10 जनवरी 2017 तक बिहार में अधिकारियों के तबादले रोक

Share Button
Read Time:1 Minute, 12 Second

पटना।  राज्य चुनाव आयोग के निर्देश पर अगले साल यानि 10 जनवरी 2017 तक बिहार में अधिकारियों के तबादले रोक लगा दी गई है। यह रोक राज्य में मतदाता सूची पुनरीक्षण को लेकर की जा रही कवायद के मद्देनजर की गई है।

राज्य चुनाव आयोग के निर्देश के कारण अब उन अधिकारियों का भी तबादला नहीं होगा जो एक जगह पदस्थापन के लिए निर्धारित तीन साल की सेवा अवधि पूरी कर चुके हैं।

जिन पदाधिकारियों के तबादलों पर रोक लगी है उनमें प्रमंडलीय आयुक्त, जिलाधिकारी, अनुमंडलाधिकारी (एसडीओ) और प्रखंड विकास पदाधिकारी (बीडीओ) शामिल होंगे।

मतदाता सूची का पुनरीक्षण चुनाव आयोग के लिहाज से काफी महत्वपूर्ण काम है जिसे लेकर चुनाव आयोग ने यह आदेश जारी किया है। यह आदेश तत्काल प्रभावी हो गया है।

0 0
Happy
Happy
0 %
Sad
Sad
0 %
Excited
Excited
0 %
Sleppy
Sleppy
0 %
Angry
Angry
0 %
Surprise
Surprise
0 %
Share Button

Relate Newss:

पीएम मोदी के सामने डरते-कांपते पंजाब केसरी के मालिक!
सरकारी पैसे से राजनेताओं की मार्केटिंग पर सुप्रीम कोर्ट की रोक
डिजीटल ‘वायर' में फंसे भाजपा के 'शाह'
पुलिस-प्रशासन ने दी केस की धमकी, फिर भी चालू न हो सका राजगीर का रज्जू मार्ग
रैली को विफल करने की हुई बर्बर कोशिश :मरांडी
झारखंड में एसएआर कोर्ट खत्म करने की तैयारी
न्यूज़ 18 संवाददाता पर जानलेवा हमला, डीएम से मिले पत्रकार
केन्द्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा- jnu मामले को लश्कर आतंकी हाफिज सईद का समर्थन
बिहार डीजीपी से सीधी बात के बाद पीड़ित पत्रकार ने यूं तोड़ा आमरण अनशन
साथी पत्रकारों की मदद आ रही काम, उपेंद्रनाथ मालाकार के स्वास्थ्य में सुधार
दैनिक हिन्दुस्तान विज्ञापन घोटाला केस में शोभना भरतिया पर सवा लाख रूपया हर्जाना
डीजीपी ने सभी एसपी को मीडियाकर्मियों की सुरक्षा-सहयोग करने का दिया लिखित निर्देश
चर्चित IPS अमिताभ ठाकुर की संपत्ति की होगी जांच !
कोल्हानः एक्सपर्ट मीडिया न्यूज-राज़नामा डॉट कॉम के पाठकों की संख्या में भारी बढ़ोतरी
रंगदारी मामले में बंद न्यूज़ पोर्टल का संपादक समेत तीन धराये
भू अधिग्रहण कानून बदलना चाहती है भाजपाः सोनिया गांधी
मीडिया के चतुर सयानों की सूचना को अब राज़नामा नहीं लेगी संज्ञान
सीबीआई की रेड में अय्याशी का अड्डा निकला ‘प्रातः कमल’ अखबार का पटना दफ्तर
पाटलिपुत्रः भाजपा के लिये मुसाबत बने लालू के 'हनुमान'
मोदी की नीतियों के आलोचक छात्र समूह APSC पर IIT का बैन !
सोशल मीडिया में कही जाने वाली ये आपत्तिजनक बातें है अपराध
मैं न होता तो बिपीन मिश्रा रात में ही टपक जाताः श्वेताभ सुमन
रांची प्रेस क्लब इलेक्शन वनाम हरिशंकर परसाई की ‘भेड़ें और भेड़ियें ’
आलोक श्रीवास्तव को ‘राष्ट्रीय दुष्यंत कुमार अलंकरण’ सम्मान
राजनीति वनाम मोदी जी का गुजरात मॉडल

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Loading...