सुदेश महतोः पांच साल में पांच गुना कमाया

Share Button

राजनामा.कॉम।  किसी ने सच कहा है कि राजनीति से बेहतर धंधा कोई नहीं है। अगर यह धंधा चल जाये तो फिर आदमी दिन-दूनी और रात-चौगुनी तरक्की करती है।

sudeshइस मामले में झारखंड के प्रायः नेताओं की किस्मत खूब साथ देती है। अब देखिये न। आजसू के सुप्रीमो एवं निर्दलीय मधु कोड़ा औऱ भाजपा के अर्जुन मुंडा की सरकार में उप मुख्यमंत्री समेत कई मलाईदार विभागों के मंत्री रहे सुदेश महतो की संपति में पिछले पांच वर्षों में 5 गुनी बढ़ी है। यानि कि हर साल सौ फीसदी की बढ़ोतरी। 

साधारण परिवार से आने वाले श्री महतो ने वर्ष 2009 के आम विधानसभा चुनाव के समय 1 करोड़ 67 लाख रुपये मूल्य की चल-अटल संपति थी। वहीं वर्ष 2014 के आसन्न लोकसभा चुनाव तक सात करोड़ 86 लाख 24 हजार रुपये मूल्य की हो गई है।

उन्होंने यह जानकारी रांची लोकसभा सीट से अपने नामाकंन के वक्त दाखिल शपथ पत्र में दी है। उनकी संपति की बाबत वर्ष 2009 के आकड़े सिल्ली विधानसभा के नामांकन के समय दाखिल शपथ पत्र की है। संपति के इन दोनों ब्योरों में उनकी पत्नी की संपति भी शामिल है।

शपथ पत्र के अनुसार वर्ष 2009 में सुदेश महतो के पास कृषि योग्य भूमि भी नहीं थी लेकिन, वर्ष 2014 तक उनके पास करीब 16 लाख रुपये मूल्य के कृषि योग्य भूमि हो गई है।

यही नहीं, सुदेश महतो की पत्नी नेहा महतो के पास वर्ष 2009 में कुल नकदी और निवेश 49 लाख 79 हजार का था, जो 2014 के आसन्न लोकसभा चुनाव तक बढ़ कर 3 करोड़ 93 लाख 50 हजार हो गई है।

 यहां पर उल्लेखनीय है कि धन संपदा कमाने के मामले में उन्होंने पूर्व केन्द्रीय मंत्री एवं रांची सीट से लगातार 3 बार सांसद रहे कांग्रेस के प्रत्याशी सुबोधकांत सहाय को भी पिछे छोड़ दिया है।

वर्ष 2009 के आम लोकसभा चुनाव के समय श्री सहाय के पास जहां 2 करोड़ 63 लाख 79 हजार रुपये मूल्य की चल-अटल संपति थी, जो वर्ष 2014 के आसन्न लोकसभा चुनाव तक बढ़कर 5 करोड़ 88 लाख 95 हजार रुपये मूल्य की हो गई। जोकि लगभग दूगनी अवस्था में है।

Share Button

Relate Newss:

पिटाई से नहीं, व्यवस्था की नालायकी से हुई तबरेज की मौत
ग्रेटर नोयडा की शर्मनाक करतूत, दलित दंपति सरेआम नंगा!
सीएम नीतीश के हरनौत में धरने पर बैठे पत्रकार और नकारा बने उनके चहेते नालंदा डीएम-एसपी
अमरीका: चर्च में नंगा होकर उपदेश बखारता है पादरी
प्रिंसिपल विहीन नालंदा इंजीनियरिंग काॅलेज में शिक्षकों का भी भारी टोटा
मशहुर टीवी जर्नलिस्ट रवीश कुमार ने लिखा- हम फ़कीर नहीं हैं कि झोला लेकर चल देंगे
शहरी 4,400 रु. तो ग्रामीण 2,900 रु. देते हैं हर साल रिश्वत!
श्रम विभाग का आदेश मानने को बाध्य नहीं है रांची एक्सप्रेस प्रबंधन !
एक प्रेम-प्रसंग को लेकर यूं गेम खेल गई पटना-नालंदा की कंकड़बाग-चंडी पुलिस
बिहारशरीफ सदर अस्पताल के कैदी वार्ड में पुलिस-कैदी का यह कैसा सुराज? देखिये वीडियो

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Loading...