सुनो सुनो, सुनो सब सुनो

Share Button

madhukarपुलिस ने मेयर रमा खलखो की गिरफ्तारी की रणनीति बनायी है। आज पुलिस उन्हें गिरफ्तार करने उनके घर जाएगी, कल उनके ठिकानों पर जाएगी, परसों उनके मकानों पर जाएगी, तरसों दार्जीलिंग जाएगी। इस खबर को मीडिया में लहका देना है। ताकि लोगों को पता चल जाए कि पुलिस कितनी मेहनत कर रही है।

एक पत्रकार मुकेश भारतीय ने एक का परदाफाश किया, पुलिस आधी रात को उसके घर पहुंची और दबोच लिया। आखिर पुलिस काम कर रही है, यह तो बताना था।

पुलिस पूर्व मंत्री सत्यानंद भोक्ता को खोज रही है। पूर्व मंत्री नलिन सोरेन के घर पर कई बार जा चुकी है। सीता सोरेन को भी लगातार खोज रही है। पर वह मिल ही नहीं रही है। उसके पहले हत्या के मामले में सावना लकड़ा को भी पुलिस रोज दबोचने की रणनीति बनाती थी, लेकिन रमा खलको, सावना लकड़ा, नलिन सोरेन, सत्यानंद भोक्ता यह बात समझते नहीं कि हर नागरिक को कानून की इज्जत करनी चाहिए। इसलिए सारा गड़बड़झाला है।

संवैधानिक पदों पर रहकर इन सब ने संविधान की ऐसी-तैसी की है। लेकिन वो कहते हैं कि वे कानून की तो भरपूर इज्जत करते हैं इसलिए पुलिस के हत्थे नहीं चढ़ते। वैसे भी जेलों में भीड़भाड़ है। ये सब संविधान के रखवाले रहे हैं। जेल में जा कर सरकार का खर्च क्यों बढ़ाएं। न सरकार यह बात समझ रही है और न पुलिस। लेकिन वे जनप्रतिनिधि रहे हैं अत: जनता की गढ़ी कमाई का दालभात नहीं खाना चाहते। वे जनता का भी ख्याल रखते हैं।

वैसे भी जेल में दिग्गजों की भरमार है। जो पैसे के बूते बीमार पड़ कर रिम्स में काटेज हथिया लेते हैं और ऐश करते हैं। उन्हें अपनी जनता और उननकी गाढ़ी कमाई की फ्रिक बहुत है, तभी तो हाईब्रिड बीज किसानों के खेतों में नहीं पहुंचने दिया, नहीं तो खेत खराब हो जाता। खेद और कीटनाशक से जमीन बरबाद हो जाती है इसलिए राज्यहित, किसानहित में उन्होंने खाद, बीज, कीटनाशक रास्ते से ही गायब करा दिया।

रमाजी को बंधुजी लाये, उन्होंने त्याग दिया तो सुबोध भैया ने उन्हें सांत्वना दी। सुबोध भैया, सुनील भैया, निरंजन भैया ने उनकी सुधि न ली होती तो पांच साल शासन करने के बाद कहां जातीं। और ये पब्लिक है, सब जानती है। बिना पैसे के भला वोट मिलता है? विनोद सिंह को छोड़ कर कोई ये बता दे कि बिना पैसे के कहीं वोट मिलता है।

…….. वरिष्ठ पत्रकार श्री मधुकर अपने फेसबुक वाल पर

Share Button

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Loading...