हमारे पास चुनने के लिए क्या है विकल्प ?

Share Button

election2 राजनामा.कॉम। 16वें लोकसभा चुनाव सिर पर हैं। हमें फिर चुनने के लिए कहा जा रहा है। लेकिन चुनने के लिये क्या है? झूठे आश्वासनों और गाली-गलौच की गन्दी धूल के नीचे असली मुद्दे दब चुके हैं। दुनिया के सबसे अधिक कुपोषितों, अशिक्षितों व बेरोज़गारों के देश भारत के 66 साल के इतिहास में सबसे महँगे और दुनिया के दूसरे सबसे महँगे चुनाव (30 हज़ार करोड़) में कुपोषण, बेरोज़गारी या भुखमरी मुद्दा नहीं है!

बल्कि “भारत निर्माण” और देश के “विकास” के लिए चुनाव करने की दुहाई दी जा रही है! विश्व पूँजीवादी व्यवस्था गहराते आर्थिक संकट तले कराह रही है और इसका असर भारत के टाटा, बिड़ला, अम्बानी-सरीखे पूँजीपतियों पर भी दिख रहा है।

ऐसे में, भारत का पूँजीपति वर्ग भी चुनाव में अपनी सेवा करने वाली चुनावबाज़ पार्टियों के बीच चुन रहा है। पूँजीवादी जनतंत्र वास्तव में एक धनतंत्र होता है, यह शायद ही इससे पहले किसी चुनाव इतने नंगे रूप में दिखा हो।

सड़कों पर पोस्टरों, गली-नुक्कड़ों में नाम चमकाने वाले पर्चों और तमाम शोर-शराबे के साथ जमकर दलबदली, घूसखोरी, मीडिया की ख़रीदारी इस बार के चुनाव में सारे रिकार्ड तोड़ रही है।

जहाँ भाजपा-कांग्रेस व तमाम क्षेत्रीय दल सिनेमा के भाँड-भड़क्कों से लेकर हत्यारों-बलात्कारियों-तस्करों-डकैतों के सत्कार समारोह आयोजित करा रहे हैं, तो वहीं आम आदमी पार्टी के एनजीओ-बाज़ “नयी आज़ादी”, “पूर्ण स्वराज” जैसे भ्रामक नारों की आड़ में पूँजीपतियों की चोर-दरवाज़े से सेवा करने की तैयारी कर रही है।

भाकपा, माकपा, भाकपा(माले) जैसे संसदीय वामपंथी तोते हमेशा की तरह ‘लाल’ मिर्च खाकर संसदीय विरोध की नौटंकी के नये राउण्ड की तैयारी कर रहे हैं।

उदित राज व रामदास आठवले जैसे स्वयंभू दलित मसीहा सर्वाधिक सवर्णवादी पार्टी भाजपा की गोद में बैठ कर मेहनतकश दलितों के साथ ग़द्दारी कर रहे हैं। ऐसे में प्रश्न यह खड़ा होता है कि हमारे पास चुनने के लिए विकल्प क्या है? 

Share Button

Relate Newss:

यह रही मोदी सरकार की वेबसाइट विज्ञापन नीति
इसलिये उठ रहे हैं सिमी आतंकियों के एनकाउंटर पर सवाल
'चाय से चिकन' के बीच यूं दो फाड़ हुआ हिलसा अनुमंडल पत्रकार संघ
प्रतिमा विसर्जन के दौरान बवाल,एसडीओ-एसडीपीओ की गाड़ी फूंके
रांची प्रेस क्लब चुनावः क्या आप ऐसे लोगो को वोट देंगे? जो.....
शिव सेना का पोस्टर अटैक, मोदी को बताया ढोंगी
एक्जिट पोल न्यूज 24 के संपादक अजीत अंजुम ने फेसबुक पर लिखा  “चाणक्य अंडरग्राउंड ”
महिला कांस्टेबल(IO) ने की गलती, सच से उठा पर्दा, AUDIO वायरल, अब क्या रचेगा 'केसरी गैंग'
JAJ का 'सनकी' प्रदेश अध्यक्ष फिर सुर्खियों में, जमशेदपुर जिलाध्यक्ष ने चटाई धूल
इस चुनाव से गायब हैं खेत-खलिहान के मुद्दे
ताला मरांडी के बेटे की शादी पर उठा राजनीतिक भूचाल
शर्मनाकः नालंदा में रिपोर्टरों के पैसे लेते वीडियो वायरल, बौखलाए दलालों ने रजनीश को पीटा
हमारे पत्रकार संगठन का हर विवाद अंदरुनी मामलाः IFWJ अध्यक्ष
पीटीआई और भाषा में हर साल करोड़ों का घपला !
राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने की मीडिया की जमकर प्रशंसा

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Loading...
loading...