420 के फंदे में फंसे दैनिक जागरण के 17 निदेशक-संपादक

Share Button
Read Time:2 Second

mediaमुजफ्फरपुर।  प्रथम श्रेणी के विद्वान न्यायिक दंडाधिकारी दीवांशु श्रीवास्तव ने  परिवाद-पत्र संख्या-2638।2012 में  30 मई,2013 को ऐतिहासिक फैसला दिया और दैनिक जागरण अखबार प्रकाशित करनेवाली कंपनी मेसर्स जागरण प्रकाशन लिमिटेड। सर्वोदय नगर,कानपुर-208005। के 17 निदेशकों और संपादकों के विरूद्ध भारतीय दंड संहिता की धाराएं  420।471 और 476 और प्रेस एण्ड रजिस्ट्र्ेशन आफ बुक्स् एक्ट, 1867 की धाराएं  8।बी0।,14 और  15  के तहत‘प्रथम दृष्टया आरोप‘ सही पाया । न्यायालय ने सभी 17 नामजद अभियुक्तों  को ‘सम्मन‘ जारी करते हुए न्यायालय में उपस्थित होने का आदेश पारित किया । न्यायालय ने  नामजद सभी 17 अभियुक्तों को  निबंधित डाक से ‘सम्मन‘ जारी करने का आदेश कार्यालय लिपिक को दिया ।

 मुंगेर के दैनिक हिन्दुस्तान के 200 करोड़ के सरकरी विज्ञापन फर्जीवाड़ा के बाद विश्व का यह दूसरा सनसनीखेज सरकारी विज्ञापन घोटाला है जिसमें दैनिक जागरण  अखबार के निदेशकों और संपादकों ने करोड़ों रूपए का सरकारी विज्ञापन प्राप्त करने के लिए प्रेस एण्ड रजिस्ट्रेशन आफ बुक्स्  एक्ट, 1867  और भारतीय दंड संहिता के कानूनों को ठेंगा दिखाया और दस्तावेजों में सनसनीखेज जालसाजी कीं ।अभियुक्तों ने मुजफ्फरपुर से बिना निबंधन का दैनिक जागरण का मुजफ्फरपुर संस्करण  लगभग सात वर्षोंतक प्रकाशित किया और केन्द्र और राज्य सरकारों के समक्ष मुजफ्फपुर  संस्करण को निबंधित अखबार के रूप में सरकार के समक्ष प्रस्तुत कर करोड़ों-करोड़ रूपए का सरकारी विज्ञापन प्राप्त कर सरकारी राजस्व की लूट मचाई ।

कौन-कौन  अभियुक्त बने ?

न्यायालय ने मेसर्स जागरण प्रकाशन लिमिटेड।कानपुर। के निदेशक मंडल, संपादकीय बोर्ड और प्र बंधन के जिन अधिकारियों को भारतीय दंड संहिता की धाराएं  420। 471।476 और प्रेस  एण्ड रजिस्ट्र्ेशन आफ बुक्स् एक्ट, 1867  की धाराएं   8।बी0।,14 और 15 के तहत अभियुक्त बनाया हैं,उनमें शामिल हैं:-। 1। महेन्द्र मोहन गुप्ता।  चेयरमैन सह प्रबंध निदेशक और प्रबंध संपादक ,दैनिक जागरण।, ं 2। संजय गुप्ता। सी0ई0ओ0 सह संपादक, दैनिक जागरण,। 3। धीरेन्द्र मोहन गुप्ता । पूर्णकालीक निदेशक,। 4। सुनील गुप्ता । पूर्णकालीक निदेशक सह स्थानीय संपादक,दैनिक जागरण, । 5। शैलेश गुप्ता । पूर्णकालीक निदेशक, । 6। भारतजी अग्रवाल । स्वतंत्र निदेशक।, । 7 । किशोर वियानी । स्वतंत्र निदेशक ,।8। नरेश मोहन । स्वतंत्र निदेशक ,। 9।  आर0 के0 झुनझुनवाला  । स्वतंत्र निदेशक ।, । 10। रशिद मिर्जा । स्वतंत्र निदेशक, । 11। शशिधर नारायण सिन्हा । स्वतंत्र निदेशक ।,  । 12 ।   विजय टंडन  । स्वतंत्र निदेशक ।,  ।13 । विक्रम बख्शी । स्वतंत्र निदेशक ।, ।14।  अमित जयसवाल । कंपनी सचिव ।,  । 15 । आनन्द त्रिपाठी । महाप्रबंधक और मुद्रक, दैनिक जागरण।, । 16 । देवेन्द्र  राय । स्थानीय संपादक ,
दैनिक जागरण, मुजफ्फरपुर ।, और ।17। शैलेन्द्र दीक्षित । स्थानीय संपादक, दैनिक जागरण,पटना ।
दो धाराएं  गैरजमानतीय: 7 साल की सजा का प्रावधान:
भारतीय दंड संहिता की धारा 420 । जालसाजी और धोखाधड़ी से  किसी व्यक्ति को किसी चीज देने के लिए मजबूर करना।  गैर-जमानतीय है । भारतीय दंड संहिता की धारा 476 । जालसाजी से किसी दस्तावेज को ‘प्रामाणिक दस्तावेज‘ का रूप देना ।  भी  ‘गैर-जमानतीय‘ है । दोनों धाराओं में  सात साल तक की सजा  और जुर्माना  का भी प्रावधान  है ।भारतीय दंड संहिता की धारा 471 । जालसाजी और धोखाधड़ी के द्वारा जाली दस्तावेज को सही और वास्तविक दस्तावेज घोषित कर उपयोग करना ।  ‘जमानतीय‘  है ।

………..मुजफ्फरपुर से  काशी प्रसाद की रिपोर्ट

0 0
Happy
Happy
0 %
Sad
Sad
0 %
Excited
Excited
0 %
Sleppy
Sleppy
0 %
Angry
Angry
0 %
Surprise
Surprise
0 %
Share Button

Relate Newss:

वेतन के लिए खबर मंत्र के खिलाफ ब्यूरो हेड-रिपोर्टर का मुकदमा
सुप्रीम कोर्ट ने लगाई जी न्यूज के सुधीर चौधरी को कड़ी फटकार
अचानक मुनाफा कमाने लगे दैनिक हिन्दुस्तान और जागरण
इधर आमरण अनशन पर बैठे पत्रकार की हालत बिगड़ी, उधर राजनीति करने में जुटी पुलिस-संगठन
आइएएनएस के ब्यूरो प्रमुख का गोरखधंधा, बीबी के नाम पर लूट रहा है झारखंड आइपीआरडी
इंडिया न्यूज़ की चित्रा त्रिपाठी को एक साथ मिली दोहरी खुशी
वेशर्मी की चादर के अंदर से झांकती संवेदनाएं
न्यूज़ रूम में अब पीएमओ से फोन पर निर्देश आते हैं : पुण्य प्रसून वाजपेयी
जी न्यूज और न्यूज नेशन के खिलाफ हाईकोर्ट पहुंचे धोनी
टीवी एंकर तनु शर्मा मामले पर चुप क्यों है भारतीय मीडिया
युवा समाजसेवी पत्रकार अमित टोपनो की हत्या के विरोध में निकला कैंडल मार्च
अंततः सरायकेला पुलिस ने पत्रकार वीरेंद्र मंडल को जेल में डाल ही दिया !
जेल में ऐश कर रहे महापापी ब्रजेश ठाकुर की बड़ी ‘मछली’ है ‘रेड लाइट एरिया’ की उपज मधु
सेंसरशिप सिर्फ बिहार में ही नहीं हैं काटजू साहब
‘मुजफ्फरपुर महापाप’ का मछली नहीं, मगरमच्छ है इंसासधारी संजय सिंह उर्फ झूलन
समस्तीपुर में चिमनी मालिक पत्रकार की गोलियों से भून डाला
बाड़मेर एसपी के वाट्सऐप मैसेज खोल देगी ‘दुर्ग साजिश’ का ‘सच’
'बदलते समय में मीडिया की भूमिका' पर पत्रकारों की कार्यशाला
सुदर्शन चैनल के मालिक की केबिन में लगा है खुफिया बेडरूम
पत्रकारिता की आड़ में राष्ट्रव्यापी दलाली का नमुना
प्रेस क्लब रांची की नई कमिटी की बैठक में पेंडिंग आवेदनों पर नहीं हुई कोई चर्चा
वर्ष 2006 में ही पकड़ाया था हिन्दुस्तान विज्ञापन घोटाला
कानू सान्याल की तस्वीर से मचा हड़कंप
मीडिया पर अमित शाह का दिखा खौफ, यूं हटा लिया खबर
समाचार प्लस चैनल के Ceo_Cheif Editor ने प्रेस कांफ्रेस कर सत्ता को दी यूं खुली चुनौती

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Loading...
mgid.com, 259359, DIRECT, d4c29acad76ce94f
Close
error: Content is protected ! www.raznama.com: मीडिया पर नज़र, सबकी खबर।