ब्लैक लिस्टेड ‘राष्ट्रीया’ ही नाम बदल कर रहा सीएम रघुवर की ‘फ्रॉड ब्रांडिंग’

रांची। सूचना एवं जनसम्पर्क विभाग के रहने के बावजूद राज्य की रघुवर सरकार ने प्रभातम को अपनी ब्रांडिंग के लिए रखा है। ये वहीं प्रभातम है, जिसका पुराना नाम राष्ट्रीया था, जिसने पूर्व में एक नहीं, कई गलत विज्ञापन निकाले थे, जिसको लेकर रांची से लेकर दिल्ली तक हंगामा बरपा था और उस वक्त की तत्कालीन बाबू लाल मरांडी की सरकार ने इसे ब्लैक लिस्टेड कर दिया था। दरअसल हुआ यह था कि इस कंपनी ने अपने विज्ञापनों में स्वर्णरेखा नदी को गोल्डलाइन और आदिम जन जाति के लिए बारबेरियन शब्द का प्रयोग किया था। यहीं नहीं इसके द्वारा की गयी […]

Read more

…तो इसलिये तनाव और मानसिक पीड़ा में थे कशिश के रिपोर्टर संतोष सिंह

पटना (संवाददाता)। बिहार में हालिया चर्चित व कथित निर्भया रेप मामले में रोज नये धुंध नजर आ रहे हैं। लेकिन जिस तरह की सूचनाएं सामने आ रही है, उससे साफ जाहिर होता है कि इसमें एक हाई प्रोफाइल गैंग शामिल हैं, जिसे कोई उघाड़ रहा है तो कोई सील रहा है, उसे ढक रहा है। पुलिस-एसआईटी जांच के बीच मीडिया के तत्थ और सूचनाएं भी खेमों बंटी दिख रही है। मशहुर टीवी जर्नलिस्ट रवीश कुमार के भाई के नाम को लेकर भी लोग सोशल साइट पर आमने सामने हैं। इन सबों के बीच मामले का ईमानदारी से खुलासा का दावा करने […]

Read more

इन अफसरों की भ्रष्ट धूर्तता पर यूं झुंझलाए JMM MLA अमित महतो

रांची (मुकेश भारतीय) । आजसू दिग्गज सुदेश महतो को सिल्ली क्षेत्र में धूल चटा झामुमो विधायक बने अमित महतो फेसबुक जैसे सोशल मीडिया पर नित्य सक्रिय नजर आते हैं। वे अपनी गतिविधियों को लोगों के बीच बड़ी बेबाकी से रखते हैं। इस बार उन्होंने कुछ ऐसी जानकारी पोस्ट की है, जो सत्तासीन रघुवर सरकार की संवेदनहीनता औऱ अधिकारियों की धूर्तता की साफ पोल खोलती है। साथ ही यह भी स्पष्ट करती है कि सिल्ली में अफसरों और ठेकेदारों की मिलीभगत से विकास योजनाओं का किस कदर बारा-न्यारा हो रहा है। विधायक फेसबुक पर लिखते हैं कि 20 फरवरी को सिल्ली प्रखण्ड […]

Read more

फुहर है आज की मीडिया, आरोपी को इस तरह बचा रही है एसआईटी !

याद करिए बांबी हत्याकांड हलांकि हमलोगों के जेहन में इस हत्याकांड को लेकर कुछ याद नही है लेकिन आज भी जब कभी राजनैतिक हत्या कि चर्चा होती है तो बांवी के नाम कि चर्चा हुए बगैर वो चर्चा अधूरी रहा जाती है, उस हत्याकांड के आरोपी को कोई सजा तो नही मिली। लेकिन उस कांड का गुनहगार कौन था और 80 के दशक में ही राजनीत का चेहरा कितना घिनौना हो चुका था, इसका एहसास उस हत्याकांड कि स्टोरी पढकर आप समझ सकते हैं। हालांकि चर्चा के दौरान ये भी बाते सामने आती है कि अभी के समय में मीडिया जितना […]

Read more

खुद के संदेश में फंसे झारखंड जर्नलिस्ट एसोसिएशन के अध्यक्ष

रांची। झारखंड जर्नलिस्ट एसोसिएशन के अध्यक्ष शहनवाज हसन नित्य नये मुसीबतों में फंसते नजर आ रहे हैं। उनकी व्यक्तिवादी छवि के लेकर संगठन से जुड़े रहे पत्रकार सदस्यों अपना हमला काफी तेज कर रखा है। लेकिन इस बार वे खुद के ही सफाई में उलझ गये हैं। व्हाट्सअप केJJA पलामू  ग्रुप में उन्होंने जो कुछ लिखा है, उसमें उनकी नकारात्मक छवि साफ झलकती है। उन्होंने पत्रकार कमलकांत जी को संबोधित करते हुये लिखा है कि कमलकांत जी, अरविंद प्रताप ने संगठन की सदस्यता कब ली, क्या यह आपको जानकारी है ? संगठन की स्थापना कब हुयी इसकी भी शायद आपको जानकारी […]

Read more

झारखंड जर्नलिस्ट एसोसिएशन के अध्यक्ष के खिलाफ माहौल गर्म

रांची। इन दिनों झारखंड जर्नलिस्ट एसोसिएशन के अध्यक्ष शहनवाज हसन को लेकर माहौल काफी गर्म है। विभिन्न समाचार माध्यमों से जुड़े पत्रकार सोशल मीडिया के जरिये अपना आक्रोश प्रकट कर रहे हैं। कुतंलेश पांडेय लिखते हैं कि जेजेए के प्रदेश अध्यक्ष का सभी फोन कई दिनों से बंद है। न्यूज़ वर्ल्ड के कर्मचारी पैसे के लिए भूखे भेड़िये की तरह उन्हें खोज रहे है। लेकिन न तो रांची और न ही जमशेदपुर में दिख रहे है। रांची कार्यालय व जमशेदपुर में उनका मकान का भाड़ा कई महीने से बाकी है। उन्होंने आगे लिखा है कि जेजेए के नाम पर जितने भी […]

Read more

आखिर रघुवर दास महेन्द्र सिंह धौनी से इतने चिढ़ते क्यों है?

मोमेंटम झारखण्ड की ब्रांडिंग या झारखण्ड का इमेज दूसरे राज्यों में चमकाने के लिए महेन्द्र सिंह धौनी ने एक भी पैसे नहीं लिये। यह भी याद रखिये कि महेन्द्र सिंह धौनी लगातार मोमेंटम झारखण्ड के कार्यक्रम में अपने सारे कार्यों को छोड़ कर, इसमें स्वयं को हृदय से समायोजित किया है और ऐसे व्यक्ति से मुख्यमंत्री का चिढ़ जाना, उसके पोस्टर व बैनर देखकर भड़क जाना, हमें कुछ अच्छा नहीं लगा। कल की ही बात है। रांची से प्रकाशित हिन्दुस्तान अखबार ने अपने सूत्रों के हवाले से खबर दी है कि मोमेंटम झारखण्ड के क्रम में कुछ अफसरों के बीच झड़प […]

Read more

अश्विनी गुप्ता अपहरण में कुख्यात पूर्व सांसद शहाबुद्दीन को मिले थे ढाई करोड़ रुपये

पूर्व सांसद ने कराई कई हत्याएं जिसका राज आज तक नहीं खुला कुख्यात दिनेश और भूपेन्द्र के इकरारनामें में है चकित करने वाले कई तथ्य पड़ोस के गांव के कई मुस्लिम युवकों की भी शहाबुद्दीन ने कराई थी हत्या पटना (विनायक विजेता)। जुलाई 2001 में पटना के बोरिंग रोड से हुए व्यवसायी अष्विनी गुप्ता के चर्चित अपहरण कांड में भी पूर्व सांसद शहाबुद्दीन का ही हाथ था। बाद में अमरिेका में रहने वाले अश्विनी के पिता ने हवाला के माध्यम से शहाबुद्दीन को ढाई करोड़ रुपये भिजवाये थे तब जाकर अश्विनी गुप्ता की रिहाई हुई थी। अश्विनी गप्ता की रिहाई और […]

Read more

अरविंद को संगठन में बिना योगदान के सचिव बनाना सबसे बड़ी भूल : शहनवाज हसन

रांची। झारखंड जर्नलिस्ट एसोसिशन के अध्यक्ष शहनवाज हसन ने कहा है कि अरविंद प्रताप को संगठन के प्रदेश सचिव पद से पहले ही निष्कासित किया जा चुका है और एक एंकर को न्यूज़ वर्ल्ड चैनल का इंचार्ज के साथ संगठन में बिना किसी योगदान के सचिव बनाना ही उनकी सबसे बड़ी भूल साबित हुयी है। उन्होंने राजनामा.कॉम के संपादक को भेजे व्हाट्सअप संदेश में लिखा है…..     [11:20 AM, 2/17/2017] Shahnawaz: आप को जब पता है संगठन से अरविंद प्रताप को निष्कासित किया जा चुका है उसके बाद भी आप प्रदेश सचिव कैसे लिख सकते हैं ? आप स्वतंत्र हैं अपने ओपिनियन […]

Read more

झारखंड जर्नलिस्ट एशोसिएशन के अध्यक्ष पर सचिव ने लगाये गंभीर आरोप

रांची (मुकेश भारतीय)। हाल के दिनों में पत्रकारों की एकता और अधिकार को लेकर चर्चा में आये  झारखंड जर्नलिस्ट एसोसिएशन (JJA) के प्रदेश अध्यक्ष शहनवाज हसन की भूमिका पर कई गंभीर सबाल उठ खड़े हुये हैं। ये सबाल उनके अत्यंत करीबी माने जाने वाले टीवी जर्नलिस्ट एवं संगठन के प्रदेश सचिव अरविंद प्रताप ने उठाये हैं। श्री प्रताप द्वारा उठाये गये सबाल अनेक व्हाट्सअप ग्रुपों, खासकर मीडिया से जुड़े व्हाट्सअप ग्रुपों पर खूब वायरल हो रहे हैं। इसके पहले खुद शहनवाज हसन ने ‘पत्रकारों की मन की बात’ नामक व्हाट्सअप ग्रुप में अरविंद प्रताप की व्हाट्सअप की पर्सनल टॉक की स्नेपशॉट […]

Read more

संजय गुप्ता को फौरन अरेस्ट करने की मांग करनी चाहिए  :यशवंत सिंह

नई दिल्ली। दैनिक जागरण का संपादक संजय गुप्ता है. यह मालिक भी है. यह सीईओ भी है. एग्जिट पोल वाली गलती में यह मुख्य अभियुक्त है. इस मामले में हर हाल में गिरफ्तारी होनी होती है और कोई लोअर कोर्ट भी इसमें कुछ नहीं कर सकता क्योंकि यह मसला सुप्रीम कोर्ट से एप्रूव्ड है, यानि एग्जिट पोल मध्य चुनाव में छापने की कोई गलती करता है तो उसे फौरन दौड़ा कर पकड़ लेना चाहिए. पर पेड न्यूज और दलाली का शहंशाह संजय गुप्ता अभी तक नहीं पकड़ा गया है. संजय गुप्ता ने पिछले कुछ वर्षों में मजीठिया वेज बोर्ड के तहत […]

Read more

दैनिक जागरण क मालिक संजय गुप्ता ने पेड न्यूज कुबूल किया : ओम थानवी

नई दिल्ली। इंडियन एक्सप्रेस में जागरण के सम्पादक-मालिक और सीईओ संजय गुप्ता ने कहा है कि उत्तरप्रदेश विधानसभा चुनाव में दूसरे चरण के मतदान से पहले जागरण द्वारा शाया किया गया एग्ज़िट पोल उनके विज्ञापन विभाग का काम था, जो वेबसाइट पर जारी हुआ। (“Carried by the advertising department on our website”) माने साफ़-साफ़ पेड सर्वे ! दूसरे शब्दों में जागरण ने पैसा लिया (अगर लिया; किससे, यह बस समझने की बात है) और कथित मत-संग्रह किसी अज्ञातकुलशील संस्था से करवा कर शाया कर दिया कि चुनाव में भाजपा की हवा चल रही है। जैसा कि स्वाभाविक था, इस फ़र्ज़ी एग्ज़िट […]

Read more
1 2 3 4 5 13