प्रेस क्लब रांची चुनावः कमजोर नींव पर बुलंद ईमारत बनाने के जुमले फेंकने लगे प्रत्याशी

रांची (मुकेश भारतीय)। संभवतः कल 27 दिसंबर को प्रेस क्लब रांची के चुनाव का वोटिंग होनी है। इसके लिये अध्यक्ष पद के 5, उपाध्यक्ष पद के 5, सचिव पद के 9, संयुक्त सचिव के 5, कोषाध्यक्ष पद के 5 और 10 सदस्यीय कार्यकारिणी पद के लिये कुल 39 प्रत्याशी  आपस में एक दूसरे से  खूब गुत्थमगुत्था करते नजर आ रहे हैं। यह चुनाव बतौर मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी सेवानिवृत जज विक्रमादित्य प्रसाद व उनकी टीम की देखरेख में काराई जा रही है। हालांकि ऐन चुनाव पूर्व सदस्यता अभियान में इनकी कहीं कोई भूमिका नहीं रही है। अगर होती तो तस्वीर कुछ और […]

Read more

रांची प्रेस क्लब इलेक्शन वनाम हरिशंकर परसाई की ‘भेड़ें और भेड़ियें ’

एक बार एक वन के पशुओं को ऐसा लगा कि वे सभ्यता के उस स्तर पर पहुँच गए हैं, जहाँ उन्हें एक अच्छी शासन-व्यवस्था अपनानी चाहिए । और,एक मत से यह तय हो गया कि वन-प्रदेश में प्रजातंत्र की स्थापना हो। पशु-समाज में इस `क्रांतिकारी’ परिवर्तन से हर्ष की लहर दौड़ गयी कि सुख-समृद्धि और सुरक्षा का स्वर्ण-युग अब आया और वह आया। जिस वन-प्रदेश में हमारी कहानी ने चरण धरे हैं, उसमें भेंडें बहुत थीं–निहायत नेक , ईमानदार, दयालु , निर्दोष पशु जो घास तक को फूँक-फूँक कर खाता है। भेड़ों ने सोचा कि अब हमारा भय दूर हो जाएगा। […]

Read more

रांची प्रेस क्लब चुनावः क्या आप ऐसे लोगो को वोट देंगे? जो…..

“रांची प्रेस क्लब का चुनाव हो रहा हैं। इसमें ऐसे-ऐसे घाघ लोग चुनाव लड़ रहे हैं, जिनके जीतने पर रांची प्रेस क्लब के सम्मान को ही खतरा हैं, क्योंकि जिसके पास जो चीजें रहती हैं, वहीं वह बांटता हैं।” अपनी वेबसाइट विद्रोही24.कॉम पर वरिष्ठ पत्रकार कृष्ण बिहारी मिश्र…. खुशी इस बात की है कि इस चुनाव में कुछ अच्छे चेहरे भी दिखाई पड़ रहे हैं, ये सारे के सारे नवोदित व युवा पत्रकार है, जिन्होंने अभी-अभी पत्रकारिता में अपने पांव बढाये हैं, जिनके चेहरे को देख कर लगता है कि ये कुछ करेंगे, क्योंकि इनमें करने की ताकत हैं। ऐसा नहीं […]

Read more

प्रेस क्लब की सदस्यता में धांधली के बीच विजय पाठक को लेकर उभरे तत्थ

राजनामा.कॉम। अब जबकि प्रेस क्लब, रांची की तदर्थ कमिटि की सदस्यता अभियान के दौरान व्यापक पैमाने पर धांधली बरते जाने के बाद चुनाव प्रक्रिया की घोषणा कर दी गई है और समर्थ सदस्यों ने विभिन्न पदों के लिये नामांकण कर दिया है, ऐसे एक बड़ा सबाल उठता है कि जिन लोगों ने द रांची प्रेस क्लब के निबंधन के दौरान फर्जीबाड़ा किया है या फिर सदस्यता प्रक्रिया के दौरान निजी खुन्नस निकालते हुये करीब ढाई सौ पत्रकारों को चुनाव प्रक्रिया से दूर रखा है, वैसे लोगों को चुनाव लड़ना किस नैतिकता का घोतक है। एक अखबार के स्थानीय संपादक विजयकांत पाठक […]

Read more

समाज सेवा पेशा से जुड़े हरिनारायण सिंह बन गये कथित द रांची प्रेस क्लब के उपाध्यक्ष !

राजनामा.कॉम। तथाकथित द रांची प्रेस क्लब के निबंधन में भारी गड़बड़ियां बरती गई है। जहां एक तरफ निबंधन कार्यालय ने उन गड़बड़ियों को नजरअंदाज किया है वहीं, इस कथित क्लब के रहनुमाओं ने अपनी ही नियमावली को ताक पर रख दिया है। राजनामा.कॉम के पास उपलब्ध दस्तावेज के अनुसार कथित द रांची प्रेस क्लब संस्था की सदस्यता की मूल शर्त है कि जो पत्रकारिता से जुड़ा है। कार्यकारिणी समिति का गठन में साफ उल्लेख है कि संस्था की कार्यकारिणी समिति में पदाधिकारियों सहित कुल सात सदस्य होगें, जिनका कार्यकाल 2 वर्ष का होगा। सदस्यों की संख्या असीमित बताई गई है और […]

Read more

रांची के ऐसे पत्रकार संगठन के अध्यक्ष और अखबार के संपादक पर मुझे शर्म है

-: मुकेश भारतीय :- बनिया सिर्फ बनिया होता है। वह सब कुछ अपनी नफा-नुकसान के तराजू पर तौलता है। यदि हम रांची के पत्रकारों की बात करें तो प्रायः वे ऐसे ही बनिया नजर आते हैं। बात जब किसी संपादक-प्रकाशक-पत्रकार की हो तो उनकी बनियागिरी काफी स्पष्ट हो जाती है। आगे लिखने से पहले स्पष्ट कर दूं कि बनिया शब्द का आशय किसी जाति विशेष से नहीं है। बल्कि मूल सांकेतिक डंडीमार धंधे से है। जिसकी व्यापक पैमाने पर व्याख्या करने के साथ आत्म चिंतन-मंथन होनी चाहिये। बीते कल एक पत्रकार संगठन के अध्यक्ष और एक दैनिक अखबार के संपादक से मुलाकात-बात […]

Read more

सिर्फ प्रेस क्लब भवन कब्जाने के लिये चंद मठाधीश लोग चाहते हैं फर्जी संस्था का अवैध चुनाव !

राजनामा.कॉम। रांची प्रेस क्लब है या द रांची प्रेस क्लब ? इसमें वैध कौन है और अवैध कौन?  रांची की मीडिया और व्यवस्था के सामने एक बड़ा सबाल उभर कर सामने आया है। तेतरटोली, बरियातु निवासी इन्द्र देव लाल द्वारा मांगी गई आरटीआई पर अवर सचिव सह जन सूचना पदाधिकारी, निबंधन प्रभाग, रांची (झारखंड) की स्तर से जो दस्तावेज उपलब्ध कराये गये हैं, उससे साफ स्पष्ट होता है कि न तो रांची प्रेस क्लब वैध है और न ही द रांची प्रेस क्लब। क्योंकि दोनों में कहीं कोई विभेद नजर नहीं आता जबकि फर्जी तरीके से समान प्रक्रिया अपनाई गई है। […]

Read more
1 2 3 4 5 10