक्षा के लिये प्रकट हुये भगवान

पुराने साल की समाप्ति और नये साल के आगमन के साथ बहुत कुछ ऐसा घटित हुआ जिसने गया नगर निगम को शर्मसार कर दिया। 6 जनवरी की रात को पटना पुलिस ने उप मेयर मोहन श्रीवास्तव को रेप के आरोप मे अन्य दो पार्षदो के साथ गिरफ़तार किया । पटना से लेकर गया तक के अखबार एवं टीवी न्यूज चैनलो ने इस मामले को बहुत गंभीरता से लिया और गया की जनता भी आक्रोश मे सडको पर उतर आई। सभी गुस्से मे थें, खुद को छला हुआ महसूस कर रहे थे । मैं स्तब्ध थी। समझ नही पा रही थी क्या […]

Read more

कठखोदी की चोंच में फंसा लोकतंत्र और आम आदमी !

जबसे ‘आम आदमी पार्टी’ ने दिल्ली विधानसभा में जीत और अरविंद केजरीवाल ने मुख्यमंत्री की कुर्सी हासिल की है, तबसे लेकर आज मुख्यमत्री का जनता दरबार होने तक जो कुछ भी हुआ, यही लगा कि कठखोदी की चोंच में लोकतंत्र फंस गया है। आप सब जानते ही होंगे कि कठखोदी चिडिय़ा एक जगह स्थिर नहीं बैठती और जिस भी डाल या लकड़ी पर बैठती है वहीं खोदती है, इसीलिए इस पक्षी का नाम ही पड़ गया कठखोदी या कठफोड़वा। अब अरविंद केजरीवाल और उनकी ‘लुक्खी’ टीम को भी कुछ ऐसा ही कहा जाने वाला है। लुक्खी जानते हैं न! हर पल, […]

Read more

अब पूजा-अर्चना से होगा राजस्थान का विकास

संविधान या कानून द्वारा स्वीकृत प्रावधानों के तहत या संसारभर में विज्ञान के किसी भी सिद्धान्त से इस बात की प्रत्यक्ष या परोक्ष रूप से पुष्टि नहीं हुई है कि पूजा-अर्चना किये जाने से किसी प्रदेश की जनता की उन्नति और प्रदेश के विकास का मार्ग प्रशस्त होता हो। ऐसे में जनता से संग्रहित राजस्व को प्रदेश की उन्नति और विकास के नाम पर राजस्थान सरकार द्वारा खर्च किया जाना असंवैधानिक और अवैज्ञानिक तो है ही, साथ ही साथ ऐसा किया जाना अंधविश्‍वासों को बढावा देने वाला है। जो संविधान के अनुच्छेद 51क (ज) में वर्णित नागरिकों के मूल कर्त्तव्यों के […]

Read more

राजनीति के अश्वत्थामा न बन जाएं केजरीवाल

आम आदमी पार्टी सत्ता में आई, तो राजनीति एक नयी राह की राह्गीर हो गयी। आज़ादी के पहले राजनीति स्वतंत्रता सेनानियों के कन्धों पर सवार होकर चलती थी, लेकिन आज़ादी मिलने के लगभग डेढ़ दशक के बाद राजनीति के कंधे पर नेता सवार होकर चलने लगे। उनकी एकमात्र तलाश कुर्सी की थी। कुर्सी जब मिल गयी और देश की आर्थिक नीतियां बदल कर उदारवादी हो गयीं तो नेताओं, खासकर सत्ताधारी नेताओं का,एकमात्र लक्ष्य वैभव का सुख प्राप्त करना हो गया। धीरे-धीरे आम आदमी, राजनीतिक मूल्य और नैतिक मूल्य हाशिये पर चले गए। उदारीकरण और बाज़ारवाद के विरोध की आवाज़ नेताओं के […]

Read more
1 16 17 18 19 20 23