हार्ट अटैक से नहीं हुई भास्कर समूह संपादक कल्पेश की मौत, पुलिस मान रही है सुसाइड

Share Button
Read Time:2 Minute, 36 Second

इंदौर स्थित भास्कर मीडिया संस्थान की इमारत की छत पर वरिष्ठ पत्रकार के जूतों के निशान भी मिले हैं। अपराध विज्ञान प्रयोगशाला से सबूतों की जांच करायी जा रही है”

राजनामा.कॉम। देश के जाने माने अखबार दैनिक भास्कर के समूह संपादक कल्पेश याग्निक की मौत के मामले में पुलिस ने आत्महत्या के संदेह में जांच शुरू की है।

यह कदम 55 वर्षीय पत्रकार के शव की पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट के आधार पर उठाया गया है जिसमें खुलासा हुआ है कि उनकी कई हड्डियां टूटी हुई थीं।

पुलिस उप महानिरीक्षक हरिनारायणचारी मिश्रा ने आज बताया कि पहले यह बात सामने आयी थी कि याग्निक (55) की मौत दिल के दौरे के कारण हुई लेकिन शासकीय महाराजा यशवंतराव चिकित्सालय से उनके शव की पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट मिलने के बाद आत्महत्या के कोण से मामले की जांच शुरू की गयी है।

उन्होंने बताया, “पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट से पता चलता है कि याग्निक की कई हड्डियां टूटी हुई थीं।”

अधिकारी ने बताया कि पुलिस को शुरूआती जांच के बाद संदेह है कि याग्निक ने शहर के एबी रोड स्थित दैनिक भास्कर की तीन मंजिला इमारत की छत से छलांग लगाकर आत्महत्या की।

मिश्रा ने यह भी बताया कि याग्निक की मौत के मामले में पुलिस के दल ने मौके पर पहुंचकर कुछ सबूत जुटाये हैं। उन्होंने कहा कि पुलिस को फिलहाल मौके से कोई सुसाइड नोट नहीं मिला है। मामले में विस्तृत जांच जारी है।

याग्निक को 12 जुलाई की रात 10:30 बजे के आस-पास उनके अखबार के दफ्तर से विजय नगर क्षेत्र के एक निजी अस्पताल ले जाया गया था।

तमाम कोशिशों के बाद डॉक्टर उनकी जान नहीं बचा सके थे। उन्हें तकरीबन रात दो बजे मृत घोषित किया गया था।

0 0
Happy
Happy
0 %
Sad
Sad
0 %
Excited
Excited
0 %
Sleppy
Sleppy
0 %
Angry
Angry
0 %
Surprise
Surprise
0 %
Share Button

Relate Newss:

गणेश शंकर विधार्थी : हिंदी पत्रकारिता के मेरूदंड
भगवान बिरसा जैविक उद्दान में लूट और मनमानी का आलम
बचिये ऐसे विज्ञापनों से, हमें मूर्ख बना रहे हैं ये
हसीन वादियों का लुफ्त उठाते बिहार के CM और उनके पिछे भागती-गिरती मीडिया
‘हम भारत के लोग’ और नेताओं के बीच यह अंतर क्यों ?
मना करने पर आठ फीट उंचे गेट यूं फांद अंदर घुसी रांची एसडीओ की पत्नी !
रांची मीडिया कप में दिखी दैनिक भास्कर टीम की दबंगई
आदिवासियों को आदिवासी ही रहने दें रघुवर जी
वरिष्ठ पत्रकार डॉ. वैदिक ने पीएम मोदी को दी हार की बधाई
कल्याणपुर में जदयू को मिली भांपने वाली जीत
राहुल गांधी ने टटोली झारखंड में राजनीति की नब्ज
कायर-अपराधी भी सुसाइड बाद अखबार के विज्ञापन में बन गया आदर्श !  
रिटायर्ड फौजी को ब्लैकमेल करने के आरोप में टाइम्स नाऊ और सहारा समय का स्ट्रिंगर धराया, एएनआई का स्ट्...
RBI के गवर्नर की PC से इकोनॉमिस्ट और बीबीसी के पत्रकार को निकाला
काली कमाई के बल चल रहा है दैनिक सन्मार्ग
एण्ड्रॉयड/स्मार्ट फोन या ‘बेगिंग बाउल’ 
सीबीआई और दिल्ली पुलिस ने छोटा राजन को लेकर बनाया मीडिया वालों को बेवकूफ
दिमाग कंपा जाती है पत्रकार संदीप कोठारी का शव !
‘मुजफ्फरपुर महापाप’ का मछली नहीं, मगरमच्छ है इंसासधारी संजय सिंह उर्फ झूलन
मिड डे के वरिष्ठ पत्रकार की हत्या की सीबीआई जांच शुरू
इंटर काउंसिल छात्रों का हंगामा, पुलिस ने चटकाई लाठियां
भ्रष्टाचार की भेंट चढ़ रहा है महाराणा प्रताप की वीरभूमि!
सर्च, सीजर और रेड का पावर चाहिये :झारखंड लोकायुक्त
गरीब बिहार की अमीर सरकारः 5 वर्ष में मीडिया पर लुटाए 500 करोड़ !
मीडिया पर बड़ा हमलाः आधार कार्ड लीक न्यूज ब्रेकर रचना खैरा पर एफआईआर

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Loading...