ऐसे लोग बनेंगे प्रेस एडवाइजर, तो रघुवर दास का बेड़ागर्क होना तय

जी हां, झारखण्ड के मुख्यमंत्री रघुवर दास के प्रेस एडवाइजर है Yogesh Kislay, ये मुख्यमंत्री को क्या सलाह देते होंगे?, पत्रकारों के साथ कैसा इनका संबंध होगा? उसकी बानगी देखिये… कल १४ अप्रैल था, यानी बाबा साहेब भीम राव अँबेडकर का जन्मदिन। सारा देश अपने – अपने ढंग से इस महापुरुष का जन्मदिन मना रहा था, उनके आगे कृतज्ञता ज्ञापित कर रहा था, पर झारखण्ड के मुख्यमंत्री रघुवर दास के प्रेस एडवाइजर को इन सबसे अलग हटकर एक ऐसा फोटो हाथ लग गया कि वे इसे अपने फेसबुक वॉल पर डाल दिये और यह भी लिखा कि “आरक्षण का कमाल। भीमराव […]

Read more

मैं शहीद पापा बेटी हूं, पर आपके शहीद की बेटी नहीं : गुरमेहर

गुरमेहर ने अपने ब्लॉग पर लिखा है कि अब मैं अपने बारे में अपने शब्दों में बता रही हूं… ‘पाकिस्तान ने मेरे पिता को नहीं मारा, बल्कि जंग ने मारा है’, वीडियो जारी करने वाली गुरमेहर कौर एक बार फिर सुर्खियों में हैं। इस बार उन्होंने एक ब्लॉग लिखा है। जिसका नाम ‘आई एम’ है। उन्होंने मंगलवार को ट्विटर पर ब्लॉग का लिंक शेयर कर इसकी जानकारी दी। लिखा, आपने मेरे बारे में पढ़ा है, लेखों के अनुसार अपनी राय बनाई है। अब मैं अपने बारे में अपने शब्दों में बता रही हूं। पढ़िए गुरमेहर का पूरा ब्लॉग……….. मैं कौन हूं […]

Read more

मुखबिर और ठग है दैनिक भास्कर का पत्रकार सुबोध मिश्रा !

भारत के सबसे बड़े अखबार होने का दावा करने वाले ‘दैनिक भास्कर’ के हजारीबाग के पत्रकार (हजारीबाग का सबसे बड़ा मुखबिर, दलाल और ठग जिसका खुलासा मैं करूँगा कि कब किससे कहाँ और कैसे क्या किया प्रमाण सहित ) ने बीस अक्टूबर 2016 को यह खबर छापी थी, जिसका शीर्षक था “धान के खेत में छिपने का प्रयास कर रही थी” अब सवाल यह उठता है कि , विधायक की गिरफ्तारी जहाँ से हुई थी वहां घांस की भी जगह नहीं है तो फिर इसे वहाँ धान का खेत नजर आ गया। इस तरह एक महिला विधायक के बारे में अख़बार […]

Read more

नरेंद्र मोदी से बेहतर हैं आदित्यनाथ, उन्हें बनने चाहिए अगले पीएमः राम गोपाल वर्मा

निर्माता-निर्देशक रामगोपाल वर्मा एक बार फिर सुर्खियों में हैं, लेकिन अपने किसी बवाल के लिए नहीं बल्कि एक ट्ववीट के लिए। अकसर विवादों में रहने वाले वर्मा ने उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की तुलना प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से कर डाली। उन्होंने इसके लिए बकायदा ट्वीट भी किया। इस निर्माता-निर्देशक ने ट्विटर पर लिखा, योगी आदित्यनाथ कमाल हैं। मुझे लगता है कि वह नरेंद्र मोदी से बेहतर हैं। मैं आशा करता हूं कि वह अगले प्रधानमंत्री बनें। वर्मा ने एक अन्य ट्वीट अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड के लिए लिखा। वर्मा ने कहा, वह कुछ हासिल कर पाएं या नहीं, लेकिन मीडिया […]

Read more

आपकी पार्टी भी कोई दूध की धूली नहीं है शरद यादव जी

23 मार्च 2017, राज्यसभा, नई दिल्ली। जदयू सांसद शरद यादव गरज रहे है… वे पत्रकारिता जगत में आयी गिरावट, कुरीतियों एवं अखबार-चैनल के मालिकों द्वारा की जा रही गंदी हरकतों और उससे शर्मसार होता लोकतंत्र पर केन्द्र सरकार का ध्यान आकृष्ट करा रहे हैं। विषय गंभीर है, पर राज्यसभा में गिने-चुने सदस्य ही मौजूद है, स्वयं जदयू के कई सांसद राज्यसभा से गायब है। सरकार के नुमाइंदों की संख्या भी कम है। ले-देकर एक केन्द्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद ही मौजूद है, जो एक तरह से नमूने ही कहे जायेंगे। जदयू सांसद शरद यादव, बहुत अच्छा बोलते है, इसमें कोई दो मत […]

Read more

यूं ‘लेफ्ट’ होना समस्या का हल नहीं है नालंदा के डीएम साहेब

राजनामा डेस्क / मुकेश भारतीय। किसी भी जिले में डीएम और एसपी के पद और जिम्मेवारी अहम होते हैं। इन पदों पर अमुमन भारतीय प्रशासनिक सेवा(IAS) और भारतीय पुलिस सेवा (IPS) के क्रमशः अफसर बैठे होते हैं। नालंदा जिले में डीएम पद पर IAS डा. त्यागराजन आसीन हैं तो एसपी पद पर IPS कुमार आशीष। इन दोनों से आम जनों को ढेर सारी उम्मीदें होती है। पुलिस-प्रशासन की गड़बड़ियों और शिकायतों पर इनकी गंभीरता का इंतजार होता है लेकिन, क्या ये उन विश्वासों पर खरे उतरते हैं ? ये सबाल व्यवस्था से जुड़े आम बड़ा सबाल है, एक मीडिया कर्मी के साथ आम जनता […]

Read more

आइएएनएस के ब्यूरो प्रमुख का गोरखधंधा, बीबी के नाम पर लूट रहा है झारखंड आइपीआरडी

जी हां, ये शत प्रतिशत सत्य है। जिन्हें जेल में होना चाहिए, उस पर आइपीआरडी का डायरेक्टर कृपा लूटा रहा है, लाखों लूटा रहा है, वह भी गलत तरीके से। जिस विज्ञापन का अभी कोई औचित्य भी नहीं, जो एक साल से भी अधिक पुराना है, उसे नित्यानन्द शुक्ला के इशारे पर नित्यानन्द शुक्ला की पत्नी रंजना शुक्ला के नाम पर चलाये जा रहे एक पोर्टल न्यूजझारखण्ड.कॉम को दे दिया गया है और उसके भुगतान के लिए तैयारी भी कर ली गयी है। हमने इसी पोस्ट पर एक नीचे विजूयल वीडियो डाला है, जरा आप उसे ध्यान से देखे –व्यापार सुगमता […]

Read more

ब्लैक लिस्टेड ‘राष्ट्रीया’ ही नाम बदल कर रहा सीएम रघुवर की ‘फ्रॉड ब्रांडिंग’

रांची। सूचना एवं जनसम्पर्क विभाग के रहने के बावजूद राज्य की रघुवर सरकार ने प्रभातम को अपनी ब्रांडिंग के लिए रखा है। ये वहीं प्रभातम है, जिसका पुराना नाम राष्ट्रीया था, जिसने पूर्व में एक नहीं, कई गलत विज्ञापन निकाले थे, जिसको लेकर रांची से लेकर दिल्ली तक हंगामा बरपा था और उस वक्त की तत्कालीन बाबू लाल मरांडी की सरकार ने इसे ब्लैक लिस्टेड कर दिया था। दरअसल हुआ यह था कि इस कंपनी ने अपने विज्ञापनों में स्वर्णरेखा नदी को गोल्डलाइन और आदिम जन जाति के लिए बारबेरियन शब्द का प्रयोग किया था। यहीं नहीं इसके द्वारा की गयी […]

Read more

…तो इसलिये तनाव और मानसिक पीड़ा में थे कशिश के रिपोर्टर संतोष सिंह

पटना (संवाददाता)। बिहार में हालिया चर्चित व कथित निर्भया रेप मामले में रोज नये धुंध नजर आ रहे हैं। लेकिन जिस तरह की सूचनाएं सामने आ रही है, उससे साफ जाहिर होता है कि इसमें एक हाई प्रोफाइल गैंग शामिल हैं, जिसे कोई उघाड़ रहा है तो कोई सील रहा है, उसे ढक रहा है। पुलिस-एसआईटी जांच के बीच मीडिया के तत्थ और सूचनाएं भी खेमों बंटी दिख रही है। मशहुर टीवी जर्नलिस्ट रवीश कुमार के भाई के नाम को लेकर भी लोग सोशल साइट पर आमने सामने हैं। इन सबों के बीच मामले का ईमानदारी से खुलासा का दावा करने […]

Read more

इन अफसरों की भ्रष्ट धूर्तता पर यूं झुंझलाए JMM MLA अमित महतो

रांची (मुकेश भारतीय) । आजसू दिग्गज सुदेश महतो को सिल्ली क्षेत्र में धूल चटा झामुमो विधायक बने अमित महतो फेसबुक जैसे सोशल मीडिया पर नित्य सक्रिय नजर आते हैं। वे अपनी गतिविधियों को लोगों के बीच बड़ी बेबाकी से रखते हैं। इस बार उन्होंने कुछ ऐसी जानकारी पोस्ट की है, जो सत्तासीन रघुवर सरकार की संवेदनहीनता औऱ अधिकारियों की धूर्तता की साफ पोल खोलती है। साथ ही यह भी स्पष्ट करती है कि सिल्ली में अफसरों और ठेकेदारों की मिलीभगत से विकास योजनाओं का किस कदर बारा-न्यारा हो रहा है। विधायक फेसबुक पर लिखते हैं कि 20 फरवरी को सिल्ली प्रखण्ड […]

Read more

फुहर है आज की मीडिया, आरोपी को इस तरह बचा रही है एसआईटी !

याद करिए बांबी हत्याकांड हलांकि हमलोगों के जेहन में इस हत्याकांड को लेकर कुछ याद नही है लेकिन आज भी जब कभी राजनैतिक हत्या कि चर्चा होती है तो बांवी के नाम कि चर्चा हुए बगैर वो चर्चा अधूरी रहा जाती है, उस हत्याकांड के आरोपी को कोई सजा तो नही मिली। लेकिन उस कांड का गुनहगार कौन था और 80 के दशक में ही राजनीत का चेहरा कितना घिनौना हो चुका था, इसका एहसास उस हत्याकांड कि स्टोरी पढकर आप समझ सकते हैं। हालांकि चर्चा के दौरान ये भी बाते सामने आती है कि अभी के समय में मीडिया जितना […]

Read more
1 2 3 4 5 15