सीएम-स्पीकर के हाथ में जेपीआरडी की महालूट की बानगी

प्रवेशांक के लोकार्पण के दौरान भी नहीं खुली आंखें कि  प्रकाशन पूर्व कैसे मिलते हैं सरकारी विज्ञापनः झारखंड सरकार के सूचना एवं जन-संपर्क विभाग में महालूट का आलम क्या है? इसका अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि इसकी ताजा बानगी सीएम अर्जुन मुंडा से लेकर  विधानसभा के अध्यक्ष सीपी सिंह तक के हथेली में पहुंचने के बाबजूद कहीं कोई जूं नहीं रेंगती है। इसका सीधा अर्थ यह निकाला जा सकता है कि राज्य के मुखिया तक विभाग और मीडिया के नाजायज गठजोड़ के पचड़े में पड़ने का जोखिम उठाना नहीं चाहते या फिर वे विज्ञापन नियमावली से अनभिज्ञ हैं। […]

Read more

ज़ी न्यूज ने जिंदल को मानहानि का नोटिस भेजा

नवीन जिंदल एवं जेएसपीएल की  संवाददाता सम्मेलन का कड़ा जवाब देते हुए ज़ी न्यूज ने  नवीन जिंदल एवं जेएसपीएल को 150 करोड़ रुपए का मानहानि का नोटिस भेजा। जिंदल ने ज़ी न्यूज पर अपनी गलत छवि पेश करने का आरोप लगाया है। ज़ी न्यूज ने संवाददाता सम्मेलन में जिंदल द्वारा पेश छेड़छाड़ किए गए साक्ष्यों को पूरी तरह से खारिज करने के साथ ही इसकी निंदा की है। ज़ी न्यूज का मानना है कि टेलीविजन नेटवर्क की विश्वसनीय छवि खराब करने के लिए ऐसा जानबूझकर किया गया है। ज़ी न्यूज ने अपने खिलाफ लगे आधारहीन एवं मानहानि करने वाले सभी आरोपों […]

Read more

राजनीति कर रहे हैं काटजू

पटना। प्रेस काउन्सिल ऑफ इंडिया के अध्यक्ष मार्कण्डेय काटजू जब-जब बिहार आते हैं, सूबे के बारे में कोई न कोई नकारात्मक टिप्पणी कर जाते हैं. उन्होंने इस बार तो तमाम हदें पार कर दी हैं और प्रदेश की जनता के द्वारा प्रचंड बहुमत से चुनी गई सरकार की बखिया उधेड़ कर रख दी. उन्होंने सूबे के सर्वप्रिय मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पर बुरी तरह कटाक्ष किया. काटजू ने जेपी की दुहाई देते हुए पूछा – आप कैसे शिष्य हैं? कहां है जेपी का जातिविहीन समाज। कहां गलत रास्ते पर चले गए? क्यों आपका इतना विरोध हो रहा है? सवालों की झड़ी लगाते […]

Read more

दैनिक जागरण ने भी करोड़ों का सरकारी विज्ञापन लूटा

मुजफफरपुर। दैनिक हिन्दुस्तान के लगभग 200 करोड़के सरकारी विज्ञापन घोटाले की  आग  अभी देश में बुझी भी नहीं थीं कि अब दैनिक जागरण  के सरकारी विज्ञापन फर्जीवाड़ा ने पूरी दुनिया में कारपोरेट प्रिंट मीडिया के असली चेहरा को नंगा कर दिया है ।सरकारी विज्ञापन घोटालों के उजागर होने से  दैनिक हिन्दुस्तान और दैनिक जागरण के प्रबंधन की नींद उड़गर्इ हैं।प्रबंधन ने पूरे देश मेंअपने संस्थान के  आर्थिक अपराध को उजागर करनेवाले देश के आर0ट0आर्इ0 के क्रांतिकारियोंको सफाया करनेकी धमकी दे दी है ।मुजफफरपुर और मुंगेर के गवाहों को दोनों अखबारों से जुड़े व्यकितयों की ओर से लगातार जान मारने की धमकियांमिल […]

Read more

जी न्यूज़ का “काला पत्थर”

जी न्यूज ने सोचा नहीं होगा कि कोयले को दागदार खोजते खोजते उसका दामन भी काला हो जाएगा। जी न्यूज बनाम जिंदल में जी न्यूज के संपादक सुधीर चौधरी ने  अपना पक्ष अपने चैनल में रखा है। सुधीर चौधरी के साथ जी न्यूज के विशेष कार्यक्रम मीडिया का सौदा में उनके सहयोगी जी बिजनेस के संपादक समीर अहलूवालिया ने अपना पक्ष रखा। अहलूवालिया घटना के सबसे अहम कड़ी के रुप में सामने आए है। लेकिन वो अपना पक्ष बेबाक तरीके से नहीं रख पाए। जी न्यूज कोलगेट पर कई दिनों से काला पत्थऱ सीरीज का प्रसारण कर रहा है। लेकिन इसी कोयले […]

Read more

झारखंड सूचना जन संपर्क विभाग में लूट का नया खेल

उर्दु अखबार के पहले अंक में ही दिया 15 अगस्त का एक फूल पेज विज्ञापनः इन दिनों झारखंड सरकार के सूचना एवं जन-संपर्क विभाग में लूट का आलम बढ़ गया है। एक लंबे समय तक पद खाली रहने के बाद जब एक सीसीएलकर्मी  को निदेशक बनाया गया तो उम्मीद बनी थी कि इस विभाग के दिन बहुरेगें और सरकारी विज्ञापनादि में जो गोरखधंधा चल रहे हैं,वे बंद भले ही न हो, उसमें कमी जरुर आयेगी। दुर्भाग्य कि फिलहाल यहां ऐसा कुछ नजर नहीं आ रहा है और भ्रष्टाचार का पानी सिर से उपर बहने लगा है। कहने को तो इस विभाग […]

Read more

दैनिक सन्मार्ग की आंखों पर काला चश्मा

विश्व पर्यटन दिवस है या विश्व पर्यावरण दिवस?: झारखंड की रांची से प्रकाशित हिन्दी दैनिक सन्मार्ग को लेकर राजनामा.कॉम की “पत्रकारों के शोषण का अड्डा बना सन्मार्ग मीडिया हाउस”   ( लिंकः   http://raznama.com/%e0%a4%aa%e0%a4%a4%e0%a5%8d%e0%a4%b0%e0%a4%95%e0%a4%be%e0%a4%b0%e0%a5%8b%e0%a4%82-%e0%a4%95%e0%a5%87-%e0%a4%b6%e0%a5%8b%e0%a4%b7%e0%a4%a3-%e0%a4%95%e0%a4%be-%e0%a4%85%e0%a4%a1%e0%a5%8d%e0%a4%a1/) शीर्षक से प्रसारित एक खबर पर अपना विचार प्रकट करते हुये संजय सिंह नामक एक सुधी पाठक ने आरोप लगाया है कि यह न्यूज वेब चैनल कोई पुरानी खुन्नस निकाल रहा है।  आगे सन्मार्ग की एक और दिलचस्प खबर के पहले स्पष्ट करना जरुरी है कि हमारा किसी भी मीडिया हाउस से कोई खुन्नस नहीं है। जिस एक अंग्रेजी दैनिक के फ्रेंचाइजी ने  पुलिस द्वारा जबरिया रंगदार बनवा […]

Read more

दैनिक जागरण की प्रतियां जलाई

अब गांव वाले नहीं पढ़ेगें दैनिक जागरण अखबारः सिगरेट बनानेवाली देश की प्रमुख कंपनी आई.टी.सी. लिमिटेड के कारण आसपास के गांवों में विद्यमान जल -प्रदूषण और ध्वनि प्रदूषण से परेशान नया गांव के ग्रामीणों के प्रदर्शन की खबर नहीं छापने पर आज क्रोधित ग्रामीणों ने मुंगेर शहर के गुलजार पोखर मोहल्ला स्थित दैनिक जागरण कार्यालय के समक्ष जोरदार प्रदर्शन किया और दैनिक अखबार के पक्षपातपूर्ण रवैया की भत्सना की । ग्रामीणों ने दैनिक जागरण कार्यालय के समक्ष दैनिक जागरण अखबार की सैकड़ों प्रतियों को सरेआम विरोध स्वरूप जला दिया । अखबार जलाने के बाद कोतवाली पुलिस भी घटनास्थल पर पहुंचकर जांच […]

Read more

वर्ष 2006 में ही पकड़ाया था हिन्दुस्तान विज्ञापन घोटाला

नेताओं-अफसरों-संपादकों की तिकड़ी ने वर्ष-2006 में ही दबा दी थी दैनिक हिन्दुस्तान के काले कारनामे की फाइल दैनिक हिन्दुस्तान के लगभग दो सौ करोड़ के सरकारी विज्ञापन घोटाले के बारे में नित नई जानकारियां सामने आ रही हैं. बिहार सरकार के वित्त अंकेक्षण विभाग ने वित्तीय वर्ष 2005-06 में ही बिहार में सूचना एवं जनसम्पर्क विभाग, पटना की मिलीभगत से दैनिक हिन्दुस्तान द्वारा किए जा रहे सरकारी विज्ञापन के फर्जीवाड़े को उजागर किया था. यही नहीं, दैनिक हिन्दुस्तान से अवैध ढंग से सरकारी विज्ञापन के प्रकाशन के मद से लगभग एक करोड़, पन्द्रह हजार नौ सौ पचपन रुपए की वसूली की […]

Read more

गलत तस्वीर पेश कर रही है बिहार की मीडिया

सरकार की अच्छाई और बुराई को उजागर करनेकी भूमिका निभाने वाले बिहार के हिन्दी और अंग्रेजी भाषाई आइना इन दिनों चूर-चूर हो गयाहै। मीडिया में बिहार की गलत तस्वीर पेश की जा रहीहै। बिहार की राजधानी पटना में बिहार के मुख्यमंत्री नीतिश कुमार को खुश करने के लिए प्रथम पृष्ठ पर कुछ उत्साहवर्द्धक और जीवंत खबरें छप जरूर  रही हैं ,परन्तु बिहार के 38 जिलों में जिलाबार छपनेवाले हिन्दी अखबारों में जो खबरें इनदिनों छप रहीं हैं,वह खबरें सरकार के प्रशासनिक और पुलिस पदाधिकारियों के मनोबल को तोड़ने के लिए छापी जा रहीहै । बिहार के जिलों में वितरित होर हे जिलावार […]

Read more

पत्रकारिता की आड़ में राष्ट्रव्यापी दलाली का नमुना

 अखबार निकालने वाले लोग दलाली करके कोयला खदानों के मालिक बनने लगे हैं. ऐसे लोगों से क्या उम्मीद करेंगे कि वे जनता के पक्ष में अखबार चलायेंगे? ये लोग खुलेआम अपने रसूख का इस्तेमाल ठेका पाने, दलाली पाने में करने लगे हैं. और, रातोंरात सैकड़ों करोड़ रुपये कमाने में सफल हो जाते हैं. दर्डा खानदान इसका साक्षात उदाहरण है. महाराष्ट्र के पूर्व मंत्री जवाहरलाल दर्डा के 61 वर्षीय पुत्र विजय दर्डा लोकमत ग्रुप के चेयरमैन हैं. यह ग्रुप लोकमत मराठी दैनिक, लोकमत समाचार हिंदी दैनिक और लोकमत टाइम्स अंग्रेजी दैनिक का महाराष्ट्र के विभिन्न शहरों से प्रकाशन करता है. विजय दर्डा […]

Read more
1 42 43 44 45 46 49