गलत तस्वीर पेश कर रही है बिहार की मीडिया

सरकार की अच्छाई और बुराई को उजागर करनेकी भूमिका निभाने वाले बिहार के हिन्दी और अंग्रेजी भाषाई आइना इन दिनों चूर-चूर हो गयाहै। मीडिया में बिहार की गलत तस्वीर पेश की जा रहीहै। बिहार की राजधानी पटना में बिहार के मुख्यमंत्री नीतिश कुमार को खुश करने के लिए प्रथम पृष्ठ पर कुछ उत्साहवर्द्धक और जीवंत खबरें छप जरूर  रही हैं ,परन्तु बिहार के 38 जिलों में जिलाबार छपनेवाले हिन्दी अखबारों में जो खबरें इनदिनों छप रहीं हैं,वह खबरें सरकार के प्रशासनिक और पुलिस पदाधिकारियों के मनोबल को तोड़ने के लिए छापी जा रहीहै । बिहार के जिलों में वितरित होर हे जिलावार […]

Read more

हिन्दी न्यूज चैनल की पत्रकारिता

जंतर-मंतर की आवाज 10 जनपथ या 7 रेसकोर्स तक पहुंचेगी। देखिये इस बार भीड़ है ही नहीं। लोग गायब हैं। पहले वाला समां नहीं है। तो जंतर-मंतर की आवाज या यहां हो रहे अनशन का मतलब ही क्या है। तो क्या यह कहा जा सकता है कि अन्ना आंदोलन सोलह महीने में ही फेल हो गया। थोड़ा इंतजार करना है। यह अन्ना टीम के अनशन की शुरुआत पर न्यूज चैनल में संवाद का हिस्सा है। और चार दिन बाद जब अन्ना हजारे खुद अनशन पर बैठे तो…जंतर-मंतर पर आज क्या हाल है। देखिये लोग जुट रहे हैं। लेकिन वह समां अब […]

Read more

ऐसे मुर्खों पर मुझे हंसी आती है : पुष्कर पुष्प

मीडिया खबर डॉट कॉम के संपादक पुष्कर पुष्प ने इंडिया टीवी चैनल के प्रबंध संपादक विनोद कापड़ी का  सी -न्‍यूज चैनल के दिल्‍ली पत्रकार मुकेश चौरसिया  द्वारा लिये गये  इंटरव्‍यू कर दिये जाने के मामले में नाम घसीटे जाने की बाबत कहा कि ऐसे मुर्खों पर हंसी आती है, जो ऑनलाइन कंटेंट की एबीसीडी तक नहीं जानते। उन्होंने नई दिल्ली से मोबाइल पर हुई एक बातचीत में कहा कि भड़ास मीडिया के संचालक यशवंत सिंह  के मामले को लेकर विनोद कापड़ी से जो इंटरव्यू मुकेश चौरसिया ने लिया था, उसे सी-न्यूज चैनल की ओर से यूट्यूव पर डाला गया था। उसी आधार पर […]

Read more

काटजू जी, देखिये झारखंडी मीडिया की चाल-चरित्र

राजनामा.कॉम (मुकेश भारतीय) ।  झारखंडी मीडिया का एक विशेष गुण। जो जितना बड़ा चोर-उतना ही जोर से मचाता है शोर। बात चाहे प्रिंट मीडिया की हो या इलेक्ट्रॉनिक मीडिया की। हमाम में  सब नंगे। इसी संदर्भ में एक नई कड़ी जुट गई है कि यहां आम जनता के अरबो-खरबों रुपये की गाढ़ी कमाई को बिल्डर-माफियओं की फौज ने लूट लिया। आज वे ही समाचार-पत्रिकायें व न्यूज़ चैनलें सुर्खियां बना रही है,जिनकी परोक्ष-अपरोक्ष तौर पर मिलीभगत रही है।  आज-कल रांची से प्रकाशित दैनिक हिन्दुस्तान ने बाजाप्ता बिल्डरों के कारनामों को कलंक कथा नाम से भुना रहा है। वह जिस प्रकार की सूचनायें […]

Read more

न्यूज़11 चैनल की कलंक कहानीः एक भुक्तभोगी की जुबानी

राज़नामा.कॉम ( मुकेश भारतीय)। एक पुरानी कहावत है कि घर का भेदिया लंका ढाहे। अगर विभीषण न होता तो सोने की लंका न जलता और रावण न मरता। आज मित्र ने कुछ ऐसे ही सूचना दी। फेसबुक पर अपने एकांउट में फिलहाल साधना न्यूज चैनल में कार्यरत कुंदन कृतज्ञ ने रांची के ही न्यूज़11 चैनल के बारे में जिस तरह की पोल खोल रहे हैं, उसे राजनामा.कॉम उनकी ही शब्दों में हु-ब-हु सामने रख रहा है। इसमें कितनी सच्चाई है, राम जाने। हो सकता है कि किसी दुर्भावनावश इसे एक पक्षीय स्वरुप में ढाला गया हो।  लेकिन इससे इतना तो तय […]

Read more

इस न्यूज़ चैनल का यह कैसा एक्सक्लुसिव

राज़नामा.कॉम। आज कल न्यूज़ चैनलों ने एक्सक्लुसिव शब्द की पत्रकारीय परिभाषा ही बदल डाली  है। उसे जो भी मिले, उसे एक्सक्लुसिव बना डालती है। उदाहरणार्थ एक बिल्डर माफिया द्वारा संचालित रांची के इस एक चैनल को लिजीये। शायद ही ऐसी कोई खबर हो, जिसे एक्सक्लुसिव बना कर  पेश न करती हो। कमोवेश यही आलम खुद को तीसमार खां समझने वाले पत्रकारों  की भरमार वाले यहां के सभी न्यूज़ चैनलों की है। झारखंड प्रांत के एक मंत्री किसी सड़क या गांव में किसी योजना का उद्दघाटन करता है और ये चैनल चीख-चीख कर उसे एक्सक्लुसिव बताता है। क्या यह एक्सक्लुसिव खबर है […]

Read more

“बाबा” को दबोचने सन्मार्ग पहुंचे “बब्बर”

राज़नामा.कॉम, मुकेश भारतीय। झारखंड की राजधानी रांची की पत्रकारिता में एक से एक धुरंधर भरे पड़े हैं, जो बिल्डरों- माफियाओं के इशारों पर नाचते फिर रहे हैं। ऐसा ही ताजा उदाहरण है- न्यूज़11 चैनल के एडीटर इन चीफ हरिनारायण सिंह का अचानक एक बिल्डर-माफिया प्रेम शंकरण की रहनुमाई में प्रकाशित दैनिक अखबार सन्मार्ग पहुंचना। कहते हैं कि मधु कोड़ा के लूटराज में डूबकी लगाने वाले आला पत्रकार हरिनारायण सिंह पत्रकारिता के सेक्रेट बाबा यानि प्रधान संपादक बैजनाथ मिश्र को दबोचने के लिये सन्मार्ग पहुंचे हैं। चूकि श्री सिंह का श्री मिश्र की अपेक्षा वित्तीय राज प्रबंधन काफी मजबूत है, इसलिये उनका […]

Read more

कशिश चैनल की कसाईगिरी चालू आहे

राजनामा.कॉम। झारखंड की राजधानी रांची से एक बिल्डर सुनील चौधरी ने अपने काले धन की सहायता से काले धन की सुरक्षा के लिए रिहायशी इलाके में “कशिश” नामक एक न्यूज चैनल खोला है।इस चैनल से जुड़े स्वंयभू पत्रकारों-प्रबंधकों की घटियापन से उब कर प्रायः लोग अलविदा कह चुके हैं।मेरा दावा है कि यदि किसी भी पत्रकार में थोड़ा सा भी जमीर जिंदा है तो यहां नहीं टिक सकता।इस चैनल में वही महिला/पुरुष पत्रकार टिक सकता है जो अपना स्वभिमान-प्रतिष्ठा दावं पर लगा दिया हो! हाल ही में इस चैनल के न्यूज हेड गंगेश गुंजन और पूनम पांडे नाम की एंकर की […]

Read more

बिल्कुल बदल गई है पत्रकारों की दिशा और दशा

शब्दों में वो ताकत होती है जो बन्दूक की गोली, तोप के गोले एवं तलवार में नहीं होती है। अस्त्र-शस्त्र से घायल व्यक्ति की सीमा शरीर होता हैजो देर-सबेर ठीक हो ही जाता है लेकिन, शब्द से मानव की आत्मा घायल होती है, इस पीड़ा को जीवन-पर्यन्त तक नहीं भुलाया जा सकता। शब्दों कासच्चा मालिक पत्रकार ही होता है, जिसकी लेखनी से निकला प्रत्येक शब्द किसी देश, समाज, विकास की न केवल दिशा और दशा को तय करता है बल्कि उन्हें एक निश्चित् गति भी प्रदान करने में सहायक होता है। इतिहास गवाह है देश के अन्दर बड़ी-बड़ी क्राँन्तियां पत्रकारों की […]

Read more

चौबे चले छब्बे बनने और दुबे बन कर रह गए

मौर्या टीवी प्रसिद्ध फिल्म निर्माता-निर्देशक प्रकाश झा का न्यूज चैनल है। इस चैनल की सबसे बड़ी विशेषता थाली के बैगन वाली है। कभी इधर तो कभी उधर। जब सरकारी लोकपाल की लोकपाल चर्चा हुई तो लोकपाल, जब सिविल सोसाइटी की जन लोकपाल की हुई तो जन लोकपाल और अब जब बहुजन लोकपाल की चर्चा हुई तो बहुजन लोकपाल। दरअसल, प्रकाश झा फिल्म आरक्षण को लेकर दलित नेताओं के निशाने पर हैं और उसकी चोट से बचने के लिए वे अब दलित वर्ग की हिमायती बन गये हैं। इसकी व्यापक झलक गत दिनों दिल्ली के रामलीला मैदान में बहुजन लोकपाल के समर्थन […]

Read more

कशिश चैनल के न्यूज हेड की जय हो

हाय! तुम चुप क्यों हो…कुछ बोल क्यों नहीं रही हो   मंदिर देवघर का हो या कहीं और का… आपने कभी गौर से देखा है … चैनल कशिश को … एक बार गौर से देखिये … चकरा तो हम भी गए थे … क्या ये चैनल हेड की पत्नी है … गौर से देखा तो चौंक गया … अरे ये तो वही है … बवाल एंकर … पर अब सधी हुई … मंदिर मंदिर घूमती … चैनल चैनल खेलती … ये तो मैडम जी का जलवा है … जलवा भी ऐसा की न्यूज़ डाइरेक्टर का सब कुछ दाव पर … जमशेदपुर […]

Read more
1 7 8 9