हमारे पत्रकार संगठन का हर विवाद अंदरुनी मामलाः IFWJ अध्यक्ष

रांची (मुकेश भारतीय)। इंडियन फेडरेशन ऑफ वर्किंग जर्नलिस्ट (IFWJ) के राष्ट्रीय अध्यक्ष वी. विक्रम राव ने कहा है कि  IFWJ के साथ झारखंड जर्नलिस्ट एसोसिशन (JJA) का जुड़ाव उसी तरह है, जिस तरह जिस तरह से झारखंड भारत से जुड़ा है। संगठन के बारे में वही सबाल कर सकता है, जो संगठन से जुड़ा है और हर विवाद संगठन का अंदरुनी मामला है।

जब उनसे पुछा गया कि JJA  से जुड़े अनेक पत्रकार सदस्यों की शिकायत है कि संगठन पर हावी व्यक्तिवादी लोग किसी का नहीं सुनते। वे सोशल मीडिया के तहत ही पद देते हैं और जब चाहें छीन लेते हैं। समस्या-शिकायत पर कभी कोई बैठक कर समाधान नहीं किया जाता है। यहां की कमिटी-कार्यकारिणी सब ताक पर रखे कायदे कानून से चल रहे हैं। संगठन के किसी वायलॉज से उन्हें अवगत नहीं कराया गया। सदस्यों के चंदे के पैसे डकारे जा रहें हैं। इससे जुड़े निचे स्तर के पत्रकारों का दोहन-शोषण किया जाता है। हजारीबाग, धनबाद में संगठन के जो कार्यक्रम हुये, उसमें लाखों खर्च हुये। हजारों बकाये की मार सदस्य झेल रहे हैं। संगठन पर हावी व्यक्तिवाद से वरिष्ठ पत्रकार सदस्य भी अपमानित होकर किनारा पकड़ रहे हैं।

इस सबाल पर उन्होने उल्टे सबाल कर दिया कि क्या आप संगठन के सदस्य हैं? अगर नहीं तो यह संगठन का अंदरुनी मामला है और जो हमारे सदस्य हैं, सिर्फ वे ही शिकायत कर सकते हैं। दिल्ली में, जहां संगठन का मुख्यालय है।

जब उन्हें बताया गया कि जो भी सूचनागत उनसे सबाल पूछे जा रहे हैं, वे सोशल मीडिया में लंबे अरसे से वायरल हो रही है। कुछ खबरें भी आ चुकी है। इस पर उन्होनें कहा कि इसकी सूचना उन्हें नहीं है। उन्हें जैसे ही मिलेगी, वे इस संदर्भ में कार्रवाई करेगें।

जब उनसे पूछा गया कि कई वरिष्ठ पत्रकारों की सूचनायें है कि उन्हें व्हाट्सअप ग्रुप के जरिये संगठन से उन्हें जोड़ा गया और उन्हें पद भी दिया गया तथा उन्हें ग्रुप के रिमूव कर ही हटा दिया गया। इस पर  उन्होंने कहा कि ऐसे सदस्य संगठन के वेबसाइट पर दिये गये मेरे ईमेलः ifwj.media@gmail.com  पर सूचना भेजें।

Share Button
Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

You may also like...

Affiliate Marketing

One comment

  1. सहनवाज जैसे सख्स को हम लोगो को स्पोर्ट करना जिंदगी की सबसे बड़ी भूल थी ।राष्ट्रीय अध्यक्ष महोदय यह शख्स बहुत गन्दा है इसे बदले और jja को बचा ले आपसे विनती है।jja पूरी तरह से इसके मोबाइल से चलता है न मीटिंग न सुचना सीधे फैसला रिमूव

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *