सुरेन्द्र कुमार सिंह चांस की कविताः एक गीत समाज के अंतिम के लिए

Share Button

तोड़के तारे लाया हूँ

तुम गुमसुम गुमसुम बैठे हो

एक बार ही बोलो ना

तेरे लिए लाऊँ क्या।

माना बहुत सताये हो

दुनिया से ठुकराये हो

हंसी ख़ुशी मुस्कान दिल्लगी

सब कुछ गवां के आये हो

पर इतना ही क्या कम है

कितना सुंदर जीवन है

मैं भी इस पर रीझ गया

अपनी दुनिया भूल गया

आशा ढूंढ़ के लाया हूँ

तुम उलझे उलझे बैठे हो

एक बार ही बोलो ना..

चलो तो हम भी चलते हैं

तूफानों से लड़ते हैं

अँधेरे के इस जंगल में

एक दिया बन जलते हैं

उठो तो वादा करते है

बात पते की करते है

सपनों की जगमग दुनिया में

एक हकीकत बनते हैं

गागर भरके लाया हूँ

तुम प्यासे प्यासे बैठे हो

एक बार ही बोलो ना

तेरे लिए लाऊँ क्या।

यह दुनिया एक मेला है

चंचल मन का खेला है

फूल उगें है सपनो के

सपनो का ही रेला है

दिन था रातेँ आयीं हैं

आयीं है तो जाना है

ये मेरा उदघोष नही है

ये दस्तूर पुराना है

जीवन ढूंढ़ के लाया हूँ

तुम सहमे सहमे बैठे हो

एक बार ही बोलो ना

तेरे लिए लाऊँ क्या।

Share Button

Relate Newss:

देशभक्ति की चेतना जगाएगा राष्ट्र गान
आग लगी हमरी झोपड़िया में-हम गावैं मल्हार
चोर तुम भी,चोर हम भी
 जिन्दगी झण्ड बा....फिर भी घमण्ड बा....
बिल्ली और चूहे पर बने रोचक मुहावरे
'साहित्य सम्मेलन शताब्दी समारोह' में सम्मानित हुए साहित्यकार मुकेश 
पूरन सरमा का व्यंग्यः मेरी परेशानियां !
काले धन की काली लड़ाई, राम दुहाई राम दुहाई
पंचतंत्र की बातः चतुर बिल्ली
कोई फर्क नहीं पड़ता, राजा रावण हो या राम !
पत्रकारिता से मुश्किल काम है राजनीति :आशुतोष
आलोक श्रीवास्तव को ‘राष्ट्रीय दुष्यंत कुमार अलंकरण’ सम्मान
डॉ. ऋता शुक्ला, डॉ.महुआ मांजी समेत 14साहित्यकार होंगे सम्मानित
डमी मीडिया का समाजवाद
रांची प्रेस क्लब इलेक्शन वनाम हरिशंकर परसाई की ‘भेड़ें और भेड़ियें ’

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Loading...
loading...