एक उलगुलान की बेचैनी है आजाद सिपाही !

आजाद सिपाही : कलम अब बोलेगी वह 1989 का अक्टूबर का महीना था, जब मैंने रांची की सरजमीं पर कदम रखा। ललक थी उलगुलान के नायक भगवान बिरसा की रत्नगर्भा धरती को करीब से देखने की। चाहत थी यहां के जंगल-पहाड़ों-झरनों की धड़कनों से खुद को जोड़ने की। माद्दा था पत्रकारिता में कुछ नया करने का। नमन है इस धरती को, जिसने मुझे कर्म का असली मर्म समझने की क्षमता दी। मेरी इस कर्मभूमि ने मुझे आत्मविश्वास, साहस और हौसले की जो पूंजी मुझे सौंपी है, वही मेरा एकमात्र संबल है। मुझे तब प्रभात खबर में अवसर मिला था। संघर्ष और […]

Read more

तमाम डिजिटल मीडिया के कर्मियों को भी मिलेगा वेजबोर्ड का लाभ !

प्रिंट मीडियाकर्मियों की तरह न्यूज़ चैनल्स, वेब और अन्य तमाम डिजिटल मीडिया में कार्यरत मीडियाकर्मियों को भी जल्द ही श्रमजीवी पत्रकार अधिनियम के दायरे में लाया जाएगा। साथ ही उन्हें भी पत्रकारों के लिए गठित वेजबोर्ड का लाभ मिलने लगेगा। 19 अगस्त को भारतीय मजदूर संघ के राष्ट्रीय मंत्री श्री पवन कुमार के नेतृत्व में मप्र पत्रकार, गैर-पत्रकार संगठन के कार्यकारी अध्यक्ष श्री सुचेंद्र मिश्रा और महामंत्री श्री तरुण भागवत ने केंद्रीय श्रम एवं रोजगार मंत्री श्री बंडारू दत्तात्रेय से मुलाकात कर इस संबंध में मांगपत्र सौंपा। श्री दत्तात्रेय ने इस पर सहमति जताते हुए इसे वर्तमान में जारी श्रम अधिनियमों […]

Read more

आईये raznama.com की नई मुहिम “ऑपरेशन इंक” से जुड़िए

आज से मैं रांची से एक मुहिम शुरु कर रहा हूं। मुहिम का नाम है…” ऑपरेशन इंक “। इस मुहिम के तहत अखबारों और उससे जुड़े लोगों का हरसंभव सही चित्रण आपके सामने लाई जाएगी। इस मुहिम में आप भी भागीदार बनिए। दैनिक जागरण से जुड़े Pradeep Kumar Singh जी फेबुक पर हमारे मित्र हैं। उन्होंने हमारे ” धन्य हो अखबार के एसी में बैठे वेशर्म पत्रकार! ” शीर्षक वाली पोस्ट पर Harish Saurabhजी के कमेंट पर सीधा प्रहार किया है। ऐसे में जरुरी हो गया कि मैं अपने मुहिम की शुरुआत उन्ही से करुं। मैंने अपनी पत्रकारीय जीवन की शुरुआत […]

Read more

आज 31 मई को काला दिवस मना रहे हैं हम !

राजनामा.कॉम (मुकेश भारतीय)। आज 31 मई है। वर्ष 2012 में आज के ही दिन झारखंड में घृणित राजनीति की कोख की पैदाईश मीडियाई गुंडों के आदेशपालक पुलिस की अकर्मण्यता का शिकार हुआ था। इस कारण मुझे 14 दिनों तक जेल में रहना पड़ा था। चित्र तात्कालीन सीएम अर्जुन मुण्डा और स्पीकर सीपी सिंह के आवास के पास गोंदा थाना के हाजत की है। देश व समाज के जिन पापियों की चेहरों का चेहरा देखना तक पसंद नहीं करता, जिसके नरकस्थली पर अपना कदम रखना भी पाप समझता हूं…व्यवस्था के वैसे अवैध पैदाइश ने आरोप लगाया था कि मैं उससे कई बार […]

Read more

बिग बी ने सिंगापुर की जिद्दू डॉट कॉम में किया 7.1 करोड़ का निवेश !

राजनामा.कॉम। बॉलीवुड के महानायक अमिताभ बच्चन और उनके परिवार ने सिंगापुर के फाइल शेयरिंग पोर्टल जिद्दू डॉट कॉम में करीब 7.1 करोड़ डॉलर निवेश किया है। कंपनी के एक अधिकारी ने यह जानकारी दी। कंपनी के संस्थापक वेंकट श्रीनिवास मीनावली ने एक बयान जारी कर कहा कि मुझे इस बात की काफी खुशी है कि अमिताभ बच्चन ने जिद्दू डॉट कॉम में विश्वास दिखाया है। पोर्टल का संचालन मेरिडियन टेक प्राइवेट लिमिटेड करती है। कंपनी मुफ्त क्लाउड स्टोरेज की सुविधा देती है और ई-वितरण तथा माइक्रो भुगतान के क्षेत्र में काम करती है। पोर्टल ने कहा कि उसे 1.2 अरब पेज […]

Read more

देखिए Znews: आरोप विश्वास पर, विवादों में केजरीवाल

आज की दिल्ली छाप कनफोड़ू मीडिया में जी न्यूज का कोई सानी नहीं है। उसके मुख्य कर्ता-धर्ता सुभाष चन्द्र गोयल से लेकर सुधीर चौधरी जैसे एंकर संपादकों के कारनामें लोग काफी देख-सुन चुके हैं। बहरहाल, जी न्यूज के बेवसाइट की “अनैतिक संबंध’ विवाद: विश्वास को दिल्ली महिला आयोग का नोटिस, महिला चाहती है संबंधों पर सफाई दें आप नेता” एक बड़ी खबर है कि आम आदमी पार्टी के नेता अरविंद केजरीवाल एक बार फिर विवादों में हैं। आप की एक महिला कार्यकर्ता ने अपने साथ उनके अनैतिक संबंधों की अफवाहों पर चुप रहने का आरोप लगाया है।  जबकि पूरी खबर में […]

Read more

वेब होस्टिंग ख़रीदने से पहले परखें 10 जरूरी बातें

जब हमें वेब होस्टिंग ख़रीदनी होती है कि हमें किस होस्टिंग कम्पनी को चुनना चाहिए। आज मार्केट में सभी कम्पनियाँ 99% अपटाइम, अनलिमिटेड स्पेस और बैंडविथ देने और अनुभवी टेक सपोर्ट के दावे करती है। जिससे हमें कहाँ क्या मिल रहा है इस बात में बड़ा कंफ़्यूज़न हो जाता है।  इस लेख के माध्यम से हम आपको बतायेंगे कि आपको वेब होस्टिंग का चुनाव किस प्रकार करना चाहिए। जिससे आप स्वतंत्र होकर अपनी आवश्यकतानुसार अपने बजट से बाहर जाये बिना होस्टिंग पैकेज ख़रीद सकें।  1. कस्टमर रिव्यू – ग्राहक क्या कहता है? Customer Review – What existing customer says? किसी कम्पनी के […]

Read more

टीवी चैनलें बढ़ा रही है बाबाओं का कारोबार

भारतवर्ष विश्व का अकेला ऐसा देश है जो अनेकता में एकता  के लिए जगप्रसिद्ध है। परंतु अफ़सोस की बात तो यह है कि भारतीय समाज के इस लचीले स्वभाव का लाभ भारत के तमाम पाखंडी,धनलोभी,अय्याश तथा दुराचारी प्रवृति के चतुर बुद्धि लोग उठाने लगे हैं। जिधर देखो उधर इस प्रकार के लोग अपनी अलग ‘ढाई ईंट की मस्जिद’ बनाए बैठे हैं। स्वयं को भगवान या ईश्वर बताना या ईश्वर का स्वयंभू अवतार बनना तो गोया भारत में मज़ाक सा बन गया है। जबसे हमारे देश में निजी टीवी चैनल्स की संख्या में इज़ाफ़ा हुआ है तथा 24 घंटे का प्रसारण शुरु […]

Read more

अमेजन के हिंदू देवी-देवताओं की ‘फोटो लेगिंग’ पर बबाल

ई-कॉमर्स कंपनी अमेजन विवादों में फंस गई है। अमेजन की वेबसाइट पर बिक्री के लिए उपलब्ध हिंदू देवी-देवताओं की तस्वीरों वाली महिलाओं की लेगिंग को लेकर बवाल हो रहा है। अमेजन पर बिक रही लेगिंग को यिजम ब्रैंड ने तैयार किया है और इनकी कीमत करीब तीन हजार रुपए है। इन कपड़ों पर गणेश, शिव, ब्रह्मा, बजरंग बली, राम, राधाकृष्ण की तस्वीरें छपी हैं। कई हिंदू धर्मावलंबियों ने अमेजन को ईमेल कर ऐसी लेगिंग की बिक्री पर रोक लगाने की मांग की है। यूनिवर्सल सोसाइटी ऑफ हिंदुइज्म ने इस मामले पर आपत्ति जताते हुए कहा है कि हिंदू देवी-देवताओं की तस्वीरों […]

Read more

प्रोपगंडा है मोदी की ईमानदारी और विकास का दावाः विकिलीक्स

नई दिल्ली (राजनामा)।  अपने सनसनीखेज खुलासों से बार-बार अन्तर्राष्ट्रीय राजनीति में खलबली मचा चुकी अमेरिकी वेबसाइट “विकिलीक्स” ने अब मोदी पर निशाना साधा है। साथ ही मोदी की वेबसाइट पर फर्जी दावों की पोल खोल दी है।  विकिलीक्स ने साफ किया है कि कभी भी बीजेपी के पीएम उम्मीदवार नरेंद्र मोदी को “ईमानदार” शख्स नहीं कहा है। लेकिन, मोदी की बेवसाइट पर यह दावा किया गया है कि विकिलीक्स ने मोदी की तारीफ की है। सोमवार सुबह विकिलीक्स ने ट्वीट करके चुनाव से पहले भारत की राजनीतिक तूफान खडा कर दिया है। विकिलीक्स ने टि्वटर पर लिखा कि उसके केबल्स में […]

Read more

साजिश का हिस्सा है ‘केजरी-पुण्य वीडियो’ का वायरलीकरण

पुण्य प्रसून बाजपेयी और अरविंद केजरीवाल के वीडियो को बेवजह तूल दिया जा रहा है…. यह भाजपा और कार्पोरेट मीडिया की मिलीजुली साजिश का हिस्सा है… चैनलों में जो डिबेट होते हैं, उसमें ब्रेक के दौरान जाने कौन कौन सी बातें होती हैं.. मुझे याद है… एक बार एक डिबेट के दौरान ब्रेक हुआ तो एक कांग्रेस परस्त कवि ने मुझसे कहा कि ”यशवंत जी, इतना काहे दौड़ाते हो… थोड़ा समझा करो.. कांग्रेस का नमक खाया है तो हलका फुलका उनके पक्ष में तर्क देने ही पड़ेंगे…” व्यंग्य कविताएं सुनाने वाले उस कवि की यह बात सुन हम सभी हंस पड़े… […]

Read more

न्यूज पोर्टलो में निष्पक्षता का अभाव

अखबार और टीवी चैनलो की तो पोल खुल चुकी है । अधिकांश पढे-लिखे लोगो का मानना है कि ये दोनों माध्यम अपने स्वार्थ को सर्वोपरि रखकर कोई भी समाचार प्रकाशित करते है। निष्पक्षता की बात बेमानी है। इनके कंटेट, समाचार से यह साफ़ झलकता है। एक दुसरे की प्रशंसा ये नही कर सकते क्योंकि व्यवसायिक प्रतिद्वंदिता है। एक दुसरे के खिलाफ़ भी खुलकर नही लिखते सिवाय नंबर एक वाले सर्वेक्षण के जो ग्राहक यानी विग्यापनदाता को फंसाने के लिये होता है। इन दोनो माध्यमो की असलियत को सामने लाने एवं विश्वसनियता को समाप्त करने मे मास मीडिया यानी व्यापक स्तर पर […]

Read more
1 2 3 4 5