हरिबंश को मिली चाटुकारिता का ईनाम

Share Button

बिहार-झारखंड के कई वरिष्ठ पत्रकार भी राज्यसभा के दावेदार> नीतीश कुमार को पेश की अपनी चाटुकारिता की लिखित मिशाल

harivanshबिहार से राज्यसभा के तीन वर्तमान सांसदो का टिकट कटने के बाद बिहार में शुरु हुई राजनैतिक सरगर्मी के बीच कई वरिष्ठ पत्रकार और अखबारों के संपादक भी राज्यसभा के वातानुकुलित हॉल में जाने को बेसब्र दिख रहे हैं।

इस होड़ में सबसे आगे हैं खुद को बिहार में ‘बिहार जागे-देश आगे’ का स्लोगन देने वाले बिहार और झारखंड से प्रकाशित एक हिन्दी अखबार के वैसे प्रधान संपादक जिन्होंने नीतीश कुमार की प्रशंसा में लगातार अपने अखबार में उनके कसीदे गढ़ने का एक नया कीर्तिमान बनाया है।

महाराजगंज से पार्टी की करारी हार और एक खास जाति की जदयू से बन रही दूरी के बाद हो सकता है कि नीतीश कुमार राज्यसभा के लिए इसी जाति से आने वाले संपादक महोदय कों अपना उम्मीदवार घोषित कर दें ताकि यह जाति खुश हो जाए।

 बताते हैं कि यूँ तो कई वरिष्ठ पत्रकार जो नीतीश कुमार की प्रशंसा में खबरे लिखते रहें है ने भी अपना बॉयोडाटा मुख्यमंत्री को सौंपा है जिसमें बिहार सहित दिल्ली के भी कई पत्रकार हैं पर मुख्यमंत्री ने प्रेस और एक खास जाति को अनुग्रहित करने की दिशा में फैसला लेते हुए ‘बिहार जागे-देश आगे’ वाले अखबार के प्रधान संपादक को राज्य सभा का टिकट देने का लगभग फैसला कर लिया है। अब देखना है कि आगे-आगे होता क्या। 

….. पत्रकार विनायक विजेता अपने फेसबुक वाल से

 

Share Button

Relate Newss:

टीएमएच में मौत से जूझ रहा है टीवी रिपोर्टर बिपीन मिश्रा
भाजपा ने सोशल मीडिया को 'एंटी-सोशल' बनायाः नीतिश
चुनाव आयोग की रडार पर आए राहुल , लालू और अमित
जरुरी है PCI की वित्‍तीय एवं वैधानिक शक्तियों में बढ़ोतरी :न्‍यायमूर्ति सीके प्रसाद
ऐसे मनबढ़ू अभद्र महिला इंस्पेक्टरों ने एक निरीह पत्रकार को सरेआम घेरकर बेइज्जत किया
अप्रसांगिक कानून विधेयक लोक सभा में पेश
इन अफसरों की भ्रष्ट धूर्तता पर यूं झुंझलाए JMM MLA अमित महतो
खरसांवा में सीएम रघुबर दास पर आदिवासियों का बड़ा विरोध, फेंके जूत्ते-चप्पल
6 जुलाई खत्म, राजगीर मलमास मेला सैरात की अतिक्रमण भूमि पर चलेगा बुल्डोजर
बिहार-झारखंड, यहां जदयू-भाजपा सरकार की आत्मा जिंदा कहां है ?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Loading...