बिना प्रशासनिक सहभागिता संभव नहीं है सोशल मीडिया पर नजर

वेशक आज समाज में सोशल मीडिया के उपयोग और दुरुपयोग के एक से एक खतरनाक आयाम इतनी तेजी से सामने आ रहे हैं कि इस पर नजर रखने और उपद्रवी तत्वों के खिलाफ समय से कार्रवाई करने की जरूरत बढ़ती ही जा रही है। अगर सरकार या प्रशासन सोशल मीडिया पर […]

Read more

गुजरात के ‘प्रेस वाहन’ से नालंदा में शराब की यूं तस्करी होना गंभीर बात

“मीडिया जगत में प्रेस शब्द का जितना अलग महत्व है, शासन-प्रशासन में उसका उतना ही अलग पहचान। बहुतेरे लोग या तो प्रेस के नाम पर अपराधिक कुकृत्य को अंजाम दे रहे हैं या फिर मीडिया में येन-केन-प्रकेरेन प्रवेश कर, चाहे उसे एक लाइन समाचार लिखना तक क्यों न आता हो। समय […]

Read more

एक था ‘अखबारों की नगरी’ मुजफ्फरपुर का ‘ठाकुर’

‘बुलंदी देर तक किस शख्स के हिस्से में रहती है,बहुत उंची ईमारत हर वक्त खतरे में रहती है ’….मुनव्वर राणा की यह पंक्ति ‘मुजफ्फरपुर महापाप’ के मास्टर माइंड कहे जाने वाले ब्रजेश ठाकुर पर सटीक बैठती है। पटना ( जयप्रकाश नवीन)। ब्रजेश ठाकुर कुछ दिन पहले तक ‘अखबारों की नगरी’ मुजफ्फरपुर […]

Read more

मीडिया के लिए नहीं होना चाहिए कोई दिशा-निर्देशः चीफ जस्टिस दीपक मिश्रा

राजनामा.कॉम। ‘लोकतांत्रिक समाज में प्रेस की आजादी तमाम आजादी की जननी है। इसमें कोई शक नहीं कि ये संविधान में दिए गए सबसे मूल्यवान अधिकारों में से एक है। इसमें जानने का अधिकार और सूचित करने का अधिकार भी समाहित है’ यह कहना है देश के मुख्य न्यायधीश (सीजेआई) दीपक मिश्रा […]

Read more

पत्रकारिता दिवस पर विशेष: मीडिया तेरे कितने प्रकार?

‘बिना मीडिया की सरकार चाहिए या बिना सरकार का मीडिया‘ “सामाजिक सरोकारों तथा सार्वजनिक हित से जुड़कर ही पत्रकारिता सार्थक बनती है। सामाजिक सरोकारों को व्यवस्था की दहलीज तक पहुँचाने और प्रशासन की जनहितकारी नीतियों तथा योजनाओं को समाज के सबसे निचले तबके तक ले जाने के दायित्व का निर्वाह ही […]

Read more

‘न तू अंधा है, न अपाहिज है, न निकम्मा है तो फिर ऐसा क्यूं’?

-: मुकेश भारतीय :- इसको भाव शून्यता कहिये, चाहे कहिये निर्बलता, नाम कोई भी दे सकते हैं आप मेरी मजबूरी को। कि जंगल-जगल ढूंढ रहा हूं, मृग बनके कस्तूरी को, बड़ा मुश्किल है तय करना, खुद से खुद की दूरी को।। कभी मेरी द्वारा रचित-प्रकाशित कविता के उपरोक्त अंश आज फिर […]

Read more

फिर सबालों के घेरे में नालंदा की पत्रकारिता और पत्रकार संगठन

हमारे एक्सपर्ट मीडिया न्यूज नेटवर्क के वरीय संपादन सहयोगी  पत्रकार जयप्रकाश नवीन पिछले दो दशक से सक्रीय लेखन के साथ आंचलिक पत्रकारिता से भी जुड़े रहे  हैं। राज्य से लेकर जिला, अनुमंडल व प्रखंड के गठित पत्रकार संगठनों के गवाह भी रहे हैं। उन्होंने राष्ट्रीय परिप्रेक्ष्य में नालंदा की मीडिया से […]

Read more

एसडीओ की अदद चाय से हिलसा अनुमंडल पत्रकार संघ में यूं मचा घमासान

राजनामा न्यूज (मुकेश भारतीय)। मीडिया हाउस कितना भी बड़ा पूंजीगत क्यों न हो, उसकी रीढ़ आंचलिक पत्रकारिता होती है। इसे कोई नजंदाज नहीं कर सकता, लेकिन आज यदि हम देखें तो आंचलिक पत्रकारों के सामने नाना प्रकार के जटिल समस्याएं उठ खड़ी हुई हैं। उन सबमें सबसे जटिल चुनौती है आंचलिक […]

Read more

प्रेस क्लब की सदस्यता में धांधली के बीच विजय पाठक को लेकर उभरे तत्थ

राजनामा.कॉम। अब जबकि प्रेस क्लब, रांची की तदर्थ कमिटि की सदस्यता अभियान के दौरान व्यापक पैमाने पर धांधली बरते जाने के बाद चुनाव प्रक्रिया की घोषणा कर दी गई है और समर्थ सदस्यों ने विभिन्न पदों के लिये नामांकण कर दिया है, ऐसे एक बड़ा सबाल उठता है कि जिन लोगों […]

Read more

बिहार-झारखंड, यहां जदयू-भाजपा सरकार की आत्मा जिंदा कहां है ?

“सदियों से चली आ रही मनुवाद की जमीं पर आज की जातीवादी राजनीति ने समाज में एक ऐसे जहरीले कीड़े को बल दिया है, जिसके शिकार इन्सान न मर सकता है और न जिंदा ही रह सकता है। सबाल सिर्फ मानवता की नहीं है, सीधा सबाल शासन-प्रशासन की भी है। “ […]

Read more
1 2 3 4 12