3 दिन से लापता दैनिक जागरण रिपोर्टर की लाश मिली, हत्या की आशंका

Share Button

हजारीबाग (संवादादाता)। पिछले तीन दिन से लापता दैनिक जागरण के हजारीबाग संवाददाता हरिप्रकाश मौर्य की लाश रेलवे ओवर ब्रिज के पास लावारिस हालत में मिली है। यह घटना सदर थाना क्षेत्र की है।

अभी तक यह स्पष्ट नहीं हो पाया है कि मौर्य ने आत्महत्या की है या फिर उनकी हत्या कहीं अन्यत्र कर उनके शव को रेलवे ओवर ब्रिज के पास लाकर फेंकी गई है। लेकिन जिस तरह से लाश वरामद हुई है, उसे देख कर साफ प्रतीत होता है कि मौर्य की हत्या की गई है और उसे हत्यारों ने आत्म हत्या की शक्ल देने का हरसंभव प्रयास किया है।

प्रत्यक्षदर्शियों के अनुसार मौर्य के शव के पास घातक सल्फास जहर भी रखा मिला है। लोगों को कहीं और जहर खिला मार कर और रेलवे ओवर ब्रिज के पास उसके शव को फेंकने का शक है।

मौर्य के हत्या के मामले के पिछे एक महिला वजह बताई जा रही है। मौर्या ने अंतर्जातीय तलाक शुदा महिला से शादी की थी और उसका विरोध हो रहा था। पुलिस को आत्महत्या का शक है तो मृतक के पिता का आरोप कि उनके पुत्र की ह्त्या कहीं अन्यत्र कर लाश को रेलवे ओवर ब्रिज के पास फेंकी गई है। उनका आरोप है कि आत्महत्या की शक्ल देने के लिये सारे हथकंडे अपनाये गये हैं। पुलिस उसी को मान कर चल रही है। लेकिन मौर्या के मुंह और शरीर पर चोट के गंभीर निशान कुछ और वयां कर रही है।  

हालांकि पुलिस द्वारा मौर्या के आत्महत्या करार देने का पत्रकारों ने कडा विरोध किया तो मामले को लेकर एक मेडिकल बोर्ड का गठन किया गया है। इस मेडिकल बोर्ड में डॉ ओपी रवानी, डॉ सीपी चौधरी और  डॉ तापस सरकर शामिल हैं।

Share Button

Relate Newss:

बच्चों की जिंदगी से खिलवाड़ करता एनजीओ, मीड डे मील में मिला मेढक, छात्रों ने किया हंगामा
बिगबी फैमिली को डेढ़ लाख रुपये पेंशन देगी अखिलेश सरकार
नेपाल में 'गो इंडियन मीडिया गो' की मुहिम
सुदेश महतो ने कैसे हासिल की NOU से एमए की डिग्री ?
न्यूज़ पोर्टल की आड़ में चल रहा था देह व्यापार का धंधा, पुलिस ने 3 जोड़ी को दबोचा
टीवी जर्नलिस्ट अनूप सोनू ने यूं निभाया मानवता का धर्म
10 जनवरी 2017 तक बिहार में अधिकारियों के तबादले रोक
मिड डे के वरिष्ठ पत्रकार की हत्या की सीबीआई जांच शुरू
रांची रेड क्रॉस बैंक में बेरोक-टोक 10 वर्षों से जारी है यह काला कारोबार
वेशर्मी की चादर के अंदर से झांकती संवेदनाएं
वाह री नालंदा पुलिस ! साजिशन हमले के शिकार पत्रकार को ही बना डाला मुख्य आरोपी
राजद विधायक का मुर्गी पर तोप, नालंदा के 2 रिपोर्टर को कोर्ट में घसीटा
मोदी-चीन डील में अडानी और भारती समूह की बल्ले-बल्ले
चुनाव से पहले अब झारखण्ड में दंगा !
कितना जरूरी है सोशल मीडिया पर अंकुश

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Loading...
loading...