सुर्खियों में हैं बिहार कैडर के IPS अमित लोढा की पुस्तक ‘बिहार डायरीज’

Share Button

वर्तमान में केन्द्रीय प्रतिनियुक्ति पर गए  आइपीएस अमित लोढा इन दिनों सीमा सुरक्षा बल नार्थ के डीआईजी पद पर तैनात हैं। उनकी पदस्थापना राजस्थान के बार्डर इलाका जैसलेमेर में है……”

पटना (विनायक विजेता) । बिहार कैडर के 1998 बैच के आईपीएस अधिकारी अमित लोढ़ा की स्वलिखित पुस्तक ‘बिहार डायरीज’ इन दिनों चर्चा में है।

देश के कई शहरों में लोग खासकर वैसे युवा वर्ग जो यूपीएससी परीक्षा की तैयारी कर रहे हैं इसे खरीदने के लिए किताब की दूकानों पर लंबी कतार में खड़े देखे जा रहे हैं।

अमित लोढ़ा इन दिनों अपनी लिखी किताब ‘बिहार डायरीज’ से काफी चर्चा में हैं। हांलाकि यह उनकी पहली लिखी किताब है। डीआईजी की लिखी इस किताब को काफी सराहना मिल रही है। किताब प्रतिष्ठित पेंग्विंग पब्लिकेशन द्वारा प्रकाशित की गई है।

पिछले दिनों दिल्ली में हुए एक समारोह में क्रिकेटर वीरेंद्र सहवाग ने इस किताब का विमोचन किया है। किताब को अभिनेत्री ट्विंकल खन्ना, राणा दग्गुबाती सहित कई फिल्मी सितारों ने सराहा है।

इस पुस्तक में यह दिखाया गया है कि अगर किसी पुलिस अधिकारी के पास आत्मविश्वास हो तो कोई भी काम दुर्लभ और रास्ते दुर्गम नहीं हैं।

इस किताब की कहानी यहीं नही रुकती  फिल्मकार नीरज पांडेय इस रोमांचक पुस्तक पर एक फिल्म की प्लानिंग कर रहे हैं। अमित लोढ़ा की सच्ची घटनाओं पर आधारित  यह किताब टॉप पोजीशन में पहुंच गई है। लोगों को इसे खरीदने के लिए इंतजार करना पड़ रहा है।

‘बिहार डायरी’ एक युवा, निर्भीक और उग्र और ‘फायर ब्रांड ’ माने जाने वाले एक आईपीएस अधिकारी  की खतरनाक पेशेवर अपराधियों के बीच की लड़ाई को स्पष्ट रूप से बयां करती है।

यह पुस्तक अमित लोढ़ा के कार्यकाल के दौरान की गयी उनकी कार्रवाइयों की पूरी दास्तां हैं। अमित लोढ़ा ने बिहार के सबसे खतरनाक गिरोहों में से एक विजय सम्राट को गिरफ्तार किया था। वह जबरन वसूली, अपहरण और लोगों के नरसंहार के लिए कुख्यात था।

‘बिहार डायरी’ में उन्होंने अपने तमाम ऑपरेशंस के बारे में विस्तार से रोमांचक अंदाज में बताया है। किताब में बताया गया है की कैसे वे अपराधियों को पकड़ने के लिए तीन पड़ोसी राज्य में बिना रुके बिना थके अपने कारनामों को अंजाम देते रहे। अपनी पेशेवर चुनौतियों के बीच कैसे उनका सामना  करते हैं।

 अमित लोढा को गैलेन्ट्री के लिए प्रतिष्ठित राष्ट्रपति पुलिस पदक और आंतरिक सुरक्षा पदक से सम्मानित किया जा चुका है। कुछ माह पूर्व उन्हें गृह मंत्री राजनाथ सिंह द्वारा भी सम्मानित किया जा चुका है।

अमित टेनिस और स्क्वैश खेलना पसंद करते हैं। वे किशोर कुमार के जबर्दस्त प्रशंसक हैं। कई अभिनेताओं, खिलाड़ियों ने भी इस पुस्तक के बारे में सकारात्मक टिप्पणी कर लोढा को बधाई दी है। ऐसे अभिनेताओं में अक्षय कुमार व बैडमिटन खिलाड़ी फूलेला गोपीचंद भी शामिल हैं।

अमित लोढा जल्द ही अपनी यह किताब बिहार के डीजीपी सहित वरीय पुलिस और प्रशासनिक अधिकारियों को भी देने वाले हैं।

अमित लोढा ने अपने फेसबुक वॉल पर बीते 3 सितम्बर को अपनी पुस्तक ‘बिहार डायरीज’ की चर्चा करते हुए अपने उन सभी मित्रों का धन्यवाद ज्ञापन किया है, जो मित्र या शुभचिन्तक उनके इस ‘बेस्ट सेलिंग बुक‘ के लिए बधाई दी है।

Share Button

Related Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.