बिहार-झारखंड, यहां जदयू-भाजपा सरकार की आत्मा जिंदा कहां है ?

“सदियों से चली आ रही मनुवाद की जमीं पर आज की जातीवादी राजनीति ने समाज में एक ऐसे जहरीले कीड़े को बल दिया है, जिसके शिकार इन्सान न मर सकता है और न जिंदा ही रह सकता है। सबाल सिर्फ मानवता की नहीं है, सीधा सबाल शासन-प्रशासन की भी है। “ -: मुकेश भारतीय :- बिहार और झारखंड में एक साथ दो घटनाएं घटी है। ये दोनों घटनाएं मानवता को शर्मसार करती है। ऐसी विषजात समस्याओं का मूल समाधान क्या है? इसका सीधा जबाव ढूंढा जाना चाहिये। विगत 18 अक्टूबर को बिहार के सीएम नीतीश कुमार के गृह जिले नालंदा के […]

Read more

रांची प्रेस क्लब कोर कमेटी के निर्णयों से पत्रकारों में आक्रोश

बलबीर दत्त जी, आप अपने सम्मान की रक्षा भले ही न करें, पर कम से कम आपको राष्ट्रपति ने पद्मश्री की जो उपाधि दी हैं, कम से कम उसके सम्मान की रक्षा तो अवश्य करिये। यह मैं इसलिए लिख रहा हूं कि आप अभी रांची प्रेस क्लब का अध्यक्ष बन कर जो निर्णय ले रहे हैं, वह किसी भी दृष्टिकोण से उचित नहीं हैं। आपसे रांची के पत्रकारों का एक बहुत बड़ा वर्ग जो आर्थिक रुप से बेहद कमजोर हैं, पर नैतिक रुप से यहां कार्यरत धूर्त संपादकों व अखबारों के मालिकों से कुछ ज्यादा ही नैतिकवान है, ऐसे पत्रकारों के […]

Read more

डिजीटल ‘वायर’ में फंसे भाजपा के ‘शाह’

भाजपा और इसकी अगुआई वाली केंद्र सरकार को उस समय से बड़े सियासी भूचाल का सामना करना पड़ रहा है, जब से एक वेबसाइट ने पार्टी अध्यक्ष अमित शाह के बेटे की कंपनी का कारोबार एक साल में ही 16 हजार गुना बढ़ जाने की खबर प्रकाशित की है। वेबसाइट के मुताबिक मोदी सरकार के वजूद में आने और शाह के पार्टी अध्यक्ष बनने के बाद इस कंपनी के कारोबार में जबरदस्त उछाल देखने को मिली है। न्यूज वेबसाइट ‘द वायर’ पर रविवार को प्रकाशित इस रिपोर्ट में कहा गया है कि भाजपा अध्यक्ष के बेटे जय अमित शाह की कंपनी […]

Read more

देखिये, मीडिया प्रचार खरीदने पर 1100 करोड़ रुपये कैसे फूंक डाले हमारे पीएम मोदी साहब

नई दिल्ली। मीडिया को बिकाऊ कहने वाले बीजेपी के समर्थकों के लिए ये खबर झटका देने वाली हो सकती है कि प्रधानमंत्री मोदी ने देश में मीडिया पर प्रचार खरीदने के लिए सौ दो सौ करोड़ रुपये नहीं, पूरे 1100 करोड़ रुपये से ज्यादा खर्च किए। यह जानकारी  एक आरटीआई के जबाव में सामने आई है। नोटबंदी को लेकर विपक्ष के कठघरे में खड़ी भाजपा सरकार इस खुलासे के बाद और घिर सकती है। आरटीआई के मुताबिक मोदी सरकार ने पिछले ढाई सालों के भीतर अपने प्रचार-प्रसार पर 11 अरब रुपए से ज्यादा खर्च किए हैं। ग्रेटर नोएडा के आरटीआई एक्टिविस्ट […]

Read more

पत्रकार नहीं, प्रखंड कांग्रेस अध्यक्ष है पंकज मिश्रा,पत्रकारिता नहीं है गोली मारने की वजह

आज कल मीडिया में पत्रकारों की परिभाषा बदल गई है। अरवल में पंकज मिश्रा को गोली मारने के बाद राष्ट्रीय स्तर पर पत्रकारों पर हमले की गूंज उठ गई। लोग घटना की तीखी भ्रत्सना कर रहे हैं तो कहीं इसे बिहार मीडिया पर बड़ा संकट बता कैंडल मार्च निकाल रहे हैं। पंकज मिश्रा कांग्रेस के प्रखंड अध्यक्ष हैं। वे अपने गांव में ग्राहक सेवा चलाता है। उसके द्वारा विभिन्न सरकारी योजनाओं की प्रत्यक्ष-अप्रत्यक्ष ठेकेदारी भी की जाती रही है। वह किसी भी अखबार से सीधे तौर पर जुड़े नहीं रहे। आज भी वे किसी मीडिया हाउस से जुड़े नहीं हैं। पंकज […]

Read more

राजगीर के इस खबर की पड़ताल ने मीडया समेत पूरी सिस्टम को यूं नंगा कर दिया

“नालंदा जिले के राजगीर में अजीब हालात है। पुलिस-प्रशासन-मीडिया में ठीक वैसा ही होता प्रतीत होता है, जैसा रसुखदार चाहते हैं। वो रसुखदार चाहे लुच्चा – लफंगा – दलाल टाइप के लोग ही क्यों न हों। यहां से जुड़े मामलों या समस्याओं को एक दैनिक अखबार (राजधानी पटना से बिहरशरीफ संस्करण प्रकाशित) भी विशेष मामलों में सच को तोड़-मरोड़ कर खबरें प्रकाशित करने में जी-जान से दिख रहा है। जबकि अन्य लीडिंग अखबारों तक से वह गायब होती है।” राजनामा न्यूज डेस्क।  एक बार मेला सैरात भूमि मामले को लेकर राजगीर बंद हुआ। इस अखबार में एक लाइन भी खबर न […]

Read more

धनबाद प्रेस क्लब का निर्णय-300 रुपये दें और सदस्य बनें

धनबाद (अजय)। आज प्रेस क्लब की एक बैठक गांधी सेवा सदन में हुई। बैठक की अध्यक्षता संजीव झा ने की। बैठक में सदस्यों की संख्या बढ़ाने का प्रस्ताव सर्वसम्मति से पारित किया गया। इसमें सदस्यता शुल्क 300 रुपए रखने का प्रस्ताव पास किया गया। बैठक में यह भी तय किया गया कि पत्रकारों को 20 सितंबर तक सदस्यता शुल्क जमा करने का और सदस्य बनने का मौका मिलेगा। सदस्यता फॉर्म जमा देने के बाद 2 अक्टूबर को एक बैठक आयोजित की जाएगी। इसमें चुनाव पदाधिकारी का चयन किया जाएगा और चुनाव की तिथि की घोषणा की जाएगी। सर्वसम्मति के तीन सदस्य […]

Read more

सृजन महाघोटालाः सीबीआई की रडार पर नेताओं,अफसरों के साथ पत्रकार भी

“पूर्व सहकारिता मंत्री भी सीबीआई के राडार पर, बड़े-बड़े पत्रकार भी हाथ जोड़ते थे अमित और प्रिया के सामने, हर दल के नेताओं का संरक्षण था सृजन के संपोषकों को,  दिखावे के लिए कोचिंग इंस्टीट्यूट चलाते थे अमित कुमार “ बहुचर्चित सृजन महाघोटाले की जांच की आंच में पूर्व सहकारिता मंत्री आलोक मेहता भी तप सकते हैं। विश्वस्त सूत्रों के मुताबिक इस घोटाले की जांच अपने हाथ लेने के बाद सीबीआई सबसे पहले उन राज नेताओं और अधिकारियों के चित्र और चरित्र का मंथन करने में जुटी है जिन्होंने इसमहा घोटाले में परोक्ष या अपरोक्ष रुप से सहायक की भूमिका निभायी। इस मामले […]

Read more

सीएम ने कहा- ए भागो..मीडिया वाले सब भागो, सब निकल गये, लेकिन दुबके रहे दो बड़े वेशर्म पत्रकार

राजनामा न्यूज डेस्क। ‘ए भागो…मीडिया वाले सब भागो..यहां से सब निकलो,भागो ’…. जी हां, ऐसे शब्द-वाक्य के प्रयोग कोई आम आदमी या बौखलाती भीड़ के नहीं है। बल्कि, झारखंड सूबे के मुखिया सीएम रघुवर दास के हैं। सीएम के इस अवांछित टिप्पणी सुनते के बाद सारे मीडियाकर्मी भरी सभी से अपमानित होकर बाहर निकल आये लेकिन दो धुरंधर पत्रकार मुंह छुपाये जमे रहे। वे हैं रांची से प्रकाशित दैनिक आजाद सिपाही के संपादक हरिनारायण सिंह और प्रभात खबर के ब्यूरो प्रमुख सलाउद्दीन। इन्हें लेकर आम चर्चा बन गई है कि कहीं ये दोनों भाजपा के होनहार तो नहीं बन गये हैं! […]

Read more

…और राजगीर की मीडिया को यूं ऐड़ा बना पेड़ा खिला गया रोपवे प्रभारी

राजनामा न्यूज डेस्क। नालंदा जिले की मीडिया का कोई सानी नहीं है। यहां एक से एक तेज तर्रार रिपोर्टरों की भरमार है। लेकिन उनकी बती तब गुल हो जाती है, जब कोई उन्हें ऐड़ा खिला कर यूं ही पेड़ा खिला जाता है और छोड जाती है सिर्फ खट्टी-मीठी डकार। कल बिहार पर्यटन विभाग की लेटर पैड पर राजगीर रोपवे से जुड़ी एक सूचना भेजी गई थी, उसे पढ़ने के बाद न तो उसे प्रेस विज्ञप्ति मानी जा सकती है और न ही कोई आवश्यक सूचना। क्योंकि उस पर न तो जारीकर्ता का कोई हस्ताक्षर था और न ही कोई तिथि या […]

Read more

एसपी-डीएम साहेब, राजगीर थाना प्रभारी की गुंडागर्दी यूं चालू आहे

“राजगीर थाना प्रभारी के खिलाफ कई ऐसे सप्रमाण मामले उदाहरण के तौर पर उपलब्ध हैं, जो स्पष्ट करता है कि ये असमाजिक लोगों की शह पर लोगों पर झूठे मुकदमें करवाने में माहिर है। नालंदा पुलिस-प्रशासन के जिम्मेवार आला अफसरों को चाहिये कि ऐसे थाना प्रभारी के खिलाफ पीड़ित सारे लोगों के शिकायत की उच्चस्तरीय जांच करा व्यवस्था के प्रति खोये विश्वास को हासिल करे।” बिहारशरीफ (संवाददाता)। नालंदा जिले के राजगीर थाना प्रभारी उदय शंकर से जुड़ा एक सनसनीखेज मामला प्रकाश में आया है, जो यह साफ तौर पर प्रमाणित करता है कि ये अपराधियों से सांठगांठ कर उल्टी कार्रवाई करने […]

Read more

नालंदा में शिक्षा माफियाओं का बड़ा रैकेट, भारी संख्या में यूं बहाल हो गये फर्जी शिक्षक

” यहां इस पूरे नियोजन में शिक्षा माफिया का एक रैकेट काम कर रहा है। शिक्षक नियोजन में एक अभ्यर्थी से चार लाख में सौदा तय होता है। दो लाख में संबंधित पंचायत के मुखिया और ग्रामसेवक , पचास हजार प्राधिकार, एजेंट एक लाख, लेखापाल आदि का हिस्सा होता है। लेखापाल द्वारा  बीईओ को पांच हजार से दस हजार रूपये दिया जाता है।” बिहारशरीफ /चंडी (प्रमुख संवाददाता)। कभी जिस नालंदा के ज्ञान पर गर्व करता था बिहार आज उसी नालंदा की धरती पर ‘पैसे दो और गुरू बनों ‘ का गोरखधंधा चल रहा है। नालंदा के चंडी प्रखंड में गुरू बनाओ […]

Read more
1 2 3 15