सरेआम क्लीनिक खोल कर यूं शोषण कर रहे हैं झोलाछाप

Share Button

ormanjhi clinik parcha1कहां से मिलता है शर्तिया ईलाज करने वाले डॉक्टरों को प्रमाण पत्र

– मुकेश भारतीय –

ओरमांझी (रांची)। अंधविश्वास और अशिक्षा के बीच प्रशासनिक उदासीनता के कारण शहरों का शोषण अब गांवों को जकड़ रहा है। यहां एक चिकित्सक सैकड़ों गंभीर और गुप्त रोग का ईलाज करता है। जबकि, देश-प्रांत की किसी सरकार की ओर से ऐसी चिकित्सीय प्रशिक्षण या डिग्री प्रदान नहीं की जाती है।

हाल ही में ओरमांझी के चप्पे-चप्पे खासकर स्कूल-कॉलेजों, हाट-बाजारों, सार्वजनिक चौक-चौराहों पर एक पर्चा से पटा पड़ा है। वह पर्चा है डॉ. आर कुमार द्वारा संचालित शक्ति क्लीनिक का। जिसका पता चकला मोड़, ग्रामीण बैंक के बगल में ब्लॉक चौक, ओरमांझी बताया गया है।

इस पर्चा में दर्ज पता की पड़ताल करने पर स्पष्ट हुआ कि यह क्लीनिक ब्लॉक चौक से ठीक पहले एन.एच.-33 अवस्थित अंजुमन इस्लामिया भवन में संचालित है। क्लीनिक में एक साधारण युवक के आलावे कोई खास इन्फ्रास्ट्रक्चर देखने को नहीं मिला। कुछ दवा की बोतलें रखी हुई मिली।

 पर्चा में दर्ज मोबाईल पर संपर्क करने पर एक युवक ने खुद को डॉ. आर. कुमार का प्रचारक बताते हुए बताया कि पर्चा में जो कुछ भी लिखा है, वह बिल्कुल सही है। यहां मात्र एक सौ रुपये की फीस लेकर उल्लेखित सभी रोगों का शर्तिया ईलाज किया जाता है। उसने डॉक्टर की डिग्री को वैध बताया और रह जांच की कसौटी पर खरा उतरने की चुनौती दी।

अब सबाल उठता है कि मात्र ती खुराक में सुपर सेक्स फार्मूला के द्वारा भरपूर ताकत जोश जवानी पाने के स्लोगन के साथ गठिया, साइटिका, जोड़ो का दर्द, सूजन, स्त्री रोग, पेट रोग, डायबिटिज, गैसट्रीक, दमा, बाबासीर, चर्म रोग, सफेद दाग, सोरयासिस जैसे रोगों के आलावे शीघ् पतन, स्वप्नदोष, लिंग का टेढ़ापन, छोटापन, नामर्दी, शारीरिक कमजोरी, धातु रोग, निःसंतान, शुक्रकीट की कमी, धातुक्षीणता, पेशाब के साथ वीर्य आना व जलन, सिफलिस, गणौरिया से मुक्ति दिलाने एवं लिंगवर्धक मशीन बेचने का लाईसेंस इसे कहां से मिला।

दरअसल, शक्ति क्लीनिक जैसे केन्द्र खोल कर बहरुपियों द्वारा अशिक्षित और अंधविश्वासी लोगों को ठगने का खुला खेल है। जरुरत है लोगों को इनके चंगुल से बचाने की। यहां बात तो होती है मात्र सौ रुपये की फीस में शर्तिया ईलाज की। लेकिन एक बार जो इनके चंगुल में फंस जाते हैं, उन्हे बाहर निकलना काफी मुश्किल होता है। कई लोगों की जाने तक चली जाती है।

पुलिस-प्रशासन को चाहिये कि डंके की चोट पर सरेआम चलाये जा रहे ऐसे केन्द्रों और उसके फर्जी डॉक्टरों के खिलाफ तत्काल कड़ी कार्रवाई करे और अपने समुदाय हित के सर्मांगिन विकास से जुड़े अंजुमन इस्लामिया जैसे संगठन अपने आशियाना में पनाह न दे।

Share Button

Related Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.