सेना कैंटीन का स्वलाभ लेते यूं कैद हुये ईटीवी (न्यूज 18) के एक वरिष्ठ पत्रकार

Share Button

रांची (संवाददाता)। वरिष्ठ पत्रकार कृष्ण बिहारी मिश्र का अपना अलग ही तेवर है। सोशल साइट फेसबुक पर उनका हर एक पोस्ट धमाका होता है। उन्होंने आज अपने फेसबुक वाल पर ईटीवी (न्यूज 18) के एक वरिष्ठ पत्रकार मनोज की थू-थू कर डाली है।

उन्होंने लिखा है…….

“ये है ईटीवी (न्यूज 18) के वरिष्ठ पत्रकार। नीचे कुछ इनकी तस्वीर दी गयी है, जो आज ही की है, ये देखिये क्या कर रहे है?

ये सेना व अर्द्धसैनिक बलों के कार्मिकों के लिए बने कैंटीन का स्वहित में लाभ उठा रहे है, जबकि इनका सेना व अर्द्धसैनिक बलों से दूर – दूर तक का रिश्ता नहीं है।

 चूकि ये मीडिया में है, इनके हाथ में बूम होता है और सामने कैमरा तो इन्हें हर प्रकार का अवैध कार्य करने का लाइसेंस मिल जाता है।

ये सेना व अर्द्धसैनिक बलों में वरिष्ठ पदों पर रह रहे लोगों से लायजनिंग कर कैंटीन सुविधा का स्वहित में लाभ उठाते है।

क्या ये गैर-कानूनी नहीं, ये भ्रष्टाचार नहीं है, ऐसे लोगों को आप क्या पत्रकार कहेंगे, फैसला आप करिये…”

जाहिर है कि श्री मिश्र ने आयना दिखाने वालों को आयना दिखाया है और यह स्पष्ट कर दिया है कि कैमरा कितना भी बड़ा क्यों न हो, असली सच्चाई तो उसकी लेंस में ही छुपी होती है। जिसकी सच्चाई का सहज अंदाजा नीचे की तस्वीरों को देख कर लगा सकते हैं…..

Share Button

Relate Newss:

अश्विनी गुप्ता अपहरण में कुख्यात पूर्व सांसद शहाबुद्दीन को मिले थे ढाई करोड़ रुपये
रघु'राज के लिए शर्मनाक है इस श्रवण कुमार की कठिन पेंशन यात्रा
समझिये भ्रष्टाचार के खिलाफ केदार नाथ का संघर्ष !
कोई नहीं ले रहा ललमटिया कोल खदान के विस्थापितों की सुध !
नोटबंदी को लेकर नीतिश से आगे निकली ममता
वरिष्ठ पत्रकार कृष्ण बिहारी मिश्र पर FIR को लेकर फेसबुक पर कड़ा विरोध जारी
भ्रष्ट बीडीओ की गिरफ्तारी का मामला खोल रही रघु’राज की जीरो टालरेंस की पोल !   
आरएसएस से दूरी के बीच बोले बिहारी बाबू- भाजपा पहली और आखिरी पार्टी
आग की खबर कवरेज के दौरान पत्रकारों से मारपीट, जान से मारने की धमकी
रांची रेड क्रॉस बैंक में बेरोक-टोक 10 वर्षों से जारी है यह काला कारोबार
जन लोकपाल की वेदी पर दिल्ली की केजरीवाल सरकार कुर्बान
हेल्थ के लिए काफी खतरनाक है मैगी नूडल
जनप्रतिनिधि निकाल रहे नालंदा में शराबबंदी की हवा, मुखिया और पैक्स अध्यक्ष समेत 7 धराये
गलत साबित हो चुके हैं ऐसे 'पेड एग्जिट पोल' के नतीजे
संसद में चर्चा हुई तो पहले पन्ने पर छपा तबरेज, पहले होता था उल्टा !

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Loading...
loading...