सुनियोजित प्रतीत होता है जंतर-मंतर का हादसा

Share Button

delhi_susite_farmarराजनामा.कॉम। राजस्थान के दौसा जिले निवासी कथित किसान गजेंद्र सिंह कल्याणवत की मृत्यु 2.55 मिनट पर हुई, लेकिन आप की अलका लंबा ने श्रद्धांजलि 2.20 पर ही दे दिया दी।

यही नहीं दिल्ली के सीएम अरबिंद  केजरीवाल को पहले से ही पता था की किसान दौसा-राजस्थान का है।  अपने  भाषण में अरविन्द केजरीवाल ने कहा व्यक्ति दौसा से है।

सबाल उठना लाजमि है कि केजरीवाल को यह सब कैसे पता चल गया था। जबकि मृतक की जेब से सुसाइट नोट  अस्पताल  में उनके भाषण खत्म होने के बाद निकाला गया था।

delhi_susite_farmar (10)यह फोटो इस बात का गवाह है कि उसे झाड़ू देकर पेड़ पर चढाया गया। वह जब फंदा बना रहा था, तब मीडिया सहित आम आदमी पार्टी के कई नेता-कार्यकर्ता लोग शूटिंग करने में व्यस्त रहे। ‘चढ़ जा बेटा सूली’ की तर्ज तालियां बजाने में मशगुल रहे।

delhi_susite_farmar (15)यहां तक कि दिल्ली की डिप्टी सीएम मनाष शिशोदिया और प्रवक्ता संजय सिंह सरीखे नेता भी रैली मंच से मदाड़ी का खेल का आनंद ले रहे थे।

कई प्रत्यक्षदर्शियों के अनुसार जिस पेड़ पर चढ़ कर हंगामा कर रहा था, उसके नीचे से कुछ लोग आवाज दे रहे थे की गांठ कसकर मत बांधना वरना सच में मर जाओगे।

दरअसल मीडिया की चकाचौंध में लोगों ने गजेंद्र सिंह कल्याणवत को उकसाने का काम किया और सब कुछ को मनोरंजन के तौर पर देखा।

हो सकता है कि दिखने-बिकने के चक्कर में लापरवाही हुई और जंतर-मतंर का एक पेड़ ऐतिहासिक अनहोनी का गवाह बन गया। ……… मुकेश भारतीयaap_susite_farmar

Share Button

Related Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.