हरिबंश को मिली चाटुकारिता का ईनाम

Share Button
Read Time:2 Minute, 16 Second

बिहार-झारखंड के कई वरिष्ठ पत्रकार भी राज्यसभा के दावेदार> नीतीश कुमार को पेश की अपनी चाटुकारिता की लिखित मिशाल

harivanshबिहार से राज्यसभा के तीन वर्तमान सांसदो का टिकट कटने के बाद बिहार में शुरु हुई राजनैतिक सरगर्मी के बीच कई वरिष्ठ पत्रकार और अखबारों के संपादक भी राज्यसभा के वातानुकुलित हॉल में जाने को बेसब्र दिख रहे हैं।

इस होड़ में सबसे आगे हैं खुद को बिहार में ‘बिहार जागे-देश आगे’ का स्लोगन देने वाले बिहार और झारखंड से प्रकाशित एक हिन्दी अखबार के वैसे प्रधान संपादक जिन्होंने नीतीश कुमार की प्रशंसा में लगातार अपने अखबार में उनके कसीदे गढ़ने का एक नया कीर्तिमान बनाया है।

महाराजगंज से पार्टी की करारी हार और एक खास जाति की जदयू से बन रही दूरी के बाद हो सकता है कि नीतीश कुमार राज्यसभा के लिए इसी जाति से आने वाले संपादक महोदय कों अपना उम्मीदवार घोषित कर दें ताकि यह जाति खुश हो जाए।

 बताते हैं कि यूँ तो कई वरिष्ठ पत्रकार जो नीतीश कुमार की प्रशंसा में खबरे लिखते रहें है ने भी अपना बॉयोडाटा मुख्यमंत्री को सौंपा है जिसमें बिहार सहित दिल्ली के भी कई पत्रकार हैं पर मुख्यमंत्री ने प्रेस और एक खास जाति को अनुग्रहित करने की दिशा में फैसला लेते हुए ‘बिहार जागे-देश आगे’ वाले अखबार के प्रधान संपादक को राज्य सभा का टिकट देने का लगभग फैसला कर लिया है। अब देखना है कि आगे-आगे होता क्या। 

….. पत्रकार विनायक विजेता अपने फेसबुक वाल से

 

0 0
Happy
Happy
0 %
Sad
Sad
0 %
Excited
Excited
0 %
Sleppy
Sleppy
0 %
Angry
Angry
0 %
Surprise
Surprise
0 %
Share Button

Relate Newss:

एक टीम, दो प्रकाशन, तीन अखबार
मैक्सिको में 43,200 बार रेप की शिकार युवती ने सुनाई दिल दहला देने वाली आपबीती
अलविदा! बीबीसी हिन्दी रेडियो सर्विस, लेकिन तेरी वो पत्रकारिता....✍
दैनिक भास्कर ने उठाया ‘नो निगेटिव टास्क' का रिस्क !
नहीं रहे दैनिक भास्कर के ग्रुप एडिटर कल्पेश याग्निक, हार्ट अटैक से मौत
सिल्ली MLA अमित महतो के इस 'बुजुर्ग मां' जज्बे को सलाम
आलोचनाओं से घिरीं आज तक की अंजना ओम कश्यप ने यूं दिया जवाब
200 सीटें जीतने का दावे के साथ बेफिक्र है महागठबंधन
पटना एसएसपी को हटाने के लिये कांग्रेसी नेता बना रहे हैं दवाब
जद(यू) से बिहार के मंत्री और झारखंड के अध्यक्ष का इस्तीफा
राजस्थान पत्रिका समूह के सलाहकार संपादक बने ओम थानवी
पूँजीवादी विज्ञापन जगत का सन्देश: खरीदो और खुश रहो!
एक राष्ट्रीय खबर, जो बिहार के सीतामढ़ी के गांवो में खो कर रह गई !
नालंदा पत्रकार संघ के बैनर तले हिलसा अनुमंडल पत्रकार संघ का गठन
राजनीतिक अतिवादियों से बच के रहें
महाशपथ के साथ ही राष्ट्रीय फलक पर नीतीश की भूमिका अहम
पत्रकारों के बिकने की कहानीः संतोष भारतीय की जुबानी
मुखिया की गुंडई पर पुलिस की कार्यशैली को लेकर पत्रकारों में उबाल
आखिर चाहता क्या है सुप्रीम कोर्ट ?
इलेक्शन के दौरान मीडिया पर हमले को लेकर BPMU ने चुनाव आयोग सौंपा ज्ञापन
NJA ने पत्रकार सुरक्षा सहित 20 सूत्री मांगों को लेकर बिहार DGP  को ज्ञापन सौंपा
मानव तस्करी की मंडी में सुबकते मासूम
सरकार की मजबूरियों को नहीं ढोएगा हिन्दू समाजः भागवत
बिहार में केंद्रीय विश्वविद्यालय की नियुक्तियों पर उठते सवाल
बिना IT Act ज्ञान के पत्रकार के खिलाफ धुर्वा थाना प्रभारी की चल रही यूं अनुसंधान !

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Loading...