हम युवा पीढ़ी के बेहतर भविष्य के लिए मांग रहे हैं विशेष राज्य का दर्जा

Share Button

हम विकास के एजेंडे पर ही चुनाव में उतरे हैं। हमने जो वायदे पहले के चुनावों में बिहार की जनता से किए, उन्हें पूरा किया। सुशासन के अपने एजेंडे पर खरे उतरे। कई क्षेत्रों में आगे बढ़कर काम किया। हमने सड़क, बिजली, शिक्षा, स्वास्थ्य, मानव विकास, महिला सशक्तीकरण, कृषि समेत आधारभूत संरचना के विकास के मोर्चे पर खूब काम किया है।

nitishहमारी सबसे बड़ी उपलब्धि कानून का राज कायम करना है। बिहार में अपराधियों का खौफ नहीं है। बिहार में अभी बहुत काम करने की जरूरत है। इसलिए यहां ऐसी ही सरकार चाहिए, जो काम करने में यकीन करती है। हमारा ट्रैक रिकार्ड काम करने का है।

विकास के हमारे मॉडल को देश- दुनिया में सराहा गया। हमने कई ऐसे सफल प्रयोग किए, जिसे बाद में दूसरे राज्यों और केन्द्र सरकार ने भी अपनाया। पंचायतों और नगर निकायों में सबसे पहले हमने महिलाओं को 50 फीसदी आरक्षण दिया।

बच्चियों को स्कूल जाने के लिए साइकिल देने की हमारी योजना सुपरहिट रही। इसे कई राज्यों ने बाद में शुरू किया। सरकारी नौकरियों में महिलाओं को 35 फीसदी आरक्षण देने का निश्चय किया है।

हम बच्चों को भी साइकिल दे रहे हैं। एक करोड़ युवाओं को स्किल ट्रेनिंग देने का लक्ष्य भी सबसे पहले हमने तय किया। हमारे कृषि रोड मैप को सराहा गया।

विकास की बात करना और विकास करना दो अलग-अलग चीजें हैं। वे (नरेन्द्र मोदी) सिर्फ वायदे करना जानते हैं। लोकसभा चुनाव के दौरान कितने सब्जबाग दिखाए, लोग उनके झांसे में आ गए। लेकिन अब उन वायदों का जिक्र तक नहीं करते, लेकिन रोज नए वायदे कर रहे हैं। बिहार में चुनाव प्रचार करने आते हैं, वोट मांगने आते हैं और बिहार को ही नीचा दिखाने का प्रयास कर रहे हैं।

हम अपनी युवा पीढ़ी के बेहतर भविष्य के लिए विशेष राज्य का दर्जा मांग रहे हैं। अपने बच्चों के लिए बुनियादी से उच्चतर स्तर तक पढ़ाई के बेहतर अवसर पैदा करने में लगे हुए हैं।

विशेष दर्जा मिलने पर तेजी से उद्योग लगेंगे और युवा पीढ़ी को राजेगार मिलेगा। युवा पीढ़ी और गांवों की बेहतरी के लिए मैंने सात निश्चय किए हैं। वे तो (केन्द्र) रोजगार के अवसर खत्म करने में लगे हुए हैं।

Share Button

Relate Newss:

साथी पत्रकारों की मदद आ रही काम, उपेंद्रनाथ मालाकार के स्वास्थ्य में सुधार
घोटाला में फंसाने वाले नीतीश-मोदी जल्द जाएंगे जेलः तेजस्वी
पत्रकार की पिटाई करने वाले पूर्व विधायक के खिलाफ जांच करायेगी भाजपा
कोर्ट के सामने बीच सड़क पर पुलिस ने कैदी को जमकर पीटा
कानपुर में पत्रकारों का सपा-भाजपा के खिलाफ हल्ला बोल
आइएएनएस के ब्यूरो प्रमुख का गोरखधंधा, बीबी के नाम पर लूट रहा है झारखंड आइपीआरडी
‘सत्य पर असत्य की विजय’ मामले में दैनिक भास्कर ने अग्रलेख छाप मांगी माफी
ढाई साल में ‘मेड इन मोदी’ पर ही फूंक डाले 1100 करोड़ रुपये
अर्थव्यवस्था में नकदी भ्रष्टाचार और कालेधन का बड़ा स्रोत : पीएम मोदी
महंगी पड़ेगी पीएम के यार से रंगदारी
रघु’राज में झारखंडी मीडिया को धिक्कार, कोई नहीं समझता बिटियों की पीड़ा
मैं शहीद पापा बेटी हूं, पर आपके शहीद की बेटी नहीं : गुरमेहर
प्रेस क्लब की सदस्यता में धांधली के बीच विजय पाठक को लेकर उभरे तत्थ
जरा देखिये, ब्रांडिंग के नाम पर क्या कर रही है रघुवर सरकार
एडिटर्स गिल्ड ऑफ इंडिया ने हाई कोर्ट के ऐसे आदेश पर जताई चिंता

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Loading...
loading...