आखिर रघुवर दास महेन्द्र सिंह धौनी से इतने चिढ़ते क्यों है?

मोमेंटम झारखण्ड की ब्रांडिंग या झारखण्ड का इमेज दूसरे राज्यों में चमकाने के लिए महेन्द्र सिंह धौनी ने एक भी पैसे नहीं लिये। यह भी याद रखिये कि महेन्द्र सिंह धौनी लगातार मोमेंटम झारखण्ड के कार्यक्रम में अपने सारे कार्यों को छोड़ कर, इसमें स्वयं को हृदय से समायोजित किया है और ऐसे व्यक्ति से मुख्यमंत्री का चिढ़ जाना, उसके पोस्टर व बैनर देखकर भड़क जाना, हमें कुछ अच्छा नहीं लगा। कल की ही बात है। रांची से प्रकाशित हिन्दुस्तान अखबार ने अपने सूत्रों के हवाले से खबर दी है कि मोमेंटम झारखण्ड के क्रम में कुछ अफसरों के बीच झड़प […]

Read more

अश्विनी गुप्ता अपहरण में कुख्यात पूर्व सांसद शहाबुद्दीन को मिले थे ढाई करोड़ रुपये

पूर्व सांसद ने कराई कई हत्याएं जिसका राज आज तक नहीं खुला कुख्यात दिनेश और भूपेन्द्र के इकरारनामें में है चकित करने वाले कई तथ्य पड़ोस के गांव के कई मुस्लिम युवकों की भी शहाबुद्दीन ने कराई थी हत्या पटना (विनायक विजेता)। जुलाई 2001 में पटना के बोरिंग रोड से हुए व्यवसायी अष्विनी गुप्ता के चर्चित अपहरण कांड में भी पूर्व सांसद शहाबुद्दीन का ही हाथ था। बाद में अमरिेका में रहने वाले अश्विनी के पिता ने हवाला के माध्यम से शहाबुद्दीन को ढाई करोड़ रुपये भिजवाये थे तब जाकर अश्विनी गुप्ता की रिहाई हुई थी। अश्विनी गप्ता की रिहाई और […]

Read more

अरविंद को संगठन में बिना योगदान के सचिव बनाना सबसे बड़ी भूल : शहनवाज हसन

रांची। झारखंड जर्नलिस्ट एसोसिशन के अध्यक्ष शहनवाज हसन ने कहा है कि अरविंद प्रताप को संगठन के प्रदेश सचिव पद से पहले ही निष्कासित किया जा चुका है और एक एंकर को न्यूज़ वर्ल्ड चैनल का इंचार्ज के साथ संगठन में बिना किसी योगदान के सचिव बनाना ही उनकी सबसे बड़ी भूल साबित हुयी है। उन्होंने राजनामा.कॉम के संपादक को भेजे व्हाट्सअप संदेश में लिखा है…..     [11:20 AM, 2/17/2017] Shahnawaz: आप को जब पता है संगठन से अरविंद प्रताप को निष्कासित किया जा चुका है उसके बाद भी आप प्रदेश सचिव कैसे लिख सकते हैं ? आप स्वतंत्र हैं अपने ओपिनियन […]

Read more

झारखंड जर्नलिस्ट एशोसिएशन के अध्यक्ष पर सचिव ने लगाये गंभीर आरोप

रांची (मुकेश भारतीय)। हाल के दिनों में पत्रकारों की एकता और अधिकार को लेकर चर्चा में आये  झारखंड जर्नलिस्ट एसोसिएशन (JJA) के प्रदेश अध्यक्ष शहनवाज हसन की भूमिका पर कई गंभीर सबाल उठ खड़े हुये हैं। ये सबाल उनके अत्यंत करीबी माने जाने वाले टीवी जर्नलिस्ट एवं संगठन के प्रदेश सचिव अरविंद प्रताप ने उठाये हैं। श्री प्रताप द्वारा उठाये गये सबाल अनेक व्हाट्सअप ग्रुपों, खासकर मीडिया से जुड़े व्हाट्सअप ग्रुपों पर खूब वायरल हो रहे हैं। इसके पहले खुद शहनवाज हसन ने ‘पत्रकारों की मन की बात’ नामक व्हाट्सअप ग्रुप में अरविंद प्रताप की व्हाट्सअप की पर्सनल टॉक की स्नेपशॉट […]

Read more

संजय गुप्ता को फौरन अरेस्ट करने की मांग करनी चाहिए  :यशवंत सिंह

नई दिल्ली। दैनिक जागरण का संपादक संजय गुप्ता है. यह मालिक भी है. यह सीईओ भी है. एग्जिट पोल वाली गलती में यह मुख्य अभियुक्त है. इस मामले में हर हाल में गिरफ्तारी होनी होती है और कोई लोअर कोर्ट भी इसमें कुछ नहीं कर सकता क्योंकि यह मसला सुप्रीम कोर्ट से एप्रूव्ड है, यानि एग्जिट पोल मध्य चुनाव में छापने की कोई गलती करता है तो उसे फौरन दौड़ा कर पकड़ लेना चाहिए. पर पेड न्यूज और दलाली का शहंशाह संजय गुप्ता अभी तक नहीं पकड़ा गया है. संजय गुप्ता ने पिछले कुछ वर्षों में मजीठिया वेज बोर्ड के तहत […]

Read more

दैनिक जागरण क मालिक संजय गुप्ता ने पेड न्यूज कुबूल किया : ओम थानवी

नई दिल्ली। इंडियन एक्सप्रेस में जागरण के सम्पादक-मालिक और सीईओ संजय गुप्ता ने कहा है कि उत्तरप्रदेश विधानसभा चुनाव में दूसरे चरण के मतदान से पहले जागरण द्वारा शाया किया गया एग्ज़िट पोल उनके विज्ञापन विभाग का काम था, जो वेबसाइट पर जारी हुआ। (“Carried by the advertising department on our website”) माने साफ़-साफ़ पेड सर्वे ! दूसरे शब्दों में जागरण ने पैसा लिया (अगर लिया; किससे, यह बस समझने की बात है) और कथित मत-संग्रह किसी अज्ञातकुलशील संस्था से करवा कर शाया कर दिया कि चुनाव में भाजपा की हवा चल रही है। जैसा कि स्वाभाविक था, इस फ़र्ज़ी एग्ज़िट […]

Read more

कनफूंकवों ने रघुवर की बांट लगा दी…..

कनफूंकवे प्रसन्न है, उन्होंने वह काम किया, जो आज तक कोई न कर सका, यहां तक की विपक्षी दलों के नेताओं ने भी नहीं। मुख्यमंत्री रघुवर दास दोनों तरफ से गये। जनता की ओर से तो पहले ही जा चुके थे, अब जो उदयोगपतियों से जो सूचनाएं आ रही है, उनलोगों ने भी मोमेंटम झारखण्ड से दूरी बनाना शुरु कर दिया है। पूर्व के अनुभवों और स्वयं द्वारा करायी गयी सर्वेक्षण रिपोर्टों के आधार पर इन उद्योगपतियों ने आज भी भारत के गुजरात, आंध्रप्रदेश, महाराष्ट्र, मध्यप्रदेश और कर्णाटक को निवेश करने के लिए बेहतर राज्य माना है, जिस कारण मोमेंटम झारखण्ड […]

Read more

संदर्भ झारखंडः एक राजा था…

हां जी, एक राजा था। वो बहुत सनकी था। उसके राजदरबार में कनफूंकवों की संख्या ज्यादा थी। राजा कनफूंकवों की मदद से राज संचालन किया करता था। राजा को लगता था कि उसके राज्य में सर्वाधिक बुद्धिमान और सारे शास्त्रों के ज्ञाता कनफूंकवे ही है। इसलिए राजा कनफूंकवों की बातों को कभी नजरंदाज नहीं करता था। कनफूंकवें भी जानते थे कि राजा को आत्मप्रशंसा के अलावा, उसे राज्य और राज्य की जनता की कोई फिक्र नहीं, इसलिए वे बेमतलब की बातों को ही लेकर राजा के पास जाते और उसकी तारीफ में कुछ सुना दिया करते, जिससे राजा प्रसन्न हो जाता […]

Read more

सीएम की ब्रांडिंग, कनफूंकवा और बेचारी झारखंडी जनता

ग्लोबल इन्वेस्टर्स समिट का समय जैसे-जैसे नजदीक आता जा रहा है, वैसे-वैसे इस कार्यक्रम के लिए सीएम की ब्रांडिंग करनेवाले कंपनियों के हाथ-पांव फूलते जा रहे है। हर दो-तीन दिन पर कनफूंकवों की टीम, सीएम के कान में कुछ फूंक दे रही है और लीजिये ब्रांडिंग करनेवाली कंपनियां नये-नये होर्डिंग्स लगाकर सीएम को खुश करने में लग जा रही है, दूसरी ओर मंत्रियों के दल ने इस समिट से धीरे-धीरे दूरियां बनानी शुरु कर दी है। कुछ तो सीधे कहते है कि यह पैसे और समय की बर्बादी है। कुछ तो यह भी कहते है कि हम दूसरे की मांग लाल […]

Read more

शुक्राचार्य जायेंगे जेल, आयकर विभाग ने कसा शिकंजा

रांची के मेयर्स रोड स्थित सूचना भवन के आइपीआरडी विभाग में कार्यरत और शुक्राचार्य के नाम से कुख्यात एक अधिकारी कल से सकते में है, उसके गोरखधंधे का अब धीरे-धीरे खुलासा होना शुरु हो गया है। कल यानी 7 फरवरी की ही बात है कि पता चला कि जब प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने नोटबंदी का ऐलान किया, तब इस शुक्राचार्य ने अपने पास रखे काला धन को ठिकाने लगाने के लिए स्वयं और अपनी पत्नी के नाम पर रांची के धुर्वा स्थित बैंक ऑफ इंडिया में वहां के वरीय अधिकारियों के मिलीभगत से एक नया एकाउंट खुलवाया। एकाउंट खुलवाते ही, उसने […]

Read more

जरा देखिये, ब्रांडिंग के नाम पर क्या कर रही है रघुवर सरकार

ब्रांडिंग किसकी होती है? ब्रांडिंग उसकी होती है, जिसे लोग नहीं जानते अथवा जिनकी लोकप्रियता नहीं होती… तो ऐसे में जब पूरे राज्य में सीएम रघुवर दास की ब्रांडिंग राज्य की बाहर की कंपनियां झारखण्ड एवं झारखण्ड के बाहर के राज्यों में कर रही है और इसी क्रम में, जगह-जगह सीएम रघुवर दास के कट आउट, बैनर-पोस्टर, होर्डिंग, अखबारों और चैनलों में सीएम के गुणगान संबंधी विज्ञापन प्रकाशित-प्रसारित हो रहे है, तो इससे साफ पता लग जाता है कि सीएम रघुवर दास की लोकप्रियता न तो पूरे राज्य में है और न ही राज्य के बाहर। भारत हो या भारत के […]

Read more

विज्ञापन से सब नपे, नपे चैनल-अखबार

ग्लोबल इनवेस्टर्स समिट की, चर्चा है चहुंओर। नेता – अधिकारी बने, देखो माखनचोर।। विज्ञापन से सब नपे, नपे चैनल-अखबार। गिफ्ट-रुपये से नपे, नपे संपादक-पत्रकार।। सागर पवित्र स्नान को, जब मन करे ललचाय। पूंजीपति-राजनीतिबाज को, चले सब माथ नवाय।। कनफूंकवों की चल बनी, ईमानदार बौराए। रघुवर के अरे राज में, अर्जुन तीर चलाए।। सीएस के आगे डायरेक्टर, पीआरडी शीश नवाए। जैसे-जैसे वे कहे, वैसे ही वह करते जाये।। किसी की भी ना सुने, सिर्फ सुने वह कान लगाये। सीएस की ही चाकरी, दिन-रात करत बिताये।। सीएस की ही ब्रांडिंग, हो रही अखबार में आज। पीछे हो गये सीएम, अब सीएस चलाये राज।। […]

Read more
1 2 3 4 5 12