सुशासन बाबू के कुशासित नालंदा में यूं ‘कैद’ हुआ जमशेदपुर का टीवी रिपोर्टर

Share Button

बिहार में सुशासन बाबू की सरकार है। नालंदा उनका गृह जिला है। यहां कायम सुशासन का एक नमूना देखिये। ईद मनाने अस्थावां थाना अवस्थित अपने पैत्रिक गांव गये झारखंड के जमशेदपुर के टीवी रिपोर्टर आरजू बख्श पर गोली चलाई गई। जान मारने का प्रयास किया गया। पीड़ित पत्रकार ने थाने में शिकायत दर्ज कराई। पुलिस ने आरोपियों को दबोचने की दिशा में हरसंभव प्रयास करने का दावा किया। लेकिन ताजा हाल है कि नामजद आरोपी लोग पंचायत के एक अपराधिक छवि के पूर्व मुखिया के साथ गांव की गली में खुल्लेआम सशस्त्र घूम रहा है। उधर भयभीत आरजू वख्श घर से बाहर नहीं निकल पा रहा है। जब जमशेदपुर के उसके कई पत्रकार साथियों ने गांव से वापस लौट आने की पहल पर सहमे आवाज में कहा कि पुलिस की अगंभीरता से आरोपियों का मनोबल काफी बढ़ा दिख रहा है। वे घर से बाहर निकलते ही जान मारने की धमकी दे रहे हैं। उसे भय है कि गांव से जमशेदपुर लौटने के क्रम में अप्रिय घटना को अंजाम दे सकते हैं।”

राजनामा.कॉम। बिहार के नालंदा जिले के अस्थावां थाना अंतर्गत माफी गांव में जमशेदपुर से ईद मनाने आये  मुंफिस टीवी के रिपोर्टर आरजू बक्श पर असमाजिक तत्वों ने गोली चलाई, जिसमें वे बाल-बाल बच गये।

इस घटना के बाद अस्थावां थाना प्रभारी राकेश कुमार ने बताया था कि आरजू बक्श की शिकायत पर थाने में लिखित शिकायत दर्ज कर ली गई है। पुलिस आरोपियों को दबोचने का हरसंभव प्रयास में जुटी है।

थाना प्रभारी ने यह भी कहा था कि इस घटना के पिछे कोई पुरानी रंजिश की बात अभी सामने नहीं आई है। पूरी पड़ताल के बाद ही घटना के मूल कारण सामने आयेगें। शिकायतकर्ता जिस वार्ड के रहने वाले हैं, वहां  नहीं, बल्कि दूसरे वार्ड में चुनाव हो रहा है।

घटना है कि आरजू बक्श गांव में परवेज अहमद के घर शादी समारोह से रात्रि 8 45 बजे लौट रहे थे, तभी पोल्ट्री फार्म के पास अचानक अकील अहमद और लाडन खान नामक दो लोग, जो पहले से ही घात लगा बैठे थे। आरजू बक्श के वहां पहुँचते हीं दोनो ने दोनों ने हमला कर दिया और पिस्टल सटा मारपीट करने लगे।

इस दौरान आरजू बक्श किसी तरह अपनी जान बचा कर भागने लगे तो उनपर पीछे से 2 गोली चलाई गई, जिसमें वे बाल-बाल बच गये।

बकौल आरजू बक्श, अगर वे अपनी जान बचा कर भागने में सफल होते तो निश्चित तौर पर उनकी हत्या कर दी जाती। इस घटना से उनके पूरे परिवार दहशत में है।

आरजू बक्श द्वारा थाना में दिये गये आवेदन के अनुसार वे गांव के एक मुर्गी फार्म के पास बैठका में इस घटना के पूर्व सुबह करीब 9 बजे वार्ड चुनाव को लेकर आपसी चर्चा कर रहे थे कि अचानक दोनों परिचित आरोपी आकर उलझ गये और गाली-गलौज करते हुये देख लेने की धमकी देकर चले गये। उसके बाद एक शादी से लौटने के क्रम में रात करीव साढ़े आठ बजे उन पर जानलेवा हमला किया गया।

खबर है कि इस वारदात की पड़ताल करने बिहारशरीफ डीएसपी निशित प्रिया भी गांव पहुंची हैं। फिर भी आरोपियों के हौसले बुलंद हैं। आरोपियों का कहना है कि जब 302 के केस में कुछ नहीं हुआ तो ई मीडया-टीडिया क्या है।

Share Button

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Loading...