प्रेरणा नहीं, पीड़ा बन गई है राजेन्द्र का यह विश्व रिकार्ड

राजनामा.कॉम(मुकेश भारतीय)।  महज जिद और जुनून के बल विश्व रिकार्ड बना चुके आनंदी के राजेन्द्र कुमार साहु का जीवन जितनी गंभीर और प्रेरक है, उससे कहीं अधिक कुछ नया कर गुजरने की कहानी रोचक। बकौल राजेन्द्र, हर तरफ से थक हार मायुस होकर गांव लौटे और पुनः खेती-बारी के काम में […]

Read more

सब कुछ गलतफहमी वश हो गयाः कांके प्रखंड प्रमुख

राजनामा.कॉम के संचालक-संपादक मुकेश भारतीय  की पत्नी के नाम से रांची के नेवरी विकास अवस्थित 5 डिसमिल जमीन को जबरन रास्ता बना डालने के मामले में कांके प्रखंड प्रमुख सुदेश उरांव ने कहा है कि सब कुछ गलतफहमी में हो गया है।  श्री उरांव ने श्री भारतीय से मोबाईल पर कहा कि भविष्य […]

Read more

रिस्क नहीं चुनौती है ‘नो निगेटिव न्यूज’ की पहलः अमरकांत

निगेटिव और पॉजिटिव दो विपरित धाराएं हैं। लेकिन पत्रकारिता में  इसके अपने-अपने मायने हैं। हर सूचना किसी के लिये निगेटिव होती है तो किसी के लिये पॉजिटिव। यह एक सोच है या सच, सदैव एक चिंतन का विषय रहा है। क्योंकि  किसी भी सूचना-समाचार के संकलन, लेखन, संप्रेषण, संपादन और प्रकाशन के बीच भाषा, शैली और तत्थों […]

Read more

भूल कर पुरानी बातें…आईये भरें उड़ान

वर्ष 2014 मेरे लिये काफी चुनौतीपूर्ण और प्रेरणादायक तो था लेकिन एक ठहराव भरा।  व्यक्ति से लेकर व्यवस्था तक, सबकी आंखों में टिमटिमाती उम्मीद की किरणों का ही प्रतिफल है कि  मेरा भी विश्वास बिखरने से बच गया। समय बहुत बलवान होता है। समय के साथ सब कुछ बदल जाता है। अगर […]

Read more

सिर्फ ‘नमो’ से उम्मीद !

वेशक सोशल मीडिया नेटवर्क और वेब जर्नलिज्म ने आम आदमी की वाक्य व अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता को एक नई दिशा प्रदान की है। स्थापित समाचार पत्र-पत्रिकाएं हो या न्यूज चैनलें…..खास लोगों की ही थेथरई पर आ टिकी है। वह आम जन-मानस के विचारों से इतर अधिक मंत्र गढ़ते दिखते हैं। जबकि […]

Read more

सर्च, सीजर और रेड का पावर चाहिये :झारखंड लोकायुक्त

राजनामा.कॉम के संपादक मुकेश भारतीय ने झारखंड के  लोकायुक्त जस्टिस अमरेश्वर सहाय से उनके कार्यालय में कई ज्वलंत मुद्दों पर बात-चीत की। प्रस्तुत है उसके मुख्य अंशः- अगल राज्य बनने के बाद आप झारखंड को आप कहां देखते हैं ? लोकायुक्तः पिछले बारह बर्षों में झारखंड को कम से कम बारह पायदान […]

Read more

झारखंड सूचना जन संपर्क विभाग ने भेजी सूचना

हर कुकर्म के बाद ऐ खुदा, तू बंदों को क्यों पहचानते हो? कुछ ऐसे ही घटनाक्रमों के बाद झारखंड सरकार के सूचना जन संपर्क विभाग ने सूचना अधिकार अधिनियम-2005 के तहत मांगी गई सूचना कुल 24 पृष्ठों में दी है। हालांकि ये सूचनायें विगत 5 जून को स्पीड पोस्ट से भेजी […]

Read more

दैनिक हिन्दुस्तान ने अपनाया बीच का रास्ता

पत्रकारिता में जब सच और झूठ जब आमने-सामने हो तो रांची से प्रकाशित दैनिक हिन्दुस्तान द्वारा बीच का रास्ता अपनाने की कला का कोई सानी नहीं है। अगर हम राजनामा डॉट कॉम के संचालक-संपादक मुकेश भारतीय की  एक षडयंत्र के तहत हुई जबरिया पुलिस गिरफ्तारी के मामले में भी यही देखने […]

Read more

पढ़िये दैनिक जागरण की कल्पित खबर

छोटे मियां तो छोटे मियां, बड़े मियां भी सुभान अल्ला। जी हां, यहां बात हो रही है रांची से प्रकाशित दैनिक जागरण की। राजनामा डॉट कॉम के संचालक-संपादक मुकेश भारतीय की एक षडयंत्र के तहत हुई त्वरित पुलिसिया गिरफ्तारी की झोंक में यह अखबार भी अपना असली चरित्र दिखाने से बाज […]

Read more

सच्चाई कुछ…छापा-दिखाया कुछ

तुझे मान गये भाई। तू है असली झारखंडी मीडिया का एक ऐसा बड़ा वर्ग, जिसके चश्में के गर्द साफ करने की कला राजनामा डॉट कॉम  में नहीं है। तू  कुछ भी छाप-दिखा सकते हो। आखिर वाक्य और अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता तेरी जागीर जो ठहरी। भला तू भाई लोग राजनामा डॉट कॉम […]

Read more
1 2 3 4