अपने ही मुल्क में दफ्न होती ज़िंदगियां ! और कितनी शहादत ?

-: अरविन्द प्रताप :- झारखण्ड – छतीसगढ़ राज्य बनते ही इनके हिस्से में एक सबसे भयानक दुस्वारी आयी, जिसका नाम था नक्सलवाद, नक्सलवाद ने झारखण्ड और छतीसगढ़ जैसे कई राज्यों को खून के आंसू रुलाया है, जिसकी बलिवेदी पर न केवल सूबे के सांसद…और विधायक बलि चढ़ते रहे…बल्कि यहां की धरती रोजाना देश के जवानों के खून से लाल भी होती रही… राज्य में बनी सरकारों ने कभी इस मसले पर गंभीरता नहीं दिखाई…नतीजन वक़्त के साथ यह समस्या भी सूबे में नासूर बनता गया…नक्सली कैसे सूबे में लाल कारीडोर का निर्माण करते चले गए…और सरकारें कैसे बौनी बनी रहीं… छतीसगढ़ में […]

Read more

नालंदा के थानों में जी हुजूरी करते चौकीदार और अपराधी बने डीएम-एसपी

बिहारशरीफ (नालंदा), मुकेश भारतीय / जयप्रकाश नवीन। किसी भी राज्य की शासन व्यवस्था में गांवों या शहरों की प्रथम पूर्ण सुरक्षा की जिम्मेवारी कोतवालों यानि चौकीदारों और दफादारों पर है। यह कोई आजाद भारत की नई व्यवस्था नहीं है। पुरातन काल से चली आ रही इस व्यवस्था को अंग्रेजी हुकुमत ने भी बरकरार रखा। लेकिन आज यदि हम नालंदा जैसे जिलों में देखें तो थानेदारों ने सब कुछ की धज्जियां उड़ा कर रख दी है। इससे सब वाकिफ हैं। भारतीय प्रशासनिक सेवा के अधिकारी हों या भारतीय पुलिस सेवा के कर्णधार। बिहार प्रशासनिक सेवा के करींदों का तो अपना ही आलम […]

Read more

ऐय्याश-भगोड़ा विजय माल्या को भारत लाना दूर की कौड़ी, गिरफ्तारी के 3 घंटे बाद ही रिहा

विजय माल्या को भारत सरकार की अर्जी के आधार पर लंदन में गिरफ्तार किया गया और उसे महज 3 घंटे बाद जमानत भी मिल गई। ब्रिटिश कानूनों को देखते हुए ऐसा लगता है कि माल्या को भारत लाना अभी दूर की कौड़ी है। भारत ने ब्रिटेन के साथ प्रत्यर्पण संधि के अनुरूप आठ फरवरी को एक नोट वर्बेल के जरिए माल्या के प्रत्यर्पण के लिए औपचारिक आग्रह किया था। जानकारों के मुताबिक प्रत्यपर्ण के लिए देश में तीन तरह के रास्ते हैं और वो इंडियन पीनल कोड, क्रिमिनल प्रोसिजर कोड और एंविडस एक्ट के तहत हैं। लेकिन सरकार अगर जोर लगाएगी […]

Read more

सिल्ली MLA अमित महतो के इस ‘बुजुर्ग मां’ जज्बे को सलाम

रांची ( मुकेश भारतीय )। मां सिर्फ मां होती है और जीवन में वह सर्वोपरि है। पिछले ढाई दशक से उपर की अपनी पत्रकारिता में कहीं भी रहा। चाहे वह बिहार-झारखंड हो, उत्तर प्रदेश, नई दिल्ली, पंजाब, हरियाणा, मध्य प्रदेश, पश्चिम बंगाल हो या फिर दक्षिण के राज्यों का भ्रमण हो… कहीं इस तरह की बानगी मुझे देखने को नहीं मिल सका है। वाकई फेसबुक-ट्वीटर जैसे सोशल साइट तरह-तरह के अनुभवों से अवगत कराता है। यहां मेरी उपस्थिति का करीब एक ढेड़ दशक होने को है। लेकिन हाल के दिनों में मैं एक युवा राजनीतिज्ञ का कायल हो चुका हूं। वे हैं..अमित कुमार महतो। अमित झारखंड […]

Read more

रघु’राज के प्रमुख प्रेस सलाहकार योगेश किसलय ने फेसबुक पर उड़ेली ओछी मानसिकता

रांची (मुकेश भारतीय)। झारखण्ड के मुख्यमंत्री रघुवर दास के प्रेस सलाहकार योगेश किसलय की सोशल साइटों पर थू-थू हो रही है। फेसबुक और ट्वीटर पर तो कहीं चुटेले तो कहीं आक्रोश का आलम है। कोई उनकी हंसी उड़ा रहा है तो कोई नालायक सरकारी पत्रकार बता रहा है। दरअसल झारखंड-बिहार की मीडिया में अपनी अलग भगवा छाप रखने वाले वरिष्ठ पत्रकार योगेश किसलय ने अपनी फेसबुक टाइम लाइन पर विगत 14 अप्रैल,2017 को एक फर्जी फोटो के साथ अत्यंत विवादित कमेंट शेयर की है। योगेश किसलय किस जाति और वर्ण से आते हैं, ये लोगों को भले पता न हो लेकिन […]

Read more

अनुचित है रांची कॉलेज का नाम बदलना

-: नवीन शर्मा :- राज्य के सबसे पुराने कालेज रांची कालेज का नाम बदल कर डाक्टर श्यामा प्रसाद मुखर्जी विश्वविद्यालय कर दिया गया है। यह निर्णय किसी भी दृष्टिकोण से उचित नहीं लगता है। मेरा दृढ़ता से मानना है कि किसी भी पुराने संस्थान के नाम से लोगों की भावना जुड़ी होती है उसका अपना एक इतिहास होता है। उस संस्थान से जुड़े लोगों का उस संस्थान से एक तारत्मय बना होता है उसे बिना किसी वाजिब कारण के तोड़ना अनुचित है। रांची कॉलेज नाम में कोई बुराई तो नहीं है। ऐसा भी नहीं है कि वाराणसी या प्रयाग की तरह […]

Read more

नीतिश के अहं को मिली बेलगाम IAS शासन की चुनौती

रांची/पटना/मुकेश भारतीय। आज रांची से प्रकाशित समाचार पत्रों में भी बिहार  से जुड़ी  लीड खबर है…. “हम आईएएस बिहार में सुरक्षित नहीं हैं, सीएम के मौखिक आदेश नहीं मानेगें”। यह फरमान जारी करते हुये बिहार आईएएस एसोसिएसन ने आगे कहा है कि बिहार में आईएएस अफसर डरे रहते हैं। किसी भी फैसले के वक्त अंदेशा या खतरा रहता है कि कहीं गलत न मान लिया जाए। एसोसिएसन ने बीएसएससी पेपर लीक मामले में गिरफ्तार आईएस सुधीर कुमार को ईमानदार बताते हुये कहा है कि एसआईटी उनके पूरे परिवार को टारगेट कर रही है। उधर बासा यानि बिहार प्रशासनिक सेवा एसोसिएसन ने […]

Read more

चंडी पुलिस के निकम्मेपन खिलाफ उच्चस्तरीय जांच की जरुरत

एक्सपर्ट मीडिया न्यूज डेस्क/मुकेश भारतीय। समूचे बिहार में सुशासन यानि कानून का राज होने का दंभ भरने वाले सीएम नीतिश कुमार के घर जिले नालंदा के चंडी थाना पुलिस के खिलाफ उच्चस्तरीय जांच की जरुरत है। सीएम के स्वजातीय होने का रौब झाड़ने वाले पूर्व थाना प्रभारी धर्मेंद्र कुमार ने अपराध की नई परिभाषा गढ़ दी थी। जिसकी झलक वर्तमान थाना प्रभारी कमलजीत कुमार के कार्यकाल में भी साफ दिखती है। नालंदा से हमारे प्रमुख संवाददाता जयप्रकाश नवीन की खबर है कि नालंदा के चंडी थाना के नए थानेदार को उच्चके रोज सलामी दे रहे हैं। बैंक से लेकर सड़क तक […]

Read more

सुशासन बाबू के नालंदा में अराजकता, सिर्फ मीडिया में दिखता है एसपी का थोबड़ा

राजनामा डेस्क (मुकेश भारतीय)। सुशासन बाबू यानि बिहार के सीएम नीतिश कुमार। लेकिन सबाल यह उठता है कि उन्हें यह तमगा दिया किसने है। मीडिया ने या आम जनता ने। तलवे चाटने वाली मीडिया कुछ भी अर्शनाम देने को स्वतंत्र है लेकिन, आम जनता के लिये कितना सुशासन है, सीएम के घर-जिले नालंदा का आकंलन कर इसका सहज अंदाजा लगाया जा सकता है। वेशक नालंदा का एसपी कुमार आशीष मीडिया से इतर आम जन में अपराध नियंत्रण के पैमाने पर खरे नहीं उतर पा रहे हैं। इसका एक बड़ा कारण यह है कि वे थाना प्रभारियों का बेतलब कसीदे गढ़ते हैं, बिल्कुल नकारे […]

Read more

पद्मश्री बलबीर दत के सम्मान में पहुंचे मात्र तीन पत्रकार !

रांची (मुकेश भारतीय)।  झारखंड की पत्रकारिता के भीष्म पितामह बलबीत दत्त को पद्मश्री पुरुस्कार से सम्मानित होने के बाद कल 27 फरवरी की शाम 5 बजे एर्नाकुलम से हटिया स्टेशन पहुँचे। इस स्वागत मौके पर झारखंड जर्नलिस्ट एसोसिएशन के अध्यक्ष शाहनवाज़ हसन, प्रदेश सचिव सुरेंद्र सोरेन एवं रांची एक्स्प्रेस के वरिष्ठ पत्रकार संपूर्णानंद भारती जी ही नजर आये। आलावे रांची का अन्य सारे पत्रकार कहां छुपे रहे, कोई नहीं जानता। जबकि पीठे पीछे बलबीर जी के साथ प्रगाढ़ संबंध के प्रायः पत्रकार चहुओर ढिढोंरे पीटते नजर आये हैं और उन्हें पद्मश्री सम्मान मिलते ही सोशल साइट पर पुराने फोटो चस्पा कर […]

Read more

अखबारों और चैनलों के सीले होठ और चूं-चूं का मुरब्बा बना झारखंड सीएम जनसंवाद केन्द्र

रांची। वरीय अधिकारियों के दल ने विज्ञापन का ऐसा लालच दिखाया है कि ये अखबार और चैनलवाले आम जनता के सामने नंगे हो गये है, फिर भी बेशर्म की तरह सीना तानकर खड़े है और कह रहे है कि हम लोकतंत्र के चौथे स्तंभ है, जबकि सच्चाई यह है कि ये इंसानियत के नाम पर कलंक है। आपको मालूम होगा कि मुख्यमंत्री जनसंवाद केन्द्र में कार्यरत दो बेटियों ने यहां हो रहे गलत कार्यों का विरोध किया, उनका कहना था कि मुख्यमंत्री जनंसवाद केन्द्र में कार्यरत महिलाओं के साथ अपमानजनक व्यवहार होता है, इन दोनों बेटियों ने इसकी जानकारी राज्य महिला […]

Read more

रघु’राज में झारखंडी मीडिया को धिक्कार, कोई नहीं समझता बिटियों की पीड़ा

रांची। झारखंड की मीडिया को जिन्होंने रांची की बेटियों की आवाज सुनने से इनकार कर दिया। धिक्कार उस सरकार को जिसे पता ही नहीं कि उनकी बेटियों के संग उन्हीं के नाक के नीचे क्या हो रहा है। रांची स्थित सूचना भवन में चल रहे मुख्यमंत्री जनसंवाद केन्द्र में कार्यरत महिलाकर्मियों ने राज्य महिला आयोग को पत्र लिखा है कि मुख्यमंत्री जनसंवाद केन्द्र में कार्यरत वरीय अधिकारियों एवं नियोक्ता के द्वारा उनके साथ बराबर दुर्व्यवहार किया जाता है, अपमानित किया जाता है। इन महिलाकर्मियों ने उक्त पत्र की प्रतिलिपि राष्ट्रीय महिला आयोग नई दिल्ली, प्रधानमंत्री भारत सरकार, मुख्यमंत्री झारखण्ड, राज्यपाल झारखण्ड, […]

Read more
1 2 3 7