सीएम नीतीश के हरनौत में धरने पर बैठे पत्रकार और नकारा बने उनके चहेते नालंदा डीएम-एसपी

Share Button

हरनौत (राजनामा.कॉम)। सीएम नीतीश कुमार के गृह जिले के नालंदा के हरनौत पुलिस के द्वारा पत्रकार के साथ की गई बदसलूकी एवं अमानवीय व्यवहार तथा तानाशाह थानेदार के रवैया से नाराज पत्रकार व बुद्धिजीवियों ने बुधवार को थाना के गेट पर धरना दिया।

जानकारी के मुताबिक घटना मंगलवार की रात की है।बीच बाजार स्थित श्री राम जानकी पुरानी ठाकुरवाड़ी में तेरह दिवसीय आत्म कल्याण विश्व शांति शिव शक्ति महायज्ञ का आयोजन किया गया है। जो 22 मई से एक जून तक चलेगा।

कार्यक्रम को लेकर आयोजन समिति के द्वारा चंडी मोड़ के समीप मेला का भी आयोजन किया गया है।जिसमें वृन्दावन से आये रास मंडली के द्वारा रासलीला दिखाया जा रहा है।साथ ही कई प्रकार के झूला का भी आयोजन किया गया है।

दैनिक हिंदुस्तान के पीड़ित पत्रकार मुकेश कुमार ने बताया कि मंगलवार के रात आयोजन समिति के सहायता केंद्र पर लगी कुर्सी पर बैठकर मेला पर नजर रखे हुए थे।इसी दौरान मेला ड्यूटी में लगे पांच पुलिसकर्मियों के द्वारा वहाँ आकर जबरन डंडा दिखाते हुए उठने को कहा गया।

पीड़ित पत्रकार के द्वारा परिचय बताने के बावजूद भी पुलिसकर्मियों ने कालर पकड़ते हुए मारपीट करने का कोशिश की। संयोग से मेला आयोजक के द्वारा आकर बीच बचाव करने के बाद पुलिसकर्मी वहाँ से हटे। घटना की जानकारी तुरंत ही थानाध्यक्ष सहित वरीय पुलिस पदाधिकारी को भी दी गई।

बावजूद घटना के दस घंटा बीत जाने के बाद भी पीड़ित का सूझबूझ लेना मुनासिब नहीं समझा। जिससे नाराज पत्रकार मुकेश कुमार थाना के समीप धरना पर बैठ गए।जिसकी जानकारी अन्य पत्रकारों व बुद्धिजीवियों को मिली।वे भी पीड़ित पत्रकार के समर्थन में अनिश्चित कालीन धरना पर बैठ गए।

यह भी पढ़े  न कोई नैतिकता और न कोई समर्पण !

सभी लोग घटना में संलिप्त पुलिस व थानाध्यक्ष का निलंबन की मांग कर रहे थे।घटना की जानकारी के बाद एसडीपीओ इमरान परवेज भी धरना स्थल पर पहुंचे।

उन्होंने पीड़ित पत्रकार से लिखित रूप में संबंधित पुलिसकर्मियों के खिलाफ आवेदन देने के लिये कहा। पुलिस व थानाध्यक्ष पर निलंबन की कार्यवाई होने तक धरना चलती रहेगी। आज 29 मई की देर शाम समाचार लिखने तक वरीय पुलिस अधिकारी के द्वारा कोई कार्यवाई नहीं कि गई है।

Share Button

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Loading...